Cyclone Tauktae: गुजरात आने जाने वाली इन ट्रेनों को किया रद्द, चक्रवाती तूफान के चलते लिया फैसला

गुजरात के कोस्‍टल एरि‍या में चक्रवाती तूफान टाउते की चेतावनी के बाद कई ट्रेनों को रद्द करने का फैसला किया गया है. (File Photo)

गुजरात के कोस्टल एरिया में Cyclone Tauktae अलर्ट के बाद उत्तर पश्चिम रेलवे की ओर से सुरक्षा के लिहाज से 3 ट्रेनों की सेवाओं को 17, 18 और 21 मई के लिए रद्द करने का फैसला किया है. तीनों ट्रेनें प्रारंभिक स्टेशनों से रद्द रहेंगी. यह तीनों ट्रेनें भुज-बरेली और ओखा-देहरादून के बीच संचालित होती हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान टाउते (Cyclone Tauktae) के 17 से 18 मई को गुजरात (Gujarat) में तबाही मचाने की संभावना जताई है. पश्चिमी तट की ओर से इसके आने की संभावना है. साथ ही चक्रवात के चलते सौराष्ट्र और कच्छ के समुद्र तट पर अलर्ट जारी कर दिया गया हैं.

    इस साइक्लोन अलर्ट के बाद उत्तर पश्चिम रेलवे की ओर से सुरक्षा के लिहाज से 3 ट्रेनों की सेवाओं को 17, 18 और 21 मई के लिए रद्द करने का फैसला किया है. तीनों ट्रेनें प्रारंभिक स्टेशन से रद्द रहेंगी. यह तीनों ट्रेनें भुज-बरेली और ओखा-देहरादून के बीच संचालित होती हैं. वहीं, बरेली-भुज, देहरादून-ओखा और मुजफ्फरपुर-पोरबंदर स्पेशल ट्रेनें भी 16 और 17 मई को रद्द रहेंगी.

    उत्तर पश्चिम रेलवे के उप महाप्रबंधक (सामान्य) व मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट शशि किरण के अनुसार गुजरात के तटीय क्षेत्र में साइक्लोन की चेतावनी दी गई है. इस कारण से इन सभी ट्रेनों को प्रारंभिक स्टेशन से रद्द किया जा रहा है:-

    रद्द रेलसेवाएं (प्रारंभिक स्टेशन से)

    1. गाडी सं. 04322, भुज-बरेली स्पेशल दिनांक 17.05.2021 को रद्द रहेगी.

    2. गाडी सं. 04312, भुज-बरेली स्पेशल दिनांक 18.05.2021 को रद्द रहेगी.

    3. गाडी सं. 09565, ओखा-देहरादून स्पेशल दिनांक 21.05.2021 को रद्द रहेगी.

    4. गाडी सं. 04321, बरेली-भुज स्पेशल दिनांक 16.05.2021 एवं 17.05.2021 को रद्द रहेगी.

    5. गाडी सं. 09566, देहरादून-ओखा स्पेशल दिनांक 16.05.2021 को रद्द रहेगी.

    6. गाड़ी सं. 09270, मुजफ्फरपुर-पोरबंदर स्पेशल दिनांक 16.05.2021 को रद्द रहेगी.

    मौसम विभाग की माने तो गुजरात के अलावा कई राज्यों में भी इसका असर होगा. इस पर चेतावनी जारी करते हुए बताया गया है कि 16 मई के आसपास पूर्व मध्य अरब सागर में इसकी रफ्तार तेज होने की संभावना है. सिर्फ गुजरात, महाराष्ट्र और गोवा ही नहीं बल्कि, चक्रवाती तूफान, केरल, कर्नाटक और लक्षद्वीप को भी प्रभावित कर सकते है.