Assembly Banner 2021

दिग्विजय सिंह बोले- विकास दुबे का हो सकता है मर्डर, SC की निगरानी में SIT करे जांच

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने एक बड़ा बयान दिया है. (फाइल फोटो)

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने एक बड़ा बयान दिया है. (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey)को राजनीतिक संगरक्षण देने वाले ही उसकी हत्या करा सकते हैं. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की निगरानी में SIT करे मामले की जांच.

  • Share this:
दिल्ली. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कानपुर (Kanpur) में हुए 8 पुलिस कर्मियों की हत्या (Murder) के मामले में गिरफ्तार हुए विकास दुबे को लेकर दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने बड़ा बयान दिया है. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मांग करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस के हत्यारा गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) को न्यायिक हिरासत में रखा जाए और सुरक्षा भी मुहैया कराई जाए. उन्होंने कहा कि गैंगस्टर को राजनीतिक संगरक्षण देने वाले ही उसकी हत्या करा सकते हैं. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की निगरानी में SIT से विकास दुबे की गिरफ्तारी की जांच की मांग उठाई.

भाजपा का मिला है संगरक्षण: दिग्विजय सिंह

दिग्विजय सिंह ने कहा कि विकास दुबे उत्तर प्रदेश का सबसे खतरनाक गैंगस्टर है. उस पर 60 आपराधिक मामले दर्ज हैं जिसमें थाने के अंदर हत्या करना भी शामिल है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा नेताओं का गैंगस्टर को राजनीतिक संगरक्षण प्राप्त है. इस वजह से ही उसे जमानत भी मिल गई, सजा आज तक नहीं हुई.



Youtube Video

पुलिस प्रशासन से सांठगांठ का आरोप

दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि विकास दुबे की पुलिस और प्रशासन के साथ सांठगांठ है. साथ ही हो सकता है कि उसकी सांठगांठ न्यायपालिक में भी हो,  इस वजह से ही वो अब तक बचा हुआ था. दिग्विजय सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश के कानपुर में इतना बड़ा पुलिस हत्याकांड करने के बाद भी बच निकलता है गैंगस्टर विकास दुबे. उज्जैन में बिना हथियार के आता है. महाकाल के मंदिर में एक निजी सुरक्षा कंपनी का गार्ड उसे पकड़ता है. फिर गार्ड ही एक पुलिस के सिपाही को सौंप देता है. यह गिरफ्तारी है या सरेंडर.

ये भी पढ़ें: विकास दुबे के बाद अब उसकी पत्नी और बेटा भी लखनऊ से गिरफ्तार

एमपी पुलिस का सम्मान क्यों?

दिग्विजय सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश पुलिस ने जब पकड़ा ही नहीं है तो किस बात बात का सम्मान? सम्मनित करना है तो निजी कंपनी के गार्ड को करें. मध्य प्रदेश पुलिस का तो रोल ही नहीं है. अगर ऐसा होता तो राज्य पुलिस का पूरा महकमा वहां पर होता. बड़े-बड़े अधिकारी विकास पर नजर रखे हुए थे, पुलिस को तो बाद में पता चला वो पकड़ा गया है. दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा के कौन-कौन नेता उसके साथ हैं यह जांच का विषय है. वैसे विकास दुबे उत्तर प्रदेश का इतना बड़ा अपराधी है, स्वाभाविक है वहीं के लोग होंगे. यूपी के कानून मंत्री के साथ फोटो भी है.

कॉल डिटेल की हो जांच

दिग्विजय सिंह ने कहा कि यूपी की SIT सुप्रीम कोर्ट के निर्देश में न्यायिक जांच करे. साथ ही राजनीतिक और प्रशासनिक लोग जो संपर्क में है, उनकी कॉल डिटेल निकालकर जांच हो कि किस-किस से विकास के संबंध हैं. दिग्विजय सिंह ने कहा कि विकास दुबे को न्यायिक हिरासत में रखे और सुरक्षा मुहैया कराए, क्योंकि कई बड़ी ताकतें गैंगस्टर विकास दुबे की हत्या करा सकती है. विकास के दो गुर्गों को पकड़ा गया, मगर बाद में एनकाउंटर हो गया. दोनों की कहानी भी एक ही बताई गई है, पुलिस हिरासत से भाग रहे थे.

ये भी पढ़ें: कासगंज: पति को हुई आशिक की खबर, रास्ते से हटाने पत्नी ने रची ये साजिश

यूपी पुलिस गैगस्टर को नहीं ढूंढ सकी

उत्तर प्रदेश पुलिस पर हमला करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस द्वारा प्रवासी मजबूर को लेकर जाने वाली बसों के बारे में एक घंटे में पुलिस ने पता कर लिया ड्राइवर और कंडक्टर कौन है, रजिस्ट्रेशन कैसा है, मगर 5 दिन में पुलिस इतने बड़े हत्यारे के बारे में पता नहीं लगा सकी कि वो कहां चला गया. गैंगस्टर ही पुलिस का एनकाउंटर कर देता है, यह देश में पहले कभी नहीं हुआ.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज