जब Airport पर खोले गए सब्ज़ी मसालों के पैकेट्स, देखकर दंग रह गए कस्टम अफसर

यही हैं मसालों के वो पैकेट जिसमे ड्रग्स बरामद की गई है.
यही हैं मसालों के वो पैकेट जिसमे ड्रग्स बरामद की गई है.

पैकेट्स में मसालों की जगह ड्रग्स (Drugs) भरी हुई थी. कुल 37 पैकेट्स कस्टम अफसरों ने बरामद किए हैं. चार लोगों को भी हिरासत (Custody) में लिया गया है. सभी आरोपी भारतीय हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 13, 2020, 8:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कस्टम विभाग (Custom Deprtment) रोज़ाना की तरह चेन्नई एयरपोर्ट (Chennai airport) पर चेकिंग कर रहा था. इसी दौरान कस्टम अफसरों की निगाह ऑस्ट्रेलिया (Australia) जा रहे सब्जी मसालों के पैकेट्स पर पड़ी. यह पैकेट्स मिर्ची और सांभर मसाले के थे. 100 और 50 ग्राम पैकेट्स को देखकर अफसरों को कुछ शक हुआ. पहले एक और फिर दूसरा, तीसरा-चौथा, एक-एक करके जब सभी पैकेट्स को खोलकर चेक किया गया तो अफसर भी दंग रह गए. पैकेट्स में मसालों की जगह ड्रग्स (Drugs) भरी हुई थी. कुल 37 पैकेट्स कस्टम अफसरों ने बरामद किए हैं. चार लोगों को भी हिरासत (Custody) में लिया गया है. सभी आरोपी भारतीय हैं.

हवाला के जरिए ऐसे लाई जाती है देश में करेंसी
हाल ही में एक एयर होस्टेस हवाला की रकम के साथ पकड़ी गई थी. वो सिल्वर फॉइल में डॉलर को लपेटकर ले जाने की कोशिश कर रही थी. जिसे जांच के दौरान पकड़ लिया गया. सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े सूत्र बताते हैं कि इसके अलावा एक तरीका और भी है जिसे हवाला करोबारी बहुत इस्तेमाल करते हैं. सूटकेस के तले में एक तहखाना बनाया जाता है.


ये शर्तें पूरी किए बिना सिनेमा हॉल में नहीं देख सकेंगे फिल्‍म, जारी हुए नए नियम



उसके अंदर नोटों की गड्डी लगा दी जाती है. फिर उसके ऊपर लोहे की एक पतली चादर लगा दी जाती है. लोहे की चादर को काले कपड़े से ढक दिया जाता है. उसके ऊपर दूसरा सामान रख दिया जाता है. इसके बाद स्कैनर में सिर्फ ऊपरी सामान दिखाई देता है. मैटल की चादर को स्कैनर काले धब्बे के रूप में दिखाता है. जिसके चलते उसके नीचे भी कोई सामान होने का पता स्कैनर को नहीं चल पाता है.

पानी और दूध में घोलकर ला रहे हैं नशीला पाउडर
सूत्रों की मानें तो तस्कर हवाई मार्ग के जरिए बड़ी मात्रा में नशीले पाउडर देश में ला रहे हैं. नशीले पाउडर को पकड़ने के लिए सुरक्षा एजेंसियों के पास जहां एकमात्र जरिया डॉग स्क्वॉयड ही है, वहीं तस्कर नए-नए तरीके अपना रहे हैं. ऐसा ही एक तरीका है पानी.

जानकारों की मानें तो तस्कर नशीले पाउडर को पानी या दूध में घोल लेते हैं. हाथ में एक या दो लीटर पानी की बोतल या साथ में दूध होने पर सुरक्षाकर्मियों को कोई शक नहीं होता है. लेकिन असल में ये तस्करों का एक तरीका है. इसके बाद एक केमिकल का इस्तेमाल करते हुए पानी में से उस पाउडर को अलग कर लिया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज