Delhi Violence: दंगों की जांच के लिए 276 लोगों ने CM केजरीवाल को भेजा खत, रखी ये मांग
Delhi-Ncr News in Hindi

Delhi Violence: दंगों की जांच के लिए 276 लोगों ने CM केजरीवाल को भेजा खत, रखी ये मांग
दिल्ली दंगों के जांच की मांग तेज हो गई है. (फाइल फोटो)

Delhi Violence Update: तकरीबन 276 लोगों ने दंगों (Delhi Violence) की जांच के लिए सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) भेजे गए खत पर अपना हस्ताक्षर भी किया है. खत भेजने वालों में पूर्व फौजी अफसरों के अलावा सामाजिक कार्यकर्ता और एकेडमीशियन की भारी संख्या है.

  • Share this:
दिल्ली. नई दिल्ली. उत्तर पूर्वी दिल्ली (North East Delhi) में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर भड़की हिंसा (Delhi Violence) की जांच की मांग तेज हो गई है. दिल्लीवालों ने मुख्यमंत्री केजरीवाल से दंगों के जांच की मांग की है. जांच की मांग करते हुए लोगों ने सीएम केजरीवाल को खत भी भेजा है. बताया जा रहा है कि तकरीबन 276 लोगों ने दंगों की जांच के लिए भेजे गए खत पर अपना हस्ताक्षर भी किया है. खत भेजने वालों में पूर्व फौजी अफसरों के अलावा सामाजिक कार्यकर्ता और एकेडमीशियन की भारी संख्या है. जानकारी के मुताबिक, लेटर पर हस्ताक्षर करने वालों में एयर वाइस मार्शल एनआई रजाकी, AVSM मुकुंद दुबे , एक्स इनफॉरमेशन सेक्रेटरी वजाहत हबीबुल्लाह , हर्ष मंदर ,स्वामी अग्निवेश, बृंदा करात, श्याम मेनन , ज्योति घोष शामिल हैं.

वहीं, दिल्ली हिंसा मामले में आरोपी आम आदमी पार्टी के सस्पेंडेड पार्षद ताहिर हुसैन की याचिका कड़कड़डूमा कोर्ट ने खारिज कर दिया है. आरोपी ताहिर हुसैन ने अपनी याचिका में कहा था कि दिल्ली पुलिस अपनी पावर का गलत इस्तेमाल कर रही है. उसके खिलाफ दर्ज छठे एफआईआर की जानकारी उसे नहीं दी गयी थी. वहीं,  कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि आरोपी ताहिर हुसैन की याचिका में कोई मेरिट नहीं है.

जांच के लिए दी गई है 5 दलीलें



दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग की रिपोर्ट और सिफारिश को बनाया गया आधार
दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग की रिपोर्ट में गृहमंत्री ने दिया भड़काऊ भाषण, पुलिस मामले की जांच नहीं कर सकती

दिल्ली पुलिस खुद हिंसा में रही शामिल, कई तरह के वीडियो आ चुके हैं सामने, पुलिस की भी जांच हो

तीन एसआईटी जांच कर रही है, लेकिन दिल्ली पुलिस खुद को क्लीन चिट दे चुकी है

नागरिकता कानून विरोधी प्रदर्शनों में शामिल लोगों को गिरफ्तार किया गया. भड़काऊ भाषण का आरोप परंतु बीजेपी नेताओं को दी गई क्लीन चिट
रिटायर्ड जज की निगरानी में हो जांच



हाईकोर्ट में दाखिल किया था जवाब

मालूम हो कि हाल ही में दिल्ली हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस ने हाईकोर्ट में अपना जवाब दाखिल किया था. इसमें कहा गया था कि वारिस पठान, सलमान खुर्शीद, असदुद्दीन ओवैसी और अन्य नेताओं के दिए गए एंटी सीएए के बयान  पर जांच जारी है. वहीं इस मामले की पिछली सुनवाई में दिल्ली पुलिस ने केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के नेता अनुराग ठाकुर, प्रवेश वर्मा, कपिल मिश्रा और अभय वर्मा को भड़काऊ भाषण देने के मामले में क्लीन चिट देने की बात कही थी. पुलिस ने कहा था कि इन बीजेपी नेताओं के खिलाफ कोई मामला नहीं बनता.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading