लाइव टीवी

विश्व हिंदू परिषद की मांग- नवरात्रि से शुरू हो राम मंदिर का निर्माण कार्य
Delhi-Ncr News in Hindi

अमित पांडेय | News18Hindi
Updated: January 22, 2020, 6:00 PM IST
विश्व हिंदू परिषद की मांग- नवरात्रि से शुरू हो राम मंदिर का निर्माण कार्य
राम मंदिर के लिए विएचपी ने सरकार से की ये डिमांड

ट्रस्ट बने और हमारी इच्छा है कि 25 मार्च जो कि नवरात्रों का पहला दिन है उस दिन से मंदिर निर्माण (Ram Mandir) कार्य शुरू हो.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2020, 6:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पिछले 2 महीने से गृह मंत्रालय राम मंदिर के लिए ट्रस्ट बनाने की प्रक्रिया में जुटा हुआ है. इस दौरान सरकार ने अलग-अलग पक्षों से बातचीत भी की है. जिसमें विश्व हिंदू परिषद, राम जन्मभूमि न्यास, निर्मोही अखाड़ा प्रमुख हैं. इन संगठनों ने सरकार को अपनी आर्थिक स्थिति और सदस्यों के बारे में जानकारी दी है. वहीं विश्व हिंदू परिषद ने सरकार से मांग की है कि मंदिर उसी नक्शे के अनुसार बने, जिसकी तर्ज पर खंभे बनाने का काम पिछले 27 सालों से जारी है. राम मंदिर ट्रस्ट पर News18India इंडिया ने एक्सक्लूसिव रिपोर्ट तैयार की है.

राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट के नामों को अंतिम रूप दिया जा रहा है, सुप्रीम कोर्ट आदेश के मुताबिक ही सारी प्रक्रिया का पालन किया जा रहा है. सूत्रों के मुताबिक, इस ट्रस्ट में 11-15 सदस्य होंगे. इस ट्रस्ट में जिसके बनने के बाद मंदिर निर्माण के लिए स्कीम का काम शुरू होगा. कैबिनेट की मुहर के बाद इस ट्रस्ट और स्कीम की घोषणा होगी. फिलहाल सरकार द्वारा अलग-अलग संगठनों से जानकारी लेने का काम पूरा हो चुका है.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राम मंदिर(Ram Mandir) ट्रस्ट बनाने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है. इस पर विश्व हिंदू परिषद (VHP) कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने न्यूज18 हिंदी को बताया कि पिछले 2 महीनों के दौरान सरकार से औपचारिक और अनौपचारिक चर्चा हुई थी, हमने उन्हें कहा है कि ट्रस्ट जल्दी बनाइए. हमने यह भी अपेक्षा की है कि इस आंदोलन में जिन लोगों ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है उनको भी ट्रस्ट में जगह दी जाए. ये ट्रस्ट बने और हमारी इच्छा है कि 25 मार्च जो कि नवरात्रों का पहला दिन है उस दिन से मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो.

60 फ़ीसदी खंबे बनकर है तैयार

आगे उन्होंने कहा कि हम यह चाहते थे कि राम जन्मभूमि न्यास इस मंदिर को बनाए. उन्होंने यह जानकारी मांगी कि न्यास के न्यासी कौन हैं, उसके एसेट्स क्या हैं. आलोक कुमार का कहना है कि सरकार ने हमसे पूछा कि हमारे पास कितने खंभे तैयार हो गए हैं. हमने जवाब दिया कि अगर सरकार ट्रस्ट बनाती है तो हमारे पास 60 फ़ीसदी खंबे तैयार हैं. हमारे पास जो जमीन अधिग्रहण की राशि है वह सब हम देने को तैयार हैं.

प्रत्येक हिंदू करे मंदिर के लिए कंट्रीब्यूट
यह सरकार के ऊपर निर्भर करता है उनकी पॉलिसी के ऊपर निर्भर करता है कि कैसे इस ट्रस्ट की फंक्शनिंग होगी. हम सिर्फ चौकीदारी करेंगे कि यह काम अच्छे से हो, हम ट्रस्टी से यह कहेंगे कि ऐसी राशि तय की जाए जिसमें विश्व का प्रत्येक हिंदू कंट्रीब्यूट कर सके.
वीएचपी बोली- मंदिर के चढ़ावे में कोई दिलचस्पी नहीं
आलोक कुमार ने बताया कि वीएचपी चाहती है कि 25 मार्च से 8 अप्रैल तक पूरे विश्व भर में जहां भी हिंदू रहते हो वह भगवान राम का चित्र उत्सव करें. अपने रहने की जगह पर वह इकट्ठा हों, और मंदिर के निर्माण में हर तरीके का सहयोग करें. 30 साल पहले इस मंदिर का एक मॉडल सोमपुरा जी ने तैयार किया था, वह लोगों के हृदय में बसा हुआ है उसके 60 फ़ीसदी खंबे तैयार हैं, उसी मॉडल से मंदिर बनना चाहिए जो मॉडल हमने प्रदर्शित किया है. हालांकि उन्होंने ये स्पष्ट किया कि मंदिर के संचालन और उसके चढ़ावे में हमें कोई दिलचस्पी नहीं है हम सिर्फ चौकीदारी का काम करेंगे.

ये भी पढ़ें: 

Delhi Elections 2020: BJP की स्‍टार प्रचारकों की लिस्‍ट में PM मोदी, शाह शामिल

केजरीवाल Vs 93 कैंडिडेट, 'चक दे..' स्टार और कैब ड्राइवर भी दे रहे चुनौती

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 5:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर