लाइव टीवी

Delhi Violence: 4 दिन से घर नहीं लौटा बेटा, अस्पतालों के चक्कर काट रही बेबस मां, कहा- कहीं से ला दो मेरा लाल
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 29, 2020, 12:59 PM IST
Delhi Violence: 4 दिन से घर नहीं लौटा बेटा, अस्पतालों के चक्कर काट रही बेबस मां, कहा- कहीं से ला दो मेरा लाल
चार दिन से लापता बेटे की तलाश में भटकती जजबा (फाइल फोटो)

जजबा ने कहा कि 4 दिन से लापता बेटे की तलाश में वह पुलिस स्टेशन (Police Station) से लेकर हर अस्पताल के चक्कर काट रही है, लेकिन उसके बेटे का कहीं पता नहीं चल पाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 29, 2020, 12:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कभी लोकनायक अस्पताल (LNJP) तो कभी गुरु तेगबहादुर अस्पताल (GTB) और कभी रामा सागर अस्पताल. एक मां अपने बेटे की तलाश में अस्पताल दर अस्पताल भटक रही है. लेकिन 4 दिन से बेटे का कुछ पता नहीं चल पा रहा. यह दुख भरी कहानी है समयपुर बादली में रहने वाली जजमा की, जिसका बेटा 25 फरवरी को घर से काम करने के लिए निकला था लेकिन अभी तक घर नहीं लौटा है.

मुस्तफाबाद में करता है मजदूरी का काम
जीटीबी अस्पताल में बेटे की तलाश में आंखों में आंसू लिए हुए एक मां ने बताया कि उनका बेटा मोहसीन समयपुर बादली से मुस्तफाबाद रोजाना मजदूरी का काम करने जाता था. 25 फरवरी को बेटा ऐसा गया कि अब तक नहीं लौटा. उन्होंने कहा, 'उसकी तलाश में मैं अस्पतालों के चक्कर लगा रही हूं, लेकिन अब तक बेटे का कुछ पता नहीं चल पाया. हम पुलिस स्टेशन भी गए. पुलिस ने कहा कि अस्पताल में ढूंढो, वहीं पता चलेगा. लेकिन अस्पतालों के चक्कर लगाने के बाद भी अस्पताल वाले कुछ नहीं बता रहे और तलाश अब तक जारी है.'

news18
चार दिन से लापता है मोहसीन (फाइल फोटो)




'सबसे छोटा और लाडला बेटा है मोहसीन'
कभी रोती हुई, तो कभी खुद को संभालती हुई जजमा कहती हैं कि मुझे सिर्फ मेरा बेटा चाहिए. उन्होंने कहा, 'मेरे तीन बेटे हैं. मोहसीन सबसे छोटा और लाडला बेटा है. लेकिन अब वह चार दिन से कहीं नजर नहीं आ रहा. ना जाने मेरा बेटा कहां चला गया है और कब वापस आएगा.' जजमा ने बताया कि वे लोग कई सालों से दिल्ली में रह रहे हैं. उन्होंने सरकार से मोहसीन को ढूंढने की गुहार लगाई है.

हिंसा के शिकार लोगों की संख्या बढ़ी
बता दें, दिल्ली हिंसा के शिकार वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. शुक्रवार को मौतों का आंकड़ा बढ़कर 42 पहुंच गया. दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. जानकारी के मुताबिक अभी तक (शुक्रवार दोपहर) गुरु तेग बहादुर अस्पताल में 38, लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल में तीन और जग परवेश चंद्र अस्पताल में एक व्यक्ति की मौत हो गई है. हिंसा और उपद्रव में अभी तक 275 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं, जिनका अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है.

ये भी पढ़ें: Delhi Violence: पुलिसवालों की बेरहमी के शिकार युवक ने तोड़ा दम, राष्ट्रगान गाते हुए वीडियो हुआ था वायरल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 29, 2020, 12:44 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर