दिल्ली: कोरोना की फर्जी रिपोर्ट बनाता था डॉक्टर, दोस्त की गलती से ऐसे हुआ खुलासा
Delhi-Ncr News in Hindi

दिल्ली: कोरोना की फर्जी रिपोर्ट बनाता था डॉक्टर, दोस्त की गलती से ऐसे हुआ खुलासा
कोरोना वायरस संक्रमण की फर्जी रिपोर्ट तैयार करने का मामला सामने आया हे. (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना जांच रिपोर्ट (Corona Test Report) पीडीएफ फॉर्मेट की शक्ल में नामी लैब के नाम से होती थी तो कोई शक भी नहीं करता था. लेकिन, इस बार रिपोर्ट कंप्यूटर पर तैयार करने वाले अमित से गलती हो गयी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2020, 12:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना (Coronavirus) महामारी खतरनाक स्तर पर पहुंच चुकी है, लेकिन लोग इसकी गंभीरता को ना समझकर धोखाधड़ी और ठगी (Fraud) में लग गए हैं. ऐसे में दिल्ली पुलिस ने एक ठगी करने वाले गैंग का खुलासा किया है. दक्षिणी दिल्ली पुलिस ने एक डॉक्टर और उसके साथी को गिरफ्तार किया है जो कोरोना की फर्जी रिपोर्ट्स (Corona Test Fake Report) लोगों को दे देते थे. मालवीय नगर इलाके में अपना क्लिनिक चलाने वाला डॉक्टर कुश परासर बड़ी पैथ लैब्स की नकली रिपोर्ट तैयार करवा कर लोगों को दे देता था. पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद डॉ. परासर ने बताया कि अब तक वो 75 से ज्यादा लोगों की रिपोर्ट तैयार कर चुका है. दरअसल, यह मामल एक शिकायत के बाद सामने आया.

दरअसल, दक्षिणी दिल्ली में नर्स उपलब्ध करवाने का बिजनेस करने वाले एक शख्स ने डॉक्टर कुश परासर से संपर्क कर अपनी 2 नर्स का कोविड टेस्ट करवाने के लिए कहा. जिसके बदले डॉक्टर परासर ने पैसे ले लिए और सैंपल भी कलेक्ट करा लिए. लेकिन यह सैंपल कहीं लैब में भेजने की जगह डॉक्टर परासर ने अपने सहयोगी अमित सिंह की मदद से कोरोना की नकली नेगेटिव रिपोर्ट बनवाकर उस व्यक्ति को भेज दिया.

रिपोर्ट पीडीएफ फॉर्मेट की शक्ल में नामी लैब के नाम से होती थी तो कोई शक भी नहीं करता था. लेकिन इस बार रिपोर्ट कंप्यूटर पर तैयार करने वाले अमित से गलती हो गयी. उसने एक नर्स के नाम में गड़बड़ी कर दी. बस वहीं से उनकी उल्टी गिनती शुरू हो गयी.



इसके बाद वो शख्स नाम ठीक करवाने के लिए खुद ही लैब में चला गया. वहां जाकर उसे पता चला कि इस नाम का कोई पेशेंट उनके यहां रजिस्टर नहीं है ना ही उनका कोई टेस्ट यहां किया गया है. जिसके बाद उस शख्श ने पुलिस में शिकायत कर दी. शिकायत मिलने पर जांच करके पुलिस ने डॉक्टर परासर और उसके सहयोगी अमित को गिरफ्तार कर लिया. ये दोनों अब तक 75 से ज्यादा लोगों को ऐसे ही फर्जी रिपोर्ट थमाकर उनसे पैसे ऐंठ चुके है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading