COVID 19 in India: Lockdown ने रोकी ट्रेनों की रफ्तार, अब संचालित ट्रेनों में भी 50 फीसदी की कटौती!

रेलवे जोन में संचालित ट्रेनों की संख्या भी घटकर 50 फीसदी रह गई है. (File Photo)

रेलवे जोन में संचालित ट्रेनों की संख्या भी घटकर 50 फीसदी रह गई है. (File Photo)

Indian Railways: उत्तर पश्चिम रेलवे के अंतर्गत चलने वाली स्पेशल ट्रेनों की मौजूदा स्थिति अब मात्र 50 फीसदी रह गई है. साथ ही ट्रेनों के कैंसिल होने के चलते 42 आरक्षण केन्द्रों का समय घटाकर केवल एक पारी यानी सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक किया गया है. आरक्षण केंद्रों दो पारी की जगह एक पारी में ही चलेंगे. करीब 500 से ज्यादा स्पेशल ट्रेनों की संख्या अब 260 रह गई है.

  • Share this:

नई दिल्ली. पिछले साल 2020 में कोविड-19 (COVID-19) संक्रमण की आई पहली वेब के बाद से अभी तक रेलवे ट्रेनों (Railway Trains) का पूरी तरीके से शत-प्रतिशत संचालन नहीं कर रही है. वही कोरोना गाइडलाइंस के तहत अभी स्पेशल ट्रेनों (Special ‍‍Trains) को ही जरूरत के हिसाब से संचालित से किया जा रहा है.

लेकिन अब कोरोना की दूसरी वेब (Second Wave of Corona) के खतरनाक होने से राज्यों में लागू लॉकडाउन ‍‍(Lockdown) के बाद से संचालित ट्रेनों में भी अब भारी कटौती करनी पड़ रही है. साथ ही संचालित स्पेशल ट्रेनों के फेरों में भी लगातार कटौती करनी पड़ रही है.

इसके पीछे एक बड़ी वजह यह है कि लॉकडाउन के चलते मौजूदा संचालित ट्रेनों को पर्याप्त संख्या में यात्री नहीं मिल पा रहे हैं. इसके चलते अब कई रेलवे जोन में संचालित ट्रेनों की संख्या भी घटकर 50 फीसदी रह गई है.

उत्तर पश्चिम रेलवे के अंतर्गत चलने वाली स्पेशल ट्रेनों की मौजूदा स्थिति अब मात्र 50 फीसदी रह गई है. साथ ही ट्रेनों के कैंसिल होने के चलते यात्री आरक्षण केंद्रों की दो पारी को भी घटाकर एक करने का फैसला लगातार किया जा रहा है.
उत्तर पश्चिम रेलवे के अंतर्गत चलने वाली स्पेशल ट्रेनों की संख्या करीब 500 से ज्यादा है. लेकिन कई राज्यों में लगे सख्त लॉकडाउन के बाद इन ट्रेनों को पर्याप्त संख्या में यात्री नहीं मिल पा रहे हैं. इसके चलते अब इनकी संख्या 260 के आस-पास रह गई है. रेलवे को अब समय-समय पर यात्रियों की संख्या कम होने के चलते ट्रेनों को रद्द करने का फैसला लेना पड़ रहा है.

उत्तर पश्चिम रेलवे अधिकारियों की मानें तो दुरंतो ट्रेनें कैंसिल चल रही हैं. वहीं, राजधानी (Rajdhani) और शताब्दी एक्सप्रेस (Shatabdi Express) ट्रेनों की भी यात्रियों की कमी के चलते फ्रीक्वेंसी में कटौती की गई है.

उत्तर पश्चिम रेलवे के उप महाप्रबंधक (सामान्य) लेफ्टिनेंट शशि किरण का कहना है कि कोरोना के संक्रमण के कारण ट्रेनों में यात्री भार में कमी आई है. इसके कारण कुछ ट्रेनों काे रद्द किया जा रहा है. रेलवे जोन पर कोरोना से पूर्व की स्थिति की तुलना में अभी लगभग 50 प्रतिशत ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है. रेलवे द्वारा परिस्थतियों का ध्यान में रखकर लगातार समीक्षा की जा रही है.



उन्होंने बताया कि आवश्यकतानुसार स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है. कोरोना संक्रमण के कारण यात्री भार कम होने से टिकट बुकिंग (Ticket Reservation) पर भी असर पड़ा है जिसको देखते हुये उत्तर पश्चिम रेलवे के 42 आरक्षण केन्द्रों (Reservation Centres) का समय घटाकर केवल एक पारी यानी सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक किया गया है.

यात्रि‍यों से अपील भी की है कि कोरोना संक्रमण को रोकने में रेलवे का सहयोग करें तथा स्टेशन व ट्रेन में हमेशा मास्क/फेसकवर लगाकर रहे. वहीं, सोशल डिस्टेंशिंग तथा स्वच्छता का ध्यान रखकर कोविड प्रोटोकॉल (Covid Protocol) का पालन करें.

रेलवे के दूसरे जोनों में भी ट्रेनों को रद्द करने का सिलसिला निरंतर जारी

इसके अतिरिक्त उत्तर रेलवे (Northern Railway), पूर्वोत्तर रेलवे (North Eastern Railway), मध्य रेलवे (Central Railway) और अन्य रेलवे जोनों (Railway Zones) के अंतर्गत संचालित होने वाली  स्पेशल ट्रेनों को लेकर भी लगातार निर्णय लिए जा रहे हैं.

इन जोनों के अधीनस्थ चलने वाली स्पेशल ट्रेनों को भी यात्रियों की पर्याप्त संख्या नहीं मिल पा रही है. इसकी वजह से इनको भी समय-समय पर अगले आदेशों तक रद्द करने का निर्णय लगातार लिया जा रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज