डेंगू को लेकर केजरीवाल सरकार और MCD के अलग-अलग दावे, जानें कौन सही कौन गलत!
Delhi-Ncr News in Hindi

डेंगू को लेकर केजरीवाल सरकार और MCD के अलग-अलग दावे, जानें कौन सही कौन गलत!
दिल्ली में बीते सप्ताह डेंगू के 100 से भी ज्यादा केस सामने आए हैं

पिछले कई महीनों से दिल्ली (Delhi) की केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) डेंगू (Dengue) के खिलाफ अभियान चला रही है. दिल्ली नगर निगम (MCD) भी अपनी तरफ से जगह-जगह डेंगू के खिलाफ मुहिम शुरू कर रखा है. इन सबके बावजूद केवल एक हफ्ते में ही अगर 100 से ज्यादा मामले आने से दिल्लीवालों के मन में खौफ पैदा कर सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 8:35 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. दिल्ली सरकार (Delhi Government) के तमाम दावों के बावजूद राज्‍य में पिछले हफ्ते डेंगू (Dengue) के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिली है. एमसी़डी (MCD) ने सोमवार को एक रिपोर्ट जारी की है, जिसके मुताबिक पिछले हफ्ते दिल्ली में डेंगू के 111 नए मामले सामने आए हैं. इस साल बीते 12 अक्टूबर तक दिल्ली में डेंगू के कुल 467 मामले सामने आ चुके हैं. वहीं दूसरी तरफ अरविंद केजरीवाल सरकार का कहना है कि इस साल डेंगू के मामलों में 50 प्रतिशत की कमी आई है. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिरकार किसका दावा सही है?

एमसीडी का दावा डेंगू के मामलों में आ रही है तेजी
एमसीडी के आंकड़े के मुताबिक दिल्ली सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद डेंगू के मामलों ने रफ्तार पकड़ ली है. ताजा आंकड़ों के अनुसार बीते हफ्ते डेंगू ने इस वर्ष के सभी पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. महज एक हफ्ते में दिल्ली में डेंगू के 111 नए मामले सामने आए हैं. बीते 12 अक्टूबर तक 467 डेंगू के मामले दिल्ली में दर्ज किए जा चुके हैं. इसी तरह से मलेरिया और चिकनगुनिया के भी मामले बढ़ें हैं. इस हफ्ते मलेरिया के 40 नए मामले सामने आए हैं. इस साल मलेरिया के कुल 459 मामले हो चुके हैं. वहीं बीते सप्ताह चिकनगुनिया के भी 21 मामले समाने आए हैं. इस वर्ष चिकनगुनिया के कुल 118 मामले सामने आ गए हैं.

 पिछले कई महीनों से दिल्ली की केजरीवाल सरकार डेंगू के खिलाफ अभियान चला रही है.
पिछले कई महीनों से दिल्ली की केजरीवाल सरकार डेंगू के खिलाफ अभियान चला रही है.




बता दें कि पिछले कई महीनों से दिल्ली की केजरीवाल सरकार डेंगू के खिलाफ अभियान चला रही है. दिल्ली नगर निगम भी अपनी तरफ से जगह-जगह डेंगू के खिलाफ मुहिम शुरू कर रखा है. इन सबके बावजूद केवल एक हफ्ते में ही अगर 100 से ज्यादा मामले आने से दिल्लीवालों के मन में खौफ पैदा कर सकता है.



साउथ एमसीडी की मेयर सुनीता कांगड़ा कहती हैं, 'जब दिल्ली में डेंगू के मामले कम थे तब केजरीवाल सरकार क्रेडिट लेने में आगे नजर आई और अब जब डेंगू बढ़ने लगा है तब सरकार चुप है. हम केजरीवाल सरकार से अपील करना चाहते हैं कि हमें क्रेडिट का कोई शौक नहीं है. आप करोड़ों रुपए विज्ञापन में खर्च कर रहे हैं अगर उसका कुछ हिस्सा नगर निगम के एंटी-मलेरिया स्टॉफ को दे देते तो और अच्छे परिणाम सामने आते.'

दिल्ली सरकार का दावा 2018 की तुलना में डेंगू मरीजों की संख्या घटी
वहीं, केजरीवाल सरकार ने भी सोमवार को एक डाटा रिलिज किया है, जिसमें दिल्ली में डेंगू के मामलों में 50 प्रतिशत कमी का दावा किया गया है. केजरीवाल सरकार के मुताबिक साल 2018 में इस समय तक डेंगू के 830 मामलों की तुलना में 2019 में सिर्फ 467 मामले ही सामने आए हैं. दिल्ली सरकार के के प्रेस रिलिज में दावा किया गया है कि सीएम अरविंद केजरीवाल के '10 हफ्ते 10 बजे 10 मिनट ' अभियान के सुखद परिणाम सामने आए हैं. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल इसके लिए दिल्ली के लोगों को बधाई और धन्यवाद भी दिया है.

दिल्ली सरकार का मानना है कि दिल्ली में इस साल डेंगू के ज्यादा प्रकोप होने का अनुमान था.
दिल्ली सरकार का मानना है कि दिल्ली में इस साल डेंगू के ज्यादा प्रकोप होने का अनुमान था.


दिल्ली के सीएम केजरीवाल के मुताबिक, 'यह लोगों की मेहनत का नतीजा है कि इस साल अब तक डेंगू से एक भी जान नहीं गई है. 2015 में दिल्ली में अक्टूबर के पहले सप्ताह तक डेंगू के 7,606 मामले थे, जबकि 2016 में यह संख्या 2133 और 2017 में यह संख्या 2152 थी. दिल्ली सरकार की डेंगू के खिलाफ लड़ाई 2015 में शुरू हुई, जब शहर में 15,867 मामलों आए थे. 60 से ज्यादा मौतें हुईं थी. सरकार ने साल 2015 से डेंगू के लिए अभियान प्रारंभ किया, जिसका 2018 में परिणाम सामने थे और डेंगू के मामलों में 80% कमी आई और यह मामला घटकर केवल 2,798 हो गए. साल 2018 में डेंगू से सिर्फ 4 ही मौत हुई थीं. इस साल अब तक एक भी मौत नहीं हुई है.'

दिल्ली सरकार का मानना है कि दिल्ली में इस साल डेंगू के ज्यादा प्रकोप होने का अनुमान था. दिल्ली सरकार ने अपने स्तर पर डेंगू से लड़ने के लिए मेगा कार्यक्रम शुरू किया . '10 हफ्ते 10 बजे 10 मिनट ' के अभियान की परिकल्पना अर्थ आवर की तर्ज पर की गई. जहां लोगों को बड़े पैमाने पर प्रोत्साहित किया गया कि वे अपने घरों का हर रविवार सुबह 10 बजे दस मिनट के लिए, लगातार दस हफ्तों तक निरीक्षण करें.

ये भी पढ़ें: 

दिल्ली में ऐसे चल रहा था Casino, देखकर दिल्ली पुलिस के भी उड़े होश

Amazon और Flipkart के खिलाफ 16 साल के छात्र ने दायर की याचिका, जानें क्या है मामला
First published: October 14, 2019, 8:00 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading