• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Delhi Police Commissioner: इन खूबियों के चलते राकेश अस्थाना को मिली दिल्ली पुलिस की कमान

Delhi Police Commissioner: इन खूबियों के चलते राकेश अस्थाना को मिली दिल्ली पुलिस की कमान

गुजरात कैडर के 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना को दिल्ली पुलिस का कमिश्नर बनाया गया है.

गुजरात कैडर के 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना को दिल्ली पुलिस का कमिश्नर बनाया गया है.

Delhi Police Commissioner: गुजरात कैडर के 1984 बैच के आईपीएस (IPS) अधिकारी राकेश अस्थाना (Rakesh Asthana) को दिल्ली पुलिस का कमिश्नर (Delhi Police Commissioner) बनाया गया है. मंगलवार शाम तक गृह मंत्रालय (MHA) के नोटिफिकेशन जारी होने से पहले तक दिल्ली पुलिस के भी किसी बड़े अधिकारी को इस फैसले की भनक नहीं थी.

  • Share this:

नई दिल्ली. गुजरात कैडर के 1984 बैच के आईपीएस (IPS) अधिकारी राकेश अस्थाना (Rakesh Asthana) को दिल्ली पुलिस का कमिश्नर (Delhi Police Commissioner) बनाया गया है. मंगलवार शाम तक गृह मंत्रालय (MHA) के नोटिफिकेशन जारी होने से पहले तक दिल्ली पुलिस के किसी बड़े अधिकारी को भी इस फैसले की भनक नहीं थी. अगर किसी को थोड़ी बहुत भनक रही होगी तो वह गृह मंत्रालय के कुछ सीनियर अधिकारियों के साथ पीएमओ को ही रही होगी. बता दें कि एक महीना पहले ही बालाजी श्रीवास्तव को दिल्ली पुलिस का कार्यकारी कमिश्नर बनाया गया था. अभी एक महीने भी नहीं हुए थे कि उनकी जगह राकेश अस्थाना को सीपी बनाने का फरमान आ गया. बालाजी से पहले सीपी के पद से रिटायर होने वाले एसएन श्रीवास्तव को भी पहले कार्यकारी सीपी ही बनाया गया था. बाद में सीपी का लेटर जारी हुआ था. ऐसे में उम्मीद थी कि बालाजी को भी कुछ महीने के बाद सीपी का लेटर जारी हो जाएगा, लेकिन इस बीच राकेश अस्थाना की नियुक्ति का फरमान आ गया. आइए जानते हैं कि राकेश अस्थाना के कुछ पुराने चर्चित केस को, जिनकी वजह से अस्थाना काफी चर्चा में रहे थे.

राकेश अस्थाना का सीपी बनने का सफर कितना कठिन कितना आसान
दिल्ली पुलिस को नजदीक से समझने वाले कहते हैं कि केंद्र सरकार को अगर राकेश अस्थाना को सीपी बनाना ही था तो वह एसएन श्रीवास्तव के रिटायर होने के बाद भी बना सकती थी. अचानक केंद्र सरकार के इस फैसले को समझने में थोड़ा वक्त लगेगा, लेकिन इतना तो तय है कि राकेश अस्थाना तेज तर्रार हैं और दिल्ली को पिछले कई सालों से बहुत नजदीक से समझ रहे हैं. राकेश अस्थाना दिल्ली पुलिस के सीपी बनने से पहले बीएसएफ के डीजी और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के निदेशक के पद पर काम रहे थे. इससे पहले वह सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर के तौर पर कई अहम केस को डील किया है.

Rakesh Asthana, Delhi Police Commissioner, MHA, Lalu Prasad Yadav, IPS, ‬‪Central Bureau of Investigation, Gujarat, story of Rakesh asthana, राकेश अस्थाना, दिल्ली पुलिस, सीपी दिल्ली, दिल्ली पुलिस का कमिश्नर, कमिश्नर ऑफ दिल्ली पुलिस, राकेश अस्थाना, पीएम मोदी, सीबीआई, स्पेशल डायरेक्टर, सुशांत सिंह राजपूत, लालू प्रसाद यादव, एनसीबी, बीएसएफ, बालाजी श्रीवास्तव, गुजरात कैडर, 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी, गृह मंत्रालय, लालू यादव, चारा घोटाला, चारा घोटाले की कहानी, पीएम मोदी,IPS Rakesh Asthana, Delhi Police Commissioner, Fodder Scam, Asaram Bapu Case, Sushant Singh Rajput Drugs Case, PM Narendra Modi, BSF, CBI, Alok Verma, Godhra Violence Case

राकेश अस्थाना पुलिस महकमे के लिए कोई नया नाम नहीं हैं.

चारा घोटाला में लालू को सलाखों के पीछे भेजने में निभाई अहम भूमिका
राकेश अस्थाना पुलिस महकमे के लिए कोई नया नाम नहीं हैं. 90 के दशक में भी बिहार के राजनीतिक गलियारे के साथ पुलिस महकमे में भी राकेश अस्थाना के नाम की काफी चर्चा होती थी. बिहार के दिग्गज नेता और आरजेडी के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) और राकेश अस्थाना के बीच तकरार की कहानी उस जमाने के नेता और अधिकारियों के मुंह से सुनने को मिलती रहती है. यह कहना गलत नहीं होगा कि लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाला में सलाखों के पीछे पहुंचाने में इस अधिकारी का बड़ा हाथ रहा है. बीते कुछ सालों से तो अस्थाना की चर्चा दूसरे वजहों से भी रही है. सीबीआई वर्सेज सीबीआई का मामला हो या सुशांत सिंह राजपूत केस में ड्रग कनेक्शन का मामला सभी मामलों में अस्थाना चर्चा में रह रहे थे.

केंद्र सरकार को राकेश अस्थाना की क्यों जरूरत पड़ी
सूत्रों की मानें तो गृह मंत्रालय 26 जनवरी जैसी घटना दिल्ली में दोबारा न हो इसको लेकर लगातार काम कर रही थी. केंद्र सरकार को आगामी 15 अगस्त को लेकर भी चिताएं साफ झलक रही थी. बीते कुछ दिनों से जिस तरह से किसान बार-बार ट्रैक्टर से संसद मार्च करने की बात कर रहे हैं, इससे केंद्र सरकार को मामला बिगड़ने का डर था. इस बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ट्रैक्टर चला कर संसद तक पहुंच गए. इस घटना ने दिल्ली पुलिस की नींद तो छीन ही ली गृह मंत्रालय को भी अलर्ट कर दिया. सूत्र बता रहे हैं कि केंद्र सरकार को एक ऐसे अधिकारी की तलाश थी, जो विश्वस्त के साथ-साथ तेज-तर्रार भी हो. जिसको दिल्ली की स्थिति को संभालने के लिए आलाधिकारियों या गृह मंत्रालय को फोन नहीं करना पड़े. वह खुद भी बड़ा फैसला ले सके और जिसका ट्रैक रिकॉर्ड भी ठीक रहा हो. इस लिहाज से अस्थाना सबसे फिट बैठे.

Rakesh Asthana, Delhi Police Commissioner, MHA, Lalu Prasad Yadav, IPS, ‬‪Central Bureau of Investigation, Gujarat, story of Rakesh asthana, राकेश अस्थाना, दिल्ली पुलिस, सीपी दिल्ली, दिल्ली पुलिस का कमिश्नर, कमिश्नर ऑफ दिल्ली पुलिस, राकेश अस्थाना, पीएम मोदी, सीबीआई, स्पेशल डायरेक्टर, सुशांत सिंह राजपूत, लालू प्रसाद यादव, एनसीबी, बीएसएफ, बालाजी श्रीवास्तव, गुजरात कैडर, 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी, गृह मंत्रालय, लालू यादव, चारा घोटाला, चारा घोटाले की कहानी, पीएम मोदी,

अमित शाह

राकेश अस्थाना क्यों में चर्चा में रहते हैं
बीते दो-तीन दशकों से भी ज्यादा समय से राकेश अस्थाना मीडिया की सुर्खियों में रह रहे हैं. खासकर मोदी सरकार के बीते 5-7 सालों के कार्यकाल में इनकी चर्चा जोर-शोर से हुई है. दूसरी तरफ अस्थाना का विवादों से भी नाता रहा है. राकेश अस्थाना के सीबीआई में स्पेशल डायरेक्टर रहते पूर्व सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा से अदावत भी जगजाहिर है. कुछ साल पहले ही सीबीआई में स्पेशल डायरेक्टर रहते इन पर एक मामला भी दर्ज हुआ था. हालांकि, लंबी कानूनी लड़ाई के बाद कुछ दिन पहले ही उस मामले से अस्थाना बरी हुए हैं.

ये भी पढ़ें: किसानों को लेकर मोदी सरकार ने उठाया अहम कदम, अब बड़े पैमाने पर होगा नैनो यूरिया का उत्पादन

किस्मत के धनी हैं अस्थाना?
मोदी सरकार ने राकेश अस्थाना को अब एक बड़ी जिम्मेदारी दी है. पिछले कई सालों से जब भी सीबीआई के नए डायरेक्टर बनाने की बात होती थी तो अस्थाना का नाम भी लिस्ट में रहता था, लेकिन हर बार वह चूक जाते थे, लेकिन इस बार किस्मत ने अस्थाना का साथ दिया और रिटायरमेंट से ठीक तीन दिन पहले वह दिल्ली पुलिस के सीपी बन गए.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज