Delhi Violence: पुलिस ने कोर्ट में 3 और चार्जशीट कीं दाखिल, हिंसा फैलाने के लिए बनाया गया था WhatsApp ग्रुप
Delhi-Ncr News in Hindi

Delhi Violence: पुलिस ने कोर्ट में 3 और चार्जशीट कीं दाखिल, हिंसा फैलाने के लिए बनाया गया था WhatsApp ग्रुप
WhatsApp ग्रुप में 125 लोगों को किया गया था शामिल.

हिंसा के मामले में दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच द्वारा कड़कड़डूमा कोर्ट (Karkardooma Court) में तीन और चार्जशीट दाखिल की गयी हैं. साथ ही यह खुलासा भी हुआ है कि हिंसा फैलाने के लिए 125 लोगों को एक व्हाट्सएप ग्रुप में शामिल किया गया था.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. दिल्‍ली हिंसा को लेकर दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच ने आज कड़कड़डूमा कोर्ट (Karkardooma Court) में तीन और चार्जशीट (Chargesheet) दाखिल की हैं. जी हां, बृजपुरी पुलिया पर 25 फरवरी 2020 को हिंसा के दौरान हुई तीन हत्याओं की चार्जशीट दिल्ली क्राइम ब्रांच ने मंगलवार को कोर्ट में दाखिल करते हुए यह दावा किया कि एक समुदाय के लोग दूसरे समुदाय के लोगों की दुकानों और घरों में आग लगा रहे थे. जबकि विरोध में दूसरे समुदाय के लोग भी घरों से निकले, तो हिंसा भड़की और दोनों तरफ से पत्थरबाजी के साथ आगजनी हुई. इस दौरान बृजपुरी रोड गली नंबर-10 चावला किराना स्टोर के करीब एक समुदाय की भीड़ ने तीन युवकों को घेर लिया और उनको पीट-पीटकर अधमरा कर दिया गया जिससे हॉस्पिटल में उनकी इलाज के दौरान मौत हो गई. मृतकों में इंदिरा विहार निवासी अशफाक हुसैन (22), न्यू मुस्तफाबाद निवासी जाकिर (24) और बृजपुरी निवासी महताब (22) शामिल था.

सीसीटीवी फुटेज से बनी बात
दरअसल, तीनों हत्याओं में दयालपुर थाने में अलग-अलग मुकदमे दर्ज हुए, जिसकी तफ्तीश बाद में क्राइम ब्रांच की एसआईटी को सौंप दी गई. छानबीन के दौरान इलाके के सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए. संदिग्धों और गवाहों के कॉल डिटेल रिकॉर्ड का अनालिसिस किया गया. जबकि टेक्निकल सर्विलांस और चश्मदीदों की पहचान के आधार पर पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. इनकी पहचान अशोक, अजय, शुभम, आरिफ और जितेंद्र के रूप में हुई है. पांचों अभी न्यायिक हिरासत में जेल में हैं. हालांकि क्राइम ब्रांच हिंसा में कई ओर गिरफ्तारियां करेंगी.

बनाया गया था व्हाट्सएप ग्रुप...
>> इस ग्रुप में 125 लोगों को किया गया था शामिल.


>> (कट्टर हिन्दू एकता ) नाम से बनाया गया था यह ग्रुप_
>>यह ग्रुप 25 और 26 फरवरी को हुई हिंसा के एक दिन पहले यानी 24 फरवरी को बनाया गया था.
>> एक व्हाट्सएप ग्रुप के मेंबर ने कहा था कि मैं गंगा विहार का रहने वाला हूं.अगर कोई दिक्कत आए, लोग कम पड़े तो मुझे बताना.मैं पूरी फौज लेकर आ जाऊंगा.
>>हमारे पास सब समान है, गोली बंदूक सबकुछ.अभी-अभी तुम्हारे भाई ने दो मारे भी हैं और नाले में फेंका है.
>>चार्जशीट में लिखा है 252 और 6 फरवरी को हिंसा के दौरान जौहरीपुर नाले के पास से जो लोग गुजर रहे थे उनसे यह व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़े उपद्रवी उनका नाम पूछ रहे थे, फिर जय श्री राम के नारे लगाने को बोलने लगे, जिसने जय श्री राम का विरोध किया उसकी हत्या कर उसके शव को नाले में बहा दिया था.
>>चार्जशीट के मुताबिक व्हाट्सएप ग्रुप का मुख्य आरोपी अभी तक फरार है.
>>क्राइम ब्रांच ने व्हाट्सएप ग्रुप और हत्या से जुड़े एक आरोपी की सबसे पहले गिरफ्तारी की और तब उसका मोबाइल फोन बरामद हुआ था, तब जाकर हत्याओं को अंजाम देने के लिए इस व्हाट्सएप ग्रुप का खुलासा हुआ था.
>>3 मार्च 2020 को गोकुलपुरी थाने में दर्ज तीन एफआईआर पर यह चार्जशीट दायर हुई. तीनों एफआईआर में 9 लोगों को आरोपी बनाया गया है और ये सभी 9 आरोपी न्यायिक हिरासत में हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading