• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Alert: हथिनी कुंड के पानी से बाढ़ का खतरा, दिल्ली में अगले 24 घंटे में लाल निशान तक पहुंच सकती है यमुना

Alert: हथिनी कुंड के पानी से बाढ़ का खतरा, दिल्ली में अगले 24 घंटे में लाल निशान तक पहुंच सकती है यमुना

यमुना का जलस्तर बढ़ने से बाढ़ का खतरा बढ़ जाएगा. (फाइल फोटो)

यमुना का जलस्तर बढ़ने से बाढ़ का खतरा बढ़ जाएगा. (फाइल फोटो)

Delhi News: हथिनी कुंड बैराज (Hathini Kund Barrage) से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है. अभी दिल्ली में यमुना खतरे के निशान से नीचे है, लेकिन अगले 24 घंटे में खतरे के निशान याने लाल निशान तक पहुंचने के आसार हैं.

  • Share this:

    रिपोर्ट – अनिल अत्री

    नई दिल्ली. पिछले 24 घंटे से लगातार हो रही बारिश के चलते हथिनी कुंड में बढ़ते पानी को लगातार छोड़ा जा रहा है. यही वजह है कि अभी खतरे के निशान से नीचे चल रही यमुना नदी (Yamuna River) का पानी अगले 24 घंटे में खतरे के निशान को छू सकता है.

    दिल्ली सरकार में जलमंत्री और फ्लड एंड इरिगेशन मिनिस्टर (Water, Flood And Irrigation Minister) सत्येन्द्र जैन ने कहा कि संभावना है कि अगले 24 से 48 घंटे तक जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच जाएगा. यह निर्भर करता है कि हथिनी कुंड से और कितना पानी छोड़ा जाएगा.

    बाढ़ से निपटने तैयार दिल्ली सरकार
    मंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार ने पूरी तैयारियां की हुई है, अगर फ्लड की स्थिति पैदा होती है तो हम तैयार हैं. जैसे ही यमुना का स्तर खतरे के निशान के पास पहुंचेगा अलर्ट जारी कर दिया जाएगा. लो-लाइन के पास यमुना के किनारे जितने भी इलाके हैं, वह प्रभावित होते हैं. उन इलाकों चिह्नित किया हुआ है, जिसकी लिस्ट भी जारी की जाएगी. सारे डीएम की ड्यूटी लगाई गई है. अभी ऐसी स्थिति नहीं आई है कि फ्लडलाइन के इलाकों को खाली कराया जाए.

    गलियों में भरा पानी, निकासी की व्यवस्था दुरुस्त नहीं
    दिल्ली के वजीराबाद क्षेत्र में बीते गुरुवार की दोपहर बाद आई बारिश के बाद गलियों में लबालब पानी भर गया. वजीराबाद क्षेत्र में पानी की निकासी की व्यवस्था न होने के कारण लोगों के घरों में भी पानी भर गया. गलियों में गाड़ियों के आधे टायर डूबे हुए नजर आए. यमुना नदी में हथिनीकुंड बैराज से छोड़ा गया पानी करनाल पहुंच गया है.

    यमुना नदी से जुड़े हुए खेतों में पानी पहुंचने से सब्जियों और फसलों को नुकसान हुआ है. किसानों को अपने खेत में फसलों के पास जाने के लिए टयूब का सहारा लेना पड़ रहा है. वहीं किसानों का कहना है फसलें, सब्जियां खराब हो जाती हैं, पर प्रशासन की कोई मदद नहीं मिलती.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज