Home /News /delhi-ncr /

DMRC का स‍िस्‍टम होगा और मजबूत, SCADA से जुड़ेंगे ये सभी उपकरण

DMRC का स‍िस्‍टम होगा और मजबूत, SCADA से जुड़ेंगे ये सभी उपकरण

DMRC ने भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड के सहयोग से आज देशी रोलिंग स्टॉक ड्राइवर ट्रेनिंग सिस्टम के पहले प्रोटोटाइप की शुरुआत की.

DMRC ने भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड के सहयोग से आज देशी रोलिंग स्टॉक ड्राइवर ट्रेनिंग सिस्टम के पहले प्रोटोटाइप की शुरुआत की.

Delhi Metro SCADA System: मेट्रो के परिचालन के लिए इस्तेमाल प्रौद्योगिकियों के स्वदेशीकरण के एक बड़े उपाय के रूप में दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (DMRC) ने भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) के सहयोग से आज देशी रोलिंग स्टॉक ड्राइवर ट्रेनिंग सिस्टम (RSDTS) के पहले प्रोटोटाइप की शुरुआत की और एक सुपर – सुपरवाइज़री कंट्रोल एंड डाटा एक्विजिशन (SCADA) सिस्टम के कामकाज का प्रदर्शन किया.

अधिक पढ़ें ...

    नई द‍िल्‍ली. मेट्रो के परिचालन के लिए इस्तेमाल प्रौद्योगिकियों के स्वदेशीकरण के एक बड़े उपाय के रूप में दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (DMRC) ने भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) के सहयोग से आज देशी रोलिंग स्टॉक ड्राइवर ट्रेनिंग सिस्टम (RSDTS) के पहले प्रोटोटाइप की शुरुआत की और एक सुपर – सुपरवाइज़री कंट्रोल एंड डाटा एक्विजिशन (SCADA) सिस्टम के कामकाज का प्रदर्शन किया जिसका विकास उपकरणों और परिसंपत्तियों के मॉनिटरिंग सिस्टम के रूप में किया जा रहा है ताकि अनुरक्षण की आवधिकता, श्रमशक्ति की आवश्यकता और कलपुर्जों के प्रबंधन को युक्तिसंगत बनाया जा सके.

    केंद्रीय आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा तथा डीएमआरसी चेयरमैन ने रोलिंग स्टॉक ड्राइवर ट्रेनिंग सिस्टम (RSDTS) का उद्घाटन किया और डीएमआरसी (DMRC) के प्रबंध निदेशक डॉ. मंगू सिंह तथा डीएमआरसी और बीईएल के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ सुपर–स्काडा सिस्टम का प्रदर्शन भी देखा.

    ये भी पढ़ें: मेट्रो में अब नहीं होगा सिग्नल फेल! नई तकनीक के जरिये ट्रेनों को बेहतर तरीके से ऑपरेट करेगी DMRC

    भारत सरकार की “मेक इन इंडिया” पहल के अनुपालन में, डीएमआरसी और बीईएल ने RSDTS के विकास के इस उद्देश्य से पिछले वर्ष सितंबर माह में एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे कि यह सिस्टम मेट्रो/ रेलवे के ट्रेन ड्राइवरों की ट्रेनिंग के लिए उपयोगी सिद्ध होगा. इस सिस्टम का उपयोग एक कार्यरत ट्रेन ऑपरेटर के ड्राइविंग कौशल के मूल्यांकन के लिए भी किया जा सकेगा. संरक्षा की दृष्टि से यह कार्य इस समय आवधिक तौर पर किया जाता है. यह देश में ही विकसित पहला यूनिवर्सल ट्रेन ड्राइविंग सिम्युलेटर होगा जिसे किसी भी मेट्रो अथवा रेलवे सिस्टम के लिए उपयुक्त रूप में आशोधित किया जा सकता है.

    डीएमआरसी इनपुट डाटा फाइलों में होगा थोड़ा बदलाव
    अभी तक, डीएमआरसी उच्च मूल्य पर विदेशी ओईएम से इस उत्पाद का आयात करती आ रही है. साथ ही, डीएमआरसी के पास अभी तक जो डिजाइन उपलब्ध हैं, वे सिंगल टाइप के रोलिंग स्टॉक, सिगनलिंग और ट्रैक सिस्टम के इस्तेमाल के लिए उपयुक्त हैं. इसमें बाद में किसी तरह के बदलाव करना कठिन तथा बहुत महंगा होता है. देश में ही विकसित किए जा रहे आरएसडीटीएस में उसी कोर सॉफ्टवेयर की सुविधा है जिसका उपयोग रोलिंग स्ट़ॉक, सिगनलिंग और लाइन प्रोफाइल्स के विभिन्न कॉम्बिनेशंस के लिए किया जाता है.

    इसमें इनपुट डाटा फाइलों को थोड़ा बहुत बदलना होता है और आवश्यक होने पर ही ड्राइविंग डेस्क में छोटे-छोटे हार्डवेयर संबंधी बदलाव किए जा सकते हैं. यह ट्रेनिंग सिस्टम की लोचशीलता को बढ़ाएगा तथा डीएमआरसी के लिए काफी किफायती रहेगा क्योंकि इसी सिस्टम का उपयोग अलग-अलग स्टॉक और विभिन्न रूटों के लिए किया जा सकता सकेगा.

    विकसित किया गया ट्रेनिंग सिस्टम उपलब्ध सिस्टम से कहीं श्रेष्ठ विशेषताएं लिए होगा
    विकसित किया गया ट्रेनिंग सिस्टम इस समय उपलब्ध सिस्टम से कहीं श्रेष्ठ विशेषताएं लिए होगा. यह भावी आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम होगा. यह उत्पाद अन्य मेट्रो और रेलवे के लिए उपयोगी होगा. चूंकि अधिकांश मेट्रो संगठन ट्रेन ड्राइविंग के कार्य को आउटसोर्स करना चाहते हैं. ड्राइविंग सिम्युलेटर की आसान उपलब्धता बड़ी संख्या में कुशल श्रमशक्ति तैयार करने में मदद करेगी, जिससे वैश्विक आवश्यकता की भी पूर्ति भी हो सकेगी.

    ये भी पढ़ें: SMS से भी कर सकते हैं दिल्ली मेट्रो के स्मार्ट कार्ड को रिचार्ज, जानिए प्रोसेस

    सभी उपकरण को एक ड‍िज‍िटल प्‍लेटफॉर्म के जर‍िए एकीकृत करने की कोश‍िश
    अपनी सभी अनुरक्षण आवश्यकताओं हेतु DMRC की एक महत्वाकांक्षी योजना भी है. इस संबंध में सुपर स्काडा सिस्टम पर काम करना एक महत्वपूर्ण कदम है. वर्तमान में, उपकरण और सिस्टम के स्तर पर पहले से ही अनेक स्टेंडअलोन सोल्यूशंस उपलब्ध हैं. तथापि, डीएमआरसी (DMRC) इन सभी को एक डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से एकीकृत करने को इच्छुक है. इसके फलस्वरूप सिस्टम का अपटाइम हाई होगा और अनुरक्षण लागतें कम होंगी. इस उद्देश्य के लिए डीएमआरसी ने इस वर्ष जून में सुपर-स्काडा के देश में ही विकास के लिए बीईएल के साथ एक अन्य समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं.

    सुपर-स्काडा के पहले चरण में 3 सिस्टम में ये सबकुछ होगा शाम‍िल
    इस समय, सुपर-स्काडा के पहले चरण में 3 सिस्टम अर्थात् ऑटोमेटिक फेयर कलेक्शन, लिफ्ट और एस्केलेटर तथा रोलिंग स्टॉक के व्हील मॉनिटरिंग सिस्टम को शामिल किया गया है. इस पहल के भाग के रूप में, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग के उपयोग से पारंपरिक आवधिक अनुरक्षण के काल से भविष्यसूचक अनुरक्षण काल की ओर परिवर्तन के अलावा प्रबंधन के विभिन्न स्तरों के लिए एक डिसिजन सपोर्ट सिस्टम भी विकसित किया जा रहा है.

    Tags: Delhi Metro, Delhi Metro News, Delhi Metro operations, Delhi news, DMRC

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर