दिल्‍ली हिंसा में एक और चार्जशीट: PFI कार्यकर्ताओं और कई मौलवियों के संपर्क में थे शरजील इमाम, जामिया में बांटे थे पर्चे
Delhi-Ncr News in Hindi

दिल्‍ली हिंसा में एक और चार्जशीट: PFI कार्यकर्ताओं और कई मौलवियों के संपर्क में थे शरजील इमाम, जामिया में बांटे थे पर्चे
दिल्ली पुलिस द्वारा दायर आरोप पत्र के मुताबिक, शरजील इमाम ने हंगामा और विरोध प्रदर्शन करने के लिए खुद से कई बैठकें की थीं. (फाइल फोटो)

आरोप पत्र में SIT का कहना है कि पिछले साल जब नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में जामिया यूनिवर्सिटी के बाहर और शाहीनबाग में प्रदर्शन चल रहे थे तो शरजील इमाम (Sharjeel Imam) उस वक्‍त PFI के कार्यकर्ताओं के संपर्क में थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 11:01 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. एसआईटी ने दिल्ली हिंसा (Delhi violence) मामले में शरजील इमाम के खिलाफ यहां के एक अदालत में एक और आरोप पत्र (Charge sheet) दायर किया है. एसआईटी ने दिल्ली हिंसा मामले में तफ्तीश के दौरान मिले सबूतों के आधार पर यह आरोप पत्र दायर किया है. इस आरोप पत्र में एसआईटी ने कहा है कि पिछले साल जब नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में जामिया यूनिवर्सिटी के बाहर और शाहीनबाग में प्रदर्शन चल रहे थे, तो शरजील इमाम (Sharjeel Imam) पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के कई संदिग्ध आरोपियों के संपर्क में थे. वो इस संस्था का सहारा लेते हुए एक विशेष धर्म संप्रदाय से जुड़े हजारों लोगों को बरगलाने की कोशिश में जुटे थे.

इसके साथ ही शरजील देश में कई राज्यों में शुरू होने वाले आंदोलन के दौरान चक्का जाम और बड़े स्तर का विरोध प्रदर्शन करने की तैयारी में था. साथ ही इस नए आरोप पत्र में शरजील इमाम के बारे में कई महत्वपूर्ण सबूतों के आधार पर कई संगीन आरोप लगाए गए हैं. दिल्ली पुलिस के मुताबिक, शरजील इमाम पूरे देश के अंदर एक बड़ा मुहिम चलाते हुए नागरिकता संशोधन कानून के नाम पर राष्ट्रीय स्तर पर आंदोलन की शुरूआत करने की फिराक में था. उसे इस बात का भी आभास था कि इससे वह देश भर में काफी चर्चित युवा नेता बन जाएगा. लिहाजा मामले की गंभीरता को देखते हुए शरजील के खिलाफ राजद्रोह का आरोप लगाते हुए कई और संगीन धाराओं के बारे में आरोप पत्र में विस्तार से कोर्ट को जानकारी दी गई है.

आरोप पत्र में शरजील के खिलाफ क्या-क्या हैं आरोप? 
दिल्ली पुलिस द्वारा दायर आरोप पत्र के मुताबिक, शरजील इमाम ने हंगामा और विरोध प्रदर्शन करने के लिए खुद से कई बैठकें की थीं. वह नार्थ ईस्ट दिल्ली सहित पूर्वी दिल्ली की कई मस्जिदों के मौलवियों से बातचीत कर रहे थे. साथ ही गलत बयानी करके और सीएए को गलत तरीके से पेश करके उसका दुष्‍प्रचार करने में लगा था. इससे उस वक्त यह मसला और ज्यादा खराब होने लगा था. इस दौरान शरजील के साथ उसका एक बेहद करीबी मित्र कासिफ भी था. शरजील ने जामिया सहित नार्थ ईस्ट दिल्ली में और निजामु्द्दीन इलाके में जाकर सीएए विरोधी पर्चे भी खुद बांटे थे. इस मामले में दिल्ली पुलिस की टीम ने शरजील इमाम सहित कई अन्य आरोपियों के दर्ज बयान को और कई आरोपियों के खिलाफ इलेक्ट्रॉनिक सबूतों को आधार बनाया है. वहीं, शरजील इमाम की अगर बात करें तो वो फिलहाल दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की रिमांड में हैं. इसी रिमांड के दौरान उनसे पूछताछ की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज