दिल्ली में मस्जिदों के इमाम को 5 महीने से नहीं मिली सैलरी, मुस्लिम विधवा महिलाओं की पेंशन भी है बंद

सेलरी न मिलने के विरोध में दिल्ली वक्फ बोर्ड के कर्मचारी धरना दे रहे हैं.
सेलरी न मिलने के विरोध में दिल्ली वक्फ बोर्ड के कर्मचारी धरना दे रहे हैं.

वक्फ बोर्ड (Waqf Board) के स्थाई और अस्थाई दोनों ही तरह के कर्मचारियों (Staff) को महीनों से सैलरी नहीं मिली है. बीते कुछ वक्त से बोर्ड में चेयरमैन का पद खाली चल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2020, 8:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 5 महीने से सैकड़ों मस्जिदों (Mosques) के इमाम को सैलरी (Salary) नहीं मिल रही है. मौहज़िन (अज़ान देने वाले) की सैलरी भी उनके खाते में नहीं पहुंची है. इतना ही नहीं मुस्लिम विधवा महिलाओं को उनकी पेंशन तक नहीं मिल पा रही है. दिल्ली वक्फ बोर्ड (Delhi Waqf Board) सैलरी और पेंशन जारी करता है, लेकिन वक्फ बोर्ड के कर्मचारी खुद अपनी सैलरी के लिए धरने पर बैठे हुए हैं. स्थाई और अस्थाई दोनों ही तरह के कर्मचारियों (Staff) को महीनों से सैलरी नहीं मिली है. बीते कुछ वक्त से बोर्ड में चेयरमेन का पद खाली चल रहा है.

सरकारी और प्राइवेट इमाम को सैलरी देता है वक्फ बोर्ड

जानकारों की मानें तो दिल्ली वक्फ बोर्ड 269 सरकारी इमाम को 18 हज़ार रुपये के हिसाब से सैलरी देता है. वहीं मौहज़िन को 14 हज़ार रुपये के हिसाब से सैलरी दी जाती है. इसके साथ ही 12 सौ प्राइवेट इमाम भी हैं. इसके अलावा 2500 रुपये के हिसाब से 800 महिलाओं को विधवा पेंशन दी जाती है, लेकिन 5 महीने से सभी की सैलरी और पेंशन बंद हैं.



यह भी पढ़ें- दिवाली से पहले इस खास दिन बहुत होती हैं चोरियां, यह है बड़ी वजह
सैलरी के लिए बोर्ड के 170 कर्मचारी बैठे हैं धरने पर

ऐसा नहीं है कि वक्फ बोर्ड से जुड़े इमाम, मौहज़िन और विधवा महिलाओं को सैलरी और पेंशन नहीं मिल रही है. खुद बोर्ड के 170 स्थाई और अस्थाई कर्मचारी भी सैलरी न मिलने से परेशान हैं. स्थाई कर्मचारियों को 5 महीने से तो अस्थाई कर्मचारियों को 9 महीने से सैलरी नहीं मिली है. परेशान होकर यह कर्मचारी अब धरने पर बैठ गए हैं.

यह बोले अधिकारी-

बोर्ड के सेक्शन अफसर हाफिज़ महफूज़ मोहम्मद ने न्यूज18 हिंदी से बातचीत करते हुए बताया कि वैसे तो सीईओ को पूरी फाइनेंशियल पावर हैं. लेकिन चेयरमेन के न होने से उस पर क्या फर्क पड़ता है यह एक्ट में देखना पड़ेगा.



कोर्ट से खारिज हुआ चेयरमेन विवाद

आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान का नाम बोर्ड के चेयरमैन पद के लिए सामने आया था. लेकिन किसी शख्स ने कोर्ट में आपत्ति दाखिल कर दी. सोमवार को सुनवाई के दौरान आपत्ति लगाने वाले शख्स ने अपनी आपत्ति को वापस ले लिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज