दिल्ली हिंसा: शाहरुख पठान की अर्जी पर कड़कड़डूमा कोर्ट में सुनवाई आज, खुद को बताया शांतिप्रिय नागरिक
Delhi-Ncr News in Hindi

दिल्ली हिंसा: शाहरुख पठान की अर्जी पर कड़कड़डूमा कोर्ट में सुनवाई आज, खुद को बताया शांतिप्रिय नागरिक
शाहरुख पठान ने अर्जी लगाई है कि वो एक शांतिप्रिय और क़ानून का पालन करने वाला नागरिक है. (फाइल फोटो)

शाहरुख पठान (Shahrukh Pathan) ने अपनी अर्जी में कोर्ट से कहा है कि उसे हाई रिस्क कैदियों के साथ मंडोली जेल के कॉम्प्लेक्स नंबर 4 में रखा गया है, लेकिन पुलिस ने उसे बताया है कि उसे जल्द ही सामान्य जेल में शिफ्ट किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 29, 2020, 12:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली हिंसा (Delhi violence) मामले में पुलिस पर पिस्टल लहराने वाले आरोपी शाहरुख पठान (Shahrukh Pathan) की अर्जी पर बुधवार को कड़कड़डूमा कोर्ट (Karkardooma Court) सुनवाई करने वाला है. कड़कड़डूमा कोर्ट में शाहरुख पठान ने अर्जी लगाई है कि वो एक शांतिप्रिय और क़ानून का पालन करने वाला नागरिक है. उसे अपने देश के कानून पर भरोसा है.

शाहरुख पठान ने अपनी अर्जी में कोर्ट से कहा है कि उसे हाई रिस्क कैदियों के साथ मंडोली जेल के कॉम्प्लेक्स नंबर 4 में रखा गया है, लेकिन पुलिस ने उसे बताया है कि उसे जल्द ही सामान्य जेल में शिफ्ट किया जाएगा. शाहरुख पठान ने कोर्ट में लगाई अर्जी में कहा है कि उसे हाई रिस्क कैदियों के बीच से शिफ्ट न किया जाए, क्योंकि सामान्य जेल में कैदियों के बीच उसकी जान को ख़तरा हो सकता है.

ताहिर हुसैन को कोर्ट से बड़ा झटका
बता दें कि दिल्ली हिंसा मामले में मंगलवार को आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन (AAP Councillor Tahir Hiussain) को कड़कड़डूमा कोर्ट से बड़ा झटका लगा है. कोर्ट ने आरोपी ताहिर हुसैन की याचिका खारिज कर दी थी. आरोपी ताहिर हुसैन ने अपनी याचिका में कहा था कि दिल्ली पुलिस अपने अधिकारों और पावर का गलत इस्तेमाल कर रही है. उसके खिलाफ दर्ज छठी एफआईआर की जानकारी उसे नहीं दी गई थी. सोमवार को कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि आरोपी ताहिर हुसैन की याचिका में कोई मेरिट नहीं है.
मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट पुरुषोत्तम पाठक ने जांच अधिकारी या थाना प्रभारी या उत्तरी-पूर्वी दिल्ली के पुलिस उपायुक्त या दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा के उपायुक्त के खिलाफ जरूरी कानूनी कार्रवाई करने का अनुरोध करने वाली अर्जी खारिज कर दी थी. ताहिर हुसैन ने आरोप लगाते हुए कहा था कि दिल्ली पुलिस ने उसके खिलाफ दर्ज छठी प्राथमिकी के संबंध में अदालत को सूचना नहीं दी है. साथ ही उसने दिल्ली पुलिस पर अपने खिलाफ झूठे और फर्जी लंबित मामले दिखाने का आरोप लगाया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading