लाइव टीवी

Delhi Election 2020: दिल्ली में चुनाव प्रचार नहीं करने के लिए कांग्रेसियों ने बनाए ये बहाने

Ranjita Jha | News18Hindi
Updated: February 6, 2020, 4:14 PM IST
Delhi Election 2020: दिल्ली में चुनाव प्रचार नहीं करने के लिए कांग्रेसियों ने बनाए ये बहाने
दिल्ली में कांग्रेस की भी भूमिका कही वोटकटवा की तो नहीं रह गई. (प्रतीकात्मक फोटो)

Delhi Election: कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व प्रचार के अंतिम दौर में दिल्ली के लोगों के बीच पहुंचा. इसके अलावा दिल्ली के नेता भी चुनाव प्रचार से दूर नजर आए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2020, 4:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार (Delhi Assembly Election Campaign) का गुरुवार को आखिरी दिन है. आम आदमी पार्टी (AAP), बीजेपी और कांग्रेस यहां मुकाबले में है. लेकिन आक्रामक चुनाव प्रचार की बात करें तो कांग्रेस इस चुनाव को त्रिकोणीय बनाने में असफल रही है. कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व प्रचार के अंतिम दौर में दिल्ली के लोगों के बीच पहुंचा. इसके अलावा दिल्ली के नेता भी चुनाव प्रचार से दूर ही नजर आए. दिल्ली विधानसभा चुनाव की घोषणा के समय से लेकर प्रचार तक में कांग्रेस की स्थिति एक सी रही. चुनाव प्रचार में भी कांग्रेस तीसरे नंबर की पार्टी दिख रही है.

उम्मीदवार के चयन में भी नहीं रही कोई जल्दबाजी


विधानसभा चुनाव के उम्मीदवारों के चयन में भी कांग्रेस ने कोई जल्दबाजी नहीं दिखाई थी. आप और बीजेपी के उम्मीदवारों की घोषणा के बाद नॉमिनेशन के आखिरी दिन तक कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार उतारे. वहीं अगर प्रचार की बात करें तो कांग्रेस के नेता प्रचार करते तो दिखे लेकिन इसे महज खानापूर्ति ही माना जाता रहा.

40 स्टार प्रचारकों में से ज्यादातर रहे गायब


कहने के लिए कांग्रेस के पास 40 से ज्यादा संख्या में स्टार प्रचारक थे. लेकिन प्रचार में केवल कुछ ही नेता विधानसभा क्षेत्रों में दिखे.
दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020, कांग्रेस, दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रचार 2020, राजनीति, कांग्रेस नेता, Delhi Assembly Election 2020, Congress, Delhi Assembly Election Campaign 2020, Politics, Congress Leaders
दिल्ली में चुनाव प्रचार के आखिरी हफ्ते में राहुल-प्रियंका ने चुनाव प्रचार किया (फाइल फोटो)


आखिरी हफ्ते में नजर आया केंद्रीय नेतृत्व

दिल्ली में चुनाव प्रचार के लिए कुल मिलाकर 15 दिनों का समय था, जिसमें आखिरी के हफ्ते में गांधी परिवार चुनाव प्रचार में उतरी. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की एक रैली तय की गई. लेकिन उनकी तबीयत खराब रहने के कारण उसे रद्द करना पड़ा.

राहुल और प्रियंका ने की केवल इतनी रैलियां

इस चुनाव में राहुल और प्रियंका गांधी ने चार रैलियां की. जिसमें प्रियंका गांधी ने दो रैली राहुल गांधी के साथ की और राहुल गांधी ने 70 विधानसभा वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव में मात्र चार रैलियों को संबोधित किया.

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020, कांग्रेस, दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रचार 2020, राजनीति, कांग्रेस नेता, Delhi Assembly Election 2020, Congress, Delhi Assembly Election Campaign 2020, Politics, Congress Leaders
स्टार प्रचारक की लिस्ट में शामिल कांग्रेस के मुख्यमंत्री भी चुनाव प्रचार से दूर दिखे


कांग्रेस के सभी CM भी नही पहुंचे दिल्ली

दिल्ली चुनाव में स्टार प्रचारकों की लिस्ट होने के बावजूद भी कांग्रेस के सभी मुख्यमंत्री चुनावी सभा में नहीं दिखे. राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, छतीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने केवल 2-4 जनसभाओं को संबोधित किया, लेकिन इसके अलावा प्रोग्राम तय होने के बाद भी पंजाब के सीएम कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने अस्वस्थ होने की बात कह कर चुनावी रैलियों को रद्द कर दिया. वहीं मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ ने एक भी दिन दिल्ली में प्रचार नहीं किया.

स्थानीय नेता भी रहे नदारद

दिल्ली का चुनाव होने के बावजूद प्रदेश कांग्रेस के कई बड़े नेता टिकट वितरण से नाराज होकर चुनाव प्रचार से दूर रहे. एक ओर जहां दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष जेपी अग्रवाल बेटे को टिकट नहीं मिलने की वजह से पार्टी के लिए प्रचार करने से मना कर दिया. वहीं पूर्व सांसद और पूर्वांचल के चेहरे महाबल मिश्रा के बेटे ने चुनाव से ठीक पहले आप का दामन थाम लिया. पार्टी ने महाबल मिश्रा को पार्टी विरोधी गतिविधि के चलते कांग्रेस से निलंबित कर दिया.

कांग्रेस, अजय माकन, दिल्ली विधानसभा चुनाव, संदीप दीक्षित, Congress, Ajay Maken, Delhi Assembly Elections, Sandeep Dixit,
तीन बार की मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित सहित कई दिग्गज नेता चुनाव प्रचार से दूर दिखे (फाइल फोटो)


नहीं दिखे संदीप दीक्षित और अजय माकन

पूर्व CM शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित भी दिल्ली चुनाव में प्रचार करते नहीं दिख रहे हैं. पार्टी के एक और पूर्व अध्यक्ष अजय माकन चुनाव से ठीक पहले निजी कारणों का हवाला देकर विदेश चले गए. हालांकि कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि बीजेपी-आप ने इस चुनाव को सांप्रदायिक बना दिया है. जबकि कांग्रेस शीला दीक्षित के 15 साल के काम के नाम पर वोट मांग रही है.

कांग्रेस नहीं बनना चाहती है वोट कटवा

बहरहाल कांग्रेस के खराब चुनाव प्रचार पर जानकारों का अपना आकलन है. कांग्रेस को भी पता है कि मुख्य मुकाबला आप और बीजेपी के बीच है इसलिए वो वोट कटवा बनकर बीजेपी को फायदा नहीं पहुचाना चाह रही है.

यह भी पढ़ें: 

'JNU के योगी' राघवेंद्र मिश्रा पर छात्रा के यौन उत्पीड़न का आरोप, गिरफ्तार

आखिरी दिन बीजेपी और आप ने झोंकी ताकत, जानिए कौन कहां कर रहा है प्रचार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 2:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर