Home /News /delhi-ncr /

draft policy for cab aggregators food delivery firms mandates transition to all e vehicles by 2030 nodnc

Delhi: कैब, फूड और ई-कॉमर्स के लिए ​सिर्फ इलेक्ट्रिक वाहन, 2030 तक अनिवार्यता, जानें क्या है प्लान

दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग की वाहन एग्रीगेटर मसौदा नीति में है इलेक्ट्रिक वाहन का जिक्र. (फाइल फोटो)

दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग की वाहन एग्रीगेटर मसौदा नीति में है इलेक्ट्रिक वाहन का जिक्र. (फाइल फोटो)

E-Vehicles: कैब कंपनियों, खानपान के सामान की आपूर्ति करने वाली और ई-कॉमर्स डिलीवरी से जुड़ी कंपनियों को एक अप्रैल, 2030 तक अपने वाहन बेड़े में सिर्फ इलेक्ट्रिक वाहन ही रखने अनिवार्य होंगे.

हाइलाइट्स

50,000 रुपये की दर से होगा जुर्माना.
कैब ड्राइवर्स के व्यवहार पर भी होगी नजर.

नई दिल्ली. केन्द्र सरकार की ‘वाहन एग्रीगेटर’ के लिए नीति मसौदे में कैब कंपनियों, खानपान आपूर्ति और ई-कॉमर्स से जुड़ी कंपनियों को अपने बेड़े में सिर्फ इलेक्ट्रिक वाहनों को ही रखने का प्रावधान रखा गया है. दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग की वेबसाइट पर अपलोड किए गए ‘वाहन एग्रीगेटर’ मसौदा नीति में इसका जिक्र है. इसके मुताबिक, कैब कंपनियों, खानपान के सामान की आपूर्ति करने वाली और ई-कॉमर्स डिलीवरी से जुड़ी कंपनियों को एक अप्रैल, 2030 तक अपने वाहन बेड़े में सिर्फ इलेक्ट्रिक वाहन ही रखने अनिवार्य होंगे.

50 हजार होगा जुर्माना
इसके साथ ही इस मसौदा नीति में कहा गया है कि इलेक्ट्रॉनिक वाहनों से इतर परंपरागत वाहनों की मौजूदगी पाए जाने पर हरेक वाहन पर 50,000 रुपये की दर से जुर्माना देना होगा. दिल्ली सरकार ने इस मसौदा नीति पर तीन सप्ताह के भीतर सार्वजनिक राय मांगी है.

कैब ड्राइवर्स का गलत बर्ताव नहीं किया जाएगा सहन
इसके अलावा इसमें ‘कैब एग्रीगेटर’ कंपनियों को यात्रियों के साथ गलत बर्ताव करने वाले ड्राइवर्स के खिलाफ कदम उठाने से जुड़े दिशा निर्देशों का भी उल्लेख है. इसके मुताबिक, एक महीने के भीतर अगर किसी ड्राइवर के खिलाफ 15 प्रतिशत या उससे अधिक उपभोक्ता शिकायत करते हैं तो ‘एग्रीगेटर’ को उसके खिलाफ समुचित कदम उठाने होंगे. इसके अलावा साल भर में 3.5 से कम रेटिंग पाने वाले ड्राइवर्स के लिए जरूरी प्रशिक्षण एवं भूलसुधार कदम उठाने का भी जिक्र किया गया है. साथ ही कैब में जीपीएस की बेहतर सुविधा होना भी जरूरी है.

इसके साथ ही कैब एग्रीगेटर कंपनियों के बेड़े में शामिल होने वाले नए ऑटोरिक्शा में से 10 प्रतिशत का यह नीति लागू होने के पहले छह महीनों में इलेक्ट्रिक वाहन होना जरूरी होगा. चार साल बाद यह अनुपात शत-प्रतिशत हो जाने की भी बात इसमें कही गई है.

Tags: Delhi news, Electric Vehicles

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर