लाइव टीवी

सख्ती के बाद नोएडा में बढ़े ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वाले, इतनी हो गई संख्या!
Greater-Noida News in Hindi

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: September 25, 2019, 8:33 PM IST
सख्ती के बाद नोएडा में बढ़े ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वाले, इतनी हो गई संख्या!
यूपी के गौतमबुद्ध नगर जिले के सेक्टर 34 स्थित आरटीओ ऑफिस का नजारा इन दिनों बदला-बदला सा नजर आ रहा है.

नोएडा के परिवहन कार्यालय (RTO) के मुताबिक लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वालों की संख्या तेजी से बढ़ी है. वाहनों के प्रदूषण जांच में भी तेजी आई है

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 25, 2019, 8:33 PM IST
  • Share this:
नोएडा. संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट (New Motor Vehicle Act) लागू होने के बाद दिल्ली (Delhi) से सटे नोएडा (Noida) में ऐसे वाहन चालक आरटीओ ऑफिस (Regional Transport Office Noida) का चक्कर लगा रहे हैं जो अब तक बिना लाइसेंस के गाड़ी चला रहे थे. क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (RTO) में पहले की तुलना में अब ज्यादा भीड़ जुटने लगी है. बड़ी संख्या में लोग गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन और लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस (Learning Driving Licence) बनवाने पहुंच रहे हैं. लोगों को ट्रैफिक (Traffic Police) पुलिस का डर इतना सताने लगा है कि वह एक नहीं तीन-तीन दिन ऑफिसों से छुट्टी ले कर गाड़ियों के कागजात दुरुस्त करवा रहे हैं. ऐसा करना उनके लिए फायदेमंद है क्योंकि यह उनकी सुरक्षा और जेब का सवाल है.

नोएडा (NOIDA) के सेक्टर 34 स्थित आरटीओ ऑफिस (RTO) का नजारा इन दिनों बदला-बदला सा नजर आ रहा है. नोएडा के परिवहन कार्यालय के मुताबिक, लोगों ने 25 सितंबर तक ही 4917 लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस बना लिए हैं. जबकि, अगस्त में लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस 3908 ही बने थे. मतलब साफ है लोग पहले की तुलना में ज्यादा लाइसेंस के लिए अप्लाई कर रहे हैं.

बीते एक सितंबर से 16 सितंबर तक 7 हजार 147 डीजल गाड़ियों ने नोएडा आरटीओ ऑफिस से पोल्यूशन सर्टिफिकेट लिया है.
नोएडा में कितनी बढ़ गई प्रदूषण की जांच


नोएडा आरटीओ ऑफिस में एक दिन में 255 ही ऑनलाइन लर्निंग डीएल ही बनाए जाते हैं, आवेदन चाहे जितने हों. बाकी को वेटिंग में डाल दिया जाता है. जिन लोगों को आगे की तारीख मिलती है, वो सुबह से ही अपनी बारी का इंतजार करने आ जाते हैं. नोएडा आरटीओ ऑफिस के एक अधिकारी ललित परिहार कहते हैं, 'सितंबर में अब तक 2403 परमानेंट डीएल बन गए हैं. यह कम है, क्योंकि जो लोग लर्निंग बना रहे हैं, उनको अक्टूबर में परमानेंट डीएल की डेट मिली है. इसलिए परमानेंट वालों की संख्या अक्टूबर में बढ़ेगी.'

चेंकिंग और चालान के डर से डीएल बनवा रहे हैं लोग (File Photo)


परिहार के मुताबिक, नाेएडा में अब तक 1762 गाड़ियों के फिटनेस सर्टिफिकेट बन चुके हैं. अगस्त महीने में  2165 बने थे. रही बात प्रदूषण जांच सर्टिफिकेट की तो एक सितंबर से 16 सितंबर तक 7147 डीजल गाड़ियों ने नोएडा आरटीओ ऑफिस से सर्टिफिकेट बनवाया. पेट्रोल की 62114 गाड़ियों का सर्टिफिकेट बनाया गया. पहले हर रोज जहां लगभग 15 सौ सर्टिफिकेट बनते थे वहीं पर अब यह संख्या चार हजार तक पहुंच गई है.

ये भी पढ़ें: 


देश भर में इन जगहों पर मिल रहा है 22 रुपये किलो प्याज, महंगा खरीदने की क्या जरूरत?

कॉन्डम नहीं होने पर दिल्ली में चालान कटने को ट्रैफिक पुलिस ने बताया बेबुनियाद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्रेटर नोएडा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 25, 2019, 5:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर