ISIS ड्रग की बड़ी खेप दिल्ली में बरामद, 6 सप्लायर 42 हजार टेबलेट्स के साथ गिरफ्तार

पुलिस ने नशीली दवा ट्रामाडोल हाईड्रोक्लाराइड टेबलेट की तस्करी करने के आरोप में छह लोगों को गिरफ्तार किया है.

पुलिस ने नशीली दवा ट्रामाडोल हाईड्रोक्लाराइड टेबलेट की तस्करी करने के आरोप में छह लोगों को गिरफ्तार किया है.

Delhi Crime: नशीली दवा ट्रामाडोल हाईड्रोक्लाराइड टेबलेट की तस्करी करने के आरोप में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इस दवा को वैश्विक आतंकवादी संगठन आईएसआईएस (ISIS) ड्रग के नाम से भी जाना जाता है. पुलिस ने कश्मीरी गेट इलाके में पिकेट चैकिंग के दौरान 42 हजार टेबलेट जब्त की हैं जिसको 'फाइटर ड्रग' भी कहा जाता है.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने नशीली दवा ट्रामाडोल हाईड्रोक्लाराइड टेबलेट (Tramadol Hydrochloride tablets) की तस्करी करने के आरोप में छह लोगों को गिरफ्तार किया है. इस दवा को वैश्विक आतंकवादी संगठन आईएसआईएस (ISIS) के नाम से भी जाना जाता है. पुलिस ने कश्मीरी गेट इलाके में पिकेट चैकिंग के दौरान इन 42 हजार ट्रामाडोल हाईड्रोक्लाराइड टेबलेट को जब्त किया गया था जिसको 'फाइटर ड्रग' भी कहा जाता है.

आरोपियों की पहचान भटिंडा पंजाब निवासी बोहड़ सिंह, सेवक सिंह, विनोद, फर्श खाना दिल्ली निवासी नावेद, गीता कॉलोनी निवासी गौरव कालरा और लोनी गाजियाबाद निवासी नरेन्द्र उर्फ पिंटू के तौर पर हुई.

डीसीपी नार्थ जिला एंटो अल्फोंस ने बताया कि दो जून को जीपीओ कश्मीरी गेट पिकेट पर चैकिंग की जा रही थी. इस दौरान पुलिस ने सफेद रंग की एक कार (टैक्सी) को रुकवाया. गाड़ी में ड्राइवर समेत चार लोग बैठे थे. उनसे पुलिस ने सवाल जवाब किए तो आरोपी एकदम से घबरा गए. पुलिस ने उन्हें वहीं पकड़ लिया.

संदेह होने पर टैक्सी की तलाशी ली गई, जहां 74 बॉक्स मिले. इनमें 42 हजार ट्रामाडोल टेबलेट मिली. उस वक्त पकड़े गए लोगों की पहचान बोहड सिंह, सेवक सिंह व विनोद के तौर पर हुई. ट्रामाडोल टेबलेट एनडीपीएस एक्ट के अर्न्तगत आती है जिसका इस्तेमाल तेज दर्द में आराम के लिए किया जाता है. इन लोगाें के पास भारी मात्रा में मिली टेबलेट को लेकर सवाल किए गए, जिनका वे कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सके. वे इन टेबलेट को लेकर कोई दस्तावेज भी नहीं दिखा सके.
इस मामले को लेकर कश्मीरी गेट थाने में एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. इनसे हुई पूछताछ और टैक्नीकल सर्विलांस से नावेद और गौरव कालरा को भी पकड़ लिया. नावेद ने ही पहले पकड़े गए तीनों लोगों को अवैध टेबलेट सप्लाई की थी. नावेद ने यह गोलियां गौरव कालरा से ली थी. आखिर में पुलिस ने छठे आरोपी नरेन्द्र कुमार मिश्रा को भी दबोच लिया. वह डिस्ट्रीब्यूटर है.

पुलिस ने इसके ऑफिस कम शॉप डीएलएफ अंकुर विहार गाजियाबाद में भी रेड मारी. पुलिस की टीम इन टेबलेट के खरीददारों को पकड़ने के लिए भटिंडा पंजाब भी गई. लेकिन वे पकड़े नहीं जा सके. फिलहाल सभी आरोपियों से गहन पूछताछ के बाद उन्हें कोर्ट में पेश कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है.

पुलिस जांच में पता चला कि जब्त की गई ड्रग हिमाचल प्रदेश में बनी थी. फैक्टरी मालिक ने इन टेबलेट को बनाने को लेकर कोई लाइसेंस भी नहीं ले रखा था. इस सिलसिले में काला एंब (हिमाचल प्रदेश) में भी एक केस दर्ज है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज