Delhi violence: कड़कड़डूमा कोर्ट ने जांच अधिकारी को लगाई फटकार, आरोपी को दी जमानत
Delhi-Ncr News in Hindi

Delhi violence: कड़कड़डूमा कोर्ट ने जांच अधिकारी को लगाई फटकार, आरोपी को दी जमानत
दिल्ली हिंसा मामले में कड़कड़डूमा कोर्ट ने दिल्ली पुलिस के जांच अधिकारी को फटकार लगाया है.

दिल्ली हिंसा (Delhi violence) मामले में आरोपी की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुये कड़कड़डूमा कोर्ट (Karkardooma Court) ने जांच अधिकारी (investigation officer) को जमकर पटकार लगाई है. साथ भविष्य में गलती ना करने की चेतावनी दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 11, 2020, 1:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली हिंसा (Delhi violence) मामले में एक आरोपी की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए कड़कड़डूमा कोर्ट (Karkardooma Court) ने दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के जांच अधिकारी (investigation officer) पर जताई नाराजगी है. कोर्ट ने आदेश में कहा कि जांच अधिकारी को कोर्ट में जवाब दायर करते हुए सावधानी बरतनी चाहिए. कोर्ट ने कहा है कि आईओ ने अपने जवाब में कहा है कि चश्मदीद ने आरोपी योगेंद्र सिंह को क्राइम स्पॉट पर घर के अंदर दाखिल होते देखा. इस बाबत 161 सीआरपीसी की धारा के तहत बयान भी दर्ज किया गया है.

केजरीवाल पर BJP विधायक ओपी शर्मा ने साधा निशाना, सीएम को बताया हिस्ट्रीशीटर

आईओ ने अपने जवाब में कहा कि ये बातें चार्जशीट में भी लिखी हैं, लेकिन कोर्ट ने जांच अधिकारी के जवाब को गलत पाया है. जिस पर कड़कड़डूमा कोर्ट ने नाराजगी जाहिर करते हुए दिल्ली पुलिस के जॉइंट सीपी ईस्टर्न रेंज को इस आदेश को गंभीरता से देखने के लिए कहा है. साथ ही साथ जांच अधिकारी को भविष्य में सतर्क रहने के लिए कहा है. फिलहाल, कड़कड़डूमा कोर्ट ने आरोपी योगेंद्र को इन्हीं आधार पर 30 हजार रुपये के निजी मुचलके पर सशर्त जमानत दे दी है.



दिल्ली दंगे में 53 लोगों की हुई थी मौत
बता दें कि नागरिकता कानून के समर्थकों और विरोधियों के बीच संघर्ष के बाद 24 फरवरी को उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर, घोंडा, चांदबाग, शिव विहार, भजनपुरा, यमुना विहार इलाकों में सांप्रदायिक दंगे भड़क गए थे. इस हिंसा में 53 लोगों की मौत हो गई थी और 200 से अधिक लोग घायल हो गए थे. साथ ही सरकारी और निजी संपत्तियों को काफी नुकसान पहुंचा था. उग्र भीड़ ने मकानों, दुकानों, वाहनों, एक पेट्रोल पम्प पर आग लगा दी थी.

इस दौरान राजस्थान के सीकर के रहने वाले दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतन लाल की 24 फरवरी को गोकलपुरी में हुई हिंसा के दौरान गोली लगने से मौत हो गई थी और डीसीपी और एसीपी सहित कई पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल गए थे. साथ ही आईबी अफसर अंकित शर्मा की हत्या करने के बाद उनकी लाश नाले में फेंक दी गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज