• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Report: क्या पंजाब-हरियाणा में पराली जलाने से दिल्ली में खतरनाक हुआ कोरोना? पढ़ें ये रिपोर्ट

Report: क्या पंजाब-हरियाणा में पराली जलाने से दिल्ली में खतरनाक हुआ कोरोना? पढ़ें ये रिपोर्ट

Research Report: पराली जलाने से दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर खतरनाक रूप में सामने आई. (सांकेतिक फोटो)

Research Report: पराली जलाने से दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर खतरनाक रूप में सामने आई. (सांकेतिक फोटो)

Corona in Delhi: पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने से होने वाला वायु प्रदूषण भी कोरोना महामारी को बढ़ाने में बड़ा कारक साबित हुआ है. दिल्ली में पिछले साल अक्टूबर-नवंबर में फैले कोरोना को लेकर पुणे के IITM के वैज्ञानिकों ने किया चौंकाने वाला रिसर्च.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश की राजधानी में पिछले साल अक्टूबर-नवंबर के महीने में कोरोना से बिगड़े हालात के पीछे क्या पराली जलाने से होने वाला वायु प्रदूषण था? क्या पंजाब और हरियाणा के खेतों में जलाई जाने वाली पराली से फैली प्रदूषित हवा के कारण ठंड के दिनों में भी दिल्ली में कोरोना ने विकट रूप अख्तियार किया? पुणे के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रॉपिकल मेटेरियोलॉजी यानी IITM के वैज्ञानिकों की ताजा रिसर्च के मुताबिक, पराली जलाने से हवा में मौजूद ब्लैक कार्बन ही वह बड़ा कारक था, जिसकी वजह से SARS-COV-2 वायरस ने पिछले साल दिल्ली में अक्टूबर-नवंबर के महीने में कहर बरपाया.

    अर्बन क्लाइमेट नाम के रिसर्च जर्नल में प्रकाशित अपनी रिपोर्ट में IITM के वैज्ञानिकों ने कहा है कि दिल्ली में पिछले साल सितंबर के महीने में कोरोना के मामलों में जबर्दस्त कमी आई थी. उस समय दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले प्रति दिन घटकर 500 तक रह गए थे. लेकिन उसके अगले महीने से ही दिल्ली में कोरोना संक्रमण की रफ्तार तेजी से बढ़ी. IITM के वैज्ञानिकों के मुताबिक, पूरे देश ने जहां कोरोना महामारी की दो लहरों का कहर झेला, वहीं दिल्ली में इस वायरस की वजह से अब तक 4 लहरें आ चुकी हैं. वैज्ञानिकों ने कहा कि दिल्ली में पिछले साल जून में कोरोना की पहली लहर देखी गई, सितंबर में दूसरी और अक्टूबर-नवंबर के महीने में तीसरी लहर ने अपना प्रभाव दिखाया. वहीं, इस साल अप्रैल में दिल्ली ने कोरोना की चौथी लहर का सामना किया.

    पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के प्रदूषण रिसर्च प्रोजेक्ट 'सफर' (SAFAR) के सितंबर से लेकर दिसंबर तक के आंकड़ों के आधार पर IITM के वैज्ञानिकों ने यह रिसर्च किया है. अपनी रिपोर्ट में उन्होंने कहा है कि इस दौरान उन्होंने हवा में PM 2.5 और ब्लैक कार्बन की मौजूदगी का अध्ययन किया है. अपने रिसर्च के आधार पर इन वैज्ञानिकों ने कहा है कि दिल्ली में पहली दो लहरों के दौरान कोरोना संक्रमण के मामले जहां प्रतिदिन 4500 आते थे, वहीं तीसरी लहर में यह आंकड़ा बढ़कर 8500 तक जा पहुंचा था. वैज्ञानिकों ने अपनी रिसर्च में पाया कि हवा में ब्लैक कार्बन के घुलने की गति का पराली जलाने के मौसम में कोविड-19 संक्रमण बढ़ने की दर से सीधा जुड़ाव होता है. इसलिए पराली जलने से फैलने वाले प्रदूषण के कारण कोरोना के संक्रमण की तादाद बढ़ गई, वहीं जब पराली जलाने की घटनाओं में कमी आई तो महामारी के संक्रमण दर में भी कमी देखी गई.

    IITM के वैज्ञानिक और इस रिसर्च के लेखक गुफरान बेग ने अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट द प्रिंट से बातचीत में कहा कि दिल्ली में कोरोना महामारी की तीसरी लहर के पीछे प्रदूषण और पराली जलाने की परिकल्पना (हाइपोथिसिस) के साथ ही यह शोध किया गया है. उन्होंने बताया कि रिसर्च करने के दौरान पाया गया कि हवा में ब्लैक कार्बन पार्टिकल्स का आकार बढ़ता है और यह अन्य खतरनाक गैसों के साथ मिलकर और हानिकारक होता जाता है. पराली जलाने से हवा में इन खतरनाक गैसों की तादाद बढ़ जाती है, जो सर्दी के मौसम में और भी नुकसान पहुंचाती है. इस दौरान प्रदूषित हवा में सांस लेने से यह इंसानी शरीर के श्वसन तंत्र को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज