लाइव टीवी

Delhi Violence: 7 दिन बाद भी जरूरतमंदों को नहीं मिल पा रही मदद! जानिए पूरा मामला
Delhi-Ncr News in Hindi

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: March 2, 2020, 9:34 PM IST
Delhi Violence: 7 दिन बाद भी जरूरतमंदों को नहीं मिल पा रही मदद! जानिए पूरा मामला
लोगों को इलाज के अलावा भी और जरूरते हैं, जिसको लेकर वे लोग काफी चिंतित नजर आ रहे हैं.

दिल्ली (Delhi) के नॉर्थ-ईस्ट इलाके में हुई हिंसा (Violence) के बाद स्थिति अब सामान्य हो रही है, लेकिन लोग अभी भी डरे और सहमे हैं. लोग अभी भी खौफ से निकल नहीं पाए हैं. हिंसा ग्रस्त इलाकों में मदद का सिलसिला शुरू हो गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) के 7 दिन हो गए हैं,लेकिन हिंसा में शिकार हुए जरूरतमंदों तक मदद अब भी नहीं पहुंच रही है. न्यूज 18 हिंदी की तफ्तीश में पता चला कि 7 दिनों के बाद भी प्रभावित इलाकों में और मदद पहुंचाने की जरूरत है. लोगों का कहना है कि अभी सरकार और सहायता देने वाली एजेंसियां आंकड़े जुटाने में लगी हैं और रिपोर्ट तैयार कर रही हैं, लेकिन जमीन पर हकीकत कुछ और है. हिंसा प्रभावित इलाकों में अभी भी लोगों को तुरंत मदद की जरूरत है, क्योंकि हिंसा में मरने वालों में ज्यादातर दूसरे प्रदेशों से यहां आकर छोटे-मोटे रोजगार करने वाले हैं. लोगों को इलाज के अलावा भी और जरूरते हैं, जिसको लेकर वे काफी चिंतित नजर आ रहे हैं.

हिंसा के बाद स्थिति अब सामान्य हो रही है
दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट इलाके में हुई हिंसा के बाद स्थिति अब सामान्य हो रही है, लेकिन लोग अभी भी डरे और सहमे हैं. लोग अभी भी खौफ से निकल नहीं पाए हैं. हिंसा ग्रस्त इलाकों में मदद का सिलसिला शुरू हो गया है. कई एनजीओ (NGO) और दिल्ली सरकार की तरफ से मदद की जा रही है. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी लोगों को तुरंत मदद के लिए एक हैशटैग की शुरुआत की है. किसी को भी तुरंत मदद चाहिए तो वह #DelhiRelief के साथ अपनी समस्या को ट्वीट कर सरकार तक अपनी बात पहुंचा सकता है.

Delhi Violence, LG DELHI, CM Arvind Kejriwal, Relief Work, Twitter hashtag, Delhi Police Ground report delhi violence after 7 days, news 18 hindi delhi violence,North East Delhi riots, Delhi news, Citizenship Act, National Citizenship Register, Violence, Stonewalling, CAA, bhajanpura, delhi police, Ministry of Home Affairs, hindu-muslims, temple, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली दंगा, सीएए, दिल्ली न्यूज, नागरिकता संशोधन कानून, संशोधित नागरिकता कानून, राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर, गृह मंत्रालय, दिल्ली पुलिस, हिंदू-मुस्लिम
दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट इलाके में हुई हिंसा के बाद स्थिति अब सामान्य हो रही है




दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने हिंसा के शिकार हुए लोगों के लिए मुआवजे का ऐलान तो पहले ही कर दिया था. केजरीवाल ने कहा था कि 10 लाख रुपये की मुआवजा राशि में से एक लाख रुपया एक्स ग्रेशिया के तहत तुरंत मुहैया कराया जाएगा, जबकि बांकी बचे 9 लाख रुपये दस्तावेजों की पुष्टि होने के बाद मृतक के परिजनों को दिए जाएंगे. वहीं हिंसा में मारे गए बच्चों के परिजनों को दिल्ली सरकार 5 लाख का मुआवजा देगी.



जरूरतमंदों को मदद और चाहिए
बाबरपुर-मौजपुर मेट्रो के पास विजय पार्क मैन रोड पर एक गैराज चलाने वाले 65 साल के हाजी नूर हसन कहते हैं, 'मेरे जानने वालों में से चार लोगों को गोली लगी है. बिहार का रहने वाला एक लड़का मुबारक की गोली लगने से मौत हो गई है, लेकिन तीन लोग अभी भी घायल हैं. घायलों का इलाज जीटीबी अस्पताल में चल रहा है. मुबारक किराये के मकान में रहता था. अब उसका परिवार सड़क पर आ गया है. उसके बच्चे और पत्नी को अभी तक कोई सरकारी मदद नहीं मिली है. स्थानीय लोग मिलकर उसकी देखभाल कर रहे हैं.'

Delhi Violence, LG DELHI, CM Arvind Kejriwal, Relief Work, Twitter hashtag, Delhi Police Ground report delhi violence after 7 days, news 18 hindi delhi violence,North East Delhi riots, Delhi news, Citizenship Act, National Citizenship Register, Violence, Stonewalling, CAA, bhajanpura, delhi police, Ministry of Home Affairs, hindu-muslims, temple, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली दंगा, सीएए, दिल्ली न्यूज, नागरिकता संशोधन कानून, संशोधित नागरिकता कानून, राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर, गृह मंत्रालय, दिल्ली पुलिस, हिंदू-मुस्लिम
बैंक, अस्पताल और दुकानें खुल गई हैं.


मरने वालों की संख्या 47 पहुंची
दिल्ली हिंसा में अब तक मरने वालों की संख्या 47 तक पहुंच गई है. दिल्ली के कई अस्पतालों में अभी भी घायल लोगों का इलाज चल रहा है. हिंसा के करीब एक हफ्ते बाद जाफराबाद, ब्रिज विहार, मुस्तफाबाद, भजनपुरा, चांदबाग, गोकलपुरी, शिव विहार और खजूरी खास जैसे प्रभावित इलाकों में हालात धीरे-धीरे सुधर रहे हैं, लेकिन यहां की जली दुकानें-घर आज भी हर आने-जाने वालों को अपनी ओर खींचता है. साथ ही लोगों की जरूरत के सामान अभी भी नहीं मिल रहे हैं. जिन घरों को पूरी तरह से जला दिया गया है, उसका पूरा परिवार अभी भी पड़ोसियों के रहमोकरम पर जी रहा है.

चांद बाग इलाके में दंगाइयों ने एक बैकरी के दुकान को भी पूरी तरह से जला दिया. इस दुकान के मालिक ज्ञानेंद्र कुमार कहते हैं, 'पिछले चार-पांच दिनों से कई लोग आए हैं. सभी लोगों ने दुकान में हुए नुकसान को लेकर हमसे बात की है. खुद एसडीएम साहब भी आए थे, लेकिन अभी तक कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला है. पिछले मंगलवार को दंगाइयों ने हमारी दुकान को लूट लिया और दुकान में रखे कई फ्रिज जला दिए. हमने एफआईआर रजिस्टर्ड करा दी है लेकिन अभी तक कुछ हुआ नहीं है.'

Delhi Violence, LG DELHI, CM Arvind Kejriwal, Relief Work, Twitter hashtag, Delhi Police Ground report delhi violence after 7 days, news 18 hindi delhi violence,North East Delhi riots, Delhi news, Citizenship Act, National Citizenship Register, Violence, Stonewalling, CAA, bhajanpura, delhi police, Ministry of Home Affairs, hindu-muslims, temple, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली दंगा, सीएए, दिल्ली न्यूज, नागरिकता संशोधन कानून, संशोधित नागरिकता कानून, राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर, गृह मंत्रालय, दिल्ली पुलिस, हिंदू-मुस्लिम
दिल्ली हिंसा को लेकर अब भी कई सवाल खंगाले जा रहे हैं.


हिंसा को लेकर कौन है जिम्मेदार?
दिल्ली हिंसा को लेकर अब भी कई सवाल खंगाले जा रहे हैं. बीते रविवार से बुधवार तक उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इळाके क्यों और कैसे जले? यह जानबूझ कर कर किया गया साजिश था या फिर सोची-समझी रणनीति के तहत किया गया दंगा? इन सवालों का जवाब तो खंगाले जा रहे हैं लेकिन जमीन पर अब भी हकीकत कुछ और है. नार्थ-ईस्ट इलाके में हिंसा के बाद स्थिति सामान्य हो रही है. बैंक, अस्पताल और दुकानें खुल गई हैं. लोग पहले की तरह ही खरीददारी कर रहे हैं और सड़क पर भी रौनक है.

सोमवार को भी दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल और नए पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने हिंसाग्रस्त इलाकों का दौरा किया है. दोनों ने शिव विहार सहित कई इलाकों का दौरा कर लोगों से बात की है. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित परीक्ष भी हिंसा प्रभावित इलाकों में शुरू हुई. अभी हिंसा ग्रस्त इलाकों में पुलिस गस्त कर रही है. दिल्ली पुलिस के जवानों के साथ सीआईएसफ और सीआरपीफ के जवान सोमवार को भी हिंसाग्रस्त इलाके में मौजूद दिखे.

ये भी पढ़ें: 

Delhi Violence: चांदबाग इलाके में जब दंगों के बीच एक मंदिर की सुरक्षा दीवार बन गए मुस्लिम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 2, 2020, 8:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading