Delhi Government: वैक्सीन की कमी के चलते दिल्ली में बंद किए 500 वैक्सीनेशन सेंटर, सिर्फ बचा इतना स्टॉक

वैक्सीन की भारी किल्लत के चलते एक बार फिर वैक्सीनेशन सेंटरों को बंद करने की स्थिति पैदा हो गई है. (File Photo)

Corona Vaccination : दिल्ली में अभी तक सिर्फ 1.10 करोड़ लोगों को ही वैक्सीन की दोनों डोज दी जा सकी हैं. वहीं अब वैक्सीन की भारी किल्लत के चलते एक बार फिर वैक्सीनेशन सेंटरों को बंद करने की स्थिति पैदा हो गई है. 500 से ज्यादा वैक्सीनेशन सेंटरों को बंद कर दिया गया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली सरकार (Delhi Government) कोरोना की थर्डवेव (Third wave of Corona) से बचाने के लिए पूरी दिल्ली को जल्द से जल्द वैक्सीनेट कराने की कोशिश में जुटी हुई है. लेकिन दिल्ली में अभी तक सिर्फ 1.10 करोड़ लोगों को ही वैक्सीन की दोनों डोज दी जा सकी हैं. वहीं अब वैक्सीन की भारी किल्लत के चलते एक बार फिर वैक्सीनेशन सेंटरों (Vaccination Centre) को बंद करने की स्थिति पैदा हो गई है. 500 से ज्यादा वैक्सीनेशन सेंटरों को बंद कर दिया गया है.

    दिल्ली सरकार का कहना है कि दिल्ली में वैक्सीन की भारी किल्लत है. रविवार को भी करीब डेढ़ लाख कोविशील्ड की वैक्सीन आई है और अब हमारे पास करीब एक लाख 68 हजार वैक्सीन है. बुधवार दोपहर तक ही चल पाएंगी. इसके बाद फिर दिल्ली में वैक्सीन की किल्लत हो जाएगी.

    ये भी पढ़ें : COVID-19 Vaccine: क्यों कोरोना वैक्सीन की दूसरा डोज लेने पर ज्यादा साइड इफेक्ट दिख रहे हैं?

    दिल्ली के पास वैक्सीनेशन की क्षमता, हर रोज चाहिए तीन से चार लाख वैक्सीन डोज
    दिल्ली सरकार का यह भी कहना है कि वैक्सीन की कमी की वजह से दिल्ली में करीब 500 से ज्यादा वैक्सीनेशन सेंटर को बंद करना पड़ा है. लेकिन जैसे ही वैक्सीन मिल जाएगी तो इन सभी सेंटर को फिर से खोल दिए जाएगा. सरकार के पास वैक्सीनेशन की क्षमता है और उसको,तीन से चार लाख वैक्सीन रोजाना चाहिए.

    सरकार का दावा है कि वैक्सीन मिल जाए, तो खूब वैक्सीन लगाने के लिए तैयार हैं. वैक्सीन की कमी के चलते ही बार-बार वैक्सीनेशन सेंटर को बंद करना पड़ रहा है. जबकि हरियाणा वैक्सीन बचा कर रख लेता‌ है. लेकिन दिल्ली को जो वैक्सीन मिल रही है, उसको तुरंत लगवाया जा रहा है.

    कोरोना से बचाव के लिए सभी को वैक्सीन लगवाना बेहद जरूरी 
    दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendar Jain) का‌ कहना है कि कोरोना से बचाव के लिए सभी को वैक्सीन लगवाना बेहद जरूरी है. इसलिए हम लोगों ने सभी को वैक्सीन लगाने के लिए पूरी तैयारी कर रखी है. जैसे ही हमें वैक्सीन मिलेगी, हम लोगों को जल्द से जल्द लगा देंगे. स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर कहा कि मेरा यह मानना है कि कोरोना की संभावित लहर को रोका जा सकता है, लेकिन यह तभी संभव है, जब सभी लोग कोरोना के दिशा निर्देशों का पालन करेंगे.

    ये भी पढ़ें : फाइजर vs एस्ट्राजेनेका: डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ कौन सी वैक्सीन है असरदार? जानें क्या कहती हैं स्टडीज

    मान कर चलें कोरोना लहर दोबारा आ सकती है
    मंत्री जैन का यह भी कहना है कि पिछली बार भी क्या हुआ था. जनवरी, फरवरी में कोरोना के केस बहुत कम हो गए थे. तब लोगों को लगा कि अब तो कोरोना खत्म हो गया है. लेकिन फिर केस बढ़ गए. इसलिए हमें यह नहीं मान लेना चाहिए कि कोरोना खत्म हो गया है.

    अभी हमें यही मान कर चलना है कि कोरोना की लहर दोबारा से आ सकती है. जब तक सोसायटी के अंदर कोराना का वायरस मौजूद है, यह फैल सकता है. इसलिए कोरोना से बचाव का एक ही तरीका है कि सभी लोग मास्क पहनें. अगर आप घर से बाहर निकलें और किसी से मिलें, तो मास्क जरूर पहनें.

    दिल्ली के अस्पतालों में 25 फीसद से अधिक मरीज बाहर से थे
    स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना जब पीक पर था, तब भी दिल्ली के अस्पतालों के अंदर दिल्ली के बाहर से करीब 25 फीसद मरीज थे और दिल्ली सरकार के अस्पतालों में सबका मुफ्त इलाज किया गया. आज भी हमारे अस्पतालों में रोजाना 10 से 15 मरीज भर्ती होते हैं, उसमें भी 25 से 30 फीसद मरीज बाहर के ही होते हैं. हमने किसी को मना नहीं किया है.

    ये भी पढ़ें : कोरोना नियमों के उल्लंघन के चलते दिल्ली का एक और बाजार 16 जुलाई तक बंद

    दिल्ली में कोरोना के सक्रिय केस करीब 693 बचे
    सोमवार को दिल्ली में कोरोना के कुल 45 संक्रमित केस आए थे. यह संख्या पिछले सवा साल में सबसे कम है. दिल्ली में संक्रमण दर 0.1 फीसद से थोड़ा कम चल रही है. दिल्ली में कोरोना के सक्रिय केस करीब 693 अभी हैं. बावजूद इसके दिल्ली के लोग अपना ध्यान रखें, मास्क लगाकर ही घर से निकलें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.