दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामलों में गिरावट आने से अस्पतालों में खाली बेड की संख्या में बढ़ोतरी

केंद्र और दिल्ली सरकार के अस्पतालों के साथ-साथ प्राइवेट अस्पतालों में भी कोरोना मरीजों के लिए खाली बेड की संख्या में वृद्धि हुई है (फाइल फोटो)

केंद्र और दिल्ली सरकार के अस्पतालों के साथ-साथ प्राइवेट अस्पतालों में भी कोरोना मरीजों के लिए खाली बेड की संख्या में वृद्धि हुई है (फाइल फोटो)

दिल्ली कोरोना ऐप (Delhi Corona App) के मुताबिक बुधवार सुबह करीब 11 बजे तक सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कुल 27,726 बेड में से 13,791 बेड उपलब्ध है

  • Share this:

नयी दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस (Corona Virus) के दैनिक मामलों में लगातार गिरावट के बीच, अस्पतालों में खाली बिस्तरों (Empty Bed In Hospitals) की संख्या फिर से बढ़ने लगी है, जिससे कोरोना रोगियों (Corona Patients) और उनके परिवारों को कुछ राहत मिली है. दिल्ली कोरोना ऐप (Delhi Corona App) के मुताबिक बुधवार सुबह करीब 11 बजे तक सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कुल 27,726 बेड में से 13,791 बेड उपलब्ध है.

लगभग कुछ हफ्ते पहले, महामारी की दूसरी लहर के सबसे बुरे दौर के बीच में जब मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हुई थी, ऑक्सीजन की आपूर्ति वाले बेड, आईसीयू बेड और वेंटिलेटर वाले आईसीयू बेड की भारी कमी थी. बीते 20 अप्रैल को दिल्ली में संक्रमण के 28,000 से अधिक मामले आए थे, हर दिन बड़ी संख्या में इससे मरीजों की मौतें हो रही थीं.

कोरोना ऐप के अनुसार, बुधवार को सुबह लगभग 11 बजे तक कोरोना रोगियों के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति वाले 11,429 बेड खाली थे और 1,246 आईसीयू बेड उपलब्ध थे.

दिल्ली सरकार द्वारा संचालित अस्पतालों में, खाली आईसीयू बिस्तरों की संख्या इस प्रकार है- जीटीबी अस्पताल (900 में से 411 बिस्तर), एलएनजेपी अस्पताल (750 में से 266), राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल (325 में से 133). इस ऐप के अनुसार, केंद्र द्वारा संचालित अस्पतालों में, खाली आईसीयू बेड के आंकड़े- सफदरजंग अस्पताल (80 में से 10) और एम्स (72 में से 6).
पिछले कुछ दिनों में कोविड-19 की स्थिति में सुधार हुआ है, दैनिक मामलों में गिरावट आई है, हालांकि, अभी भी बड़ी संख्या में मौतें हो रही हैं. डॉक्टरों का कहना है कि मामलों की गंभीरता अभी भी वैसी ही है जैसी कुछ सप्ताह पहले थी. (भाषा से इनपुट)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज