Assembly Banner 2021

अब आप घर बैठे नहीं कर सकेंगे गलत ट्रैफिक चालान की ऑनलाइन शिकायत, जानिए क्यों

नोएडा में गलत ई चालान कटने की शिकायत करने वाला ई पोर्टल बंद कर दिया गया है. (सांकेतिक फोटो)

नोएडा में गलत ई चालान कटने की शिकायत करने वाला ई पोर्टल बंद कर दिया गया है. (सांकेतिक फोटो)

Noida Traffic News: 72 घंटे में ऐसी शिकायतों को दूर करने का दावा भी किया जाता था. लेकिन अब नोएडा में यह ऑनलाइन सुविधा बंद कर दी गई है. काम बंद होने के पीछे नोएडा पुलिस ने प्राइवेट कंपनी की गलती बताई.

  • Share this:
नोएडा. आपके मोबाइल पर आपके वाहन का ई-चालान (E-Challan) आता था. घर पर चालान की कॉपी आती थी, लेकिन कभी-कभी चालान में दिखाया गया वाहन आपका नहीं होता था. यहां तक की जिस शहर में चालान कटा बताया जाता था वहां आप गए ही नहीं होते थे. लेकिन एक बड़ा फायदा यह था कि आप घर बैठे इस तरह के गलत ई-चालान की ऑनलाइन शिकायत ई-चालान कंप्लेंट मैनेजमेंट सिस्टम में कर देते थे.

गौरतलब रहे नोएडा ही नहीं देश के कई राज्यों में गलत ई-चालान की शिकायत करने के लिए ईसीएमएस की सुविधा दी गई थी. जिसका फायदा लोगों को मिल रहा था. अगर नोएडा की बात करें तो अकेले इसी शहर में 5000 से ज्यादा शिकायतें दूर की गई हैं. लेकिन अब ईसीएमएस को बंद कर दिया गया है. और इसे बंद करने के पीछे बड़ा ही हास्यपद कारण बताया जा रहा है.

Youtube Video




सालभर चालान से कमाए करोड़ों, लेकिन डोमेन फीस नहीं चुकाई
सूत्रों के मुताबिक अगर हम ई-चालान कंप्लेंट मैनेजमेंट सिस्टम पोर्टल के करंट स्टेट्स पर जाएं तो इसके डोमेन को एक साल पूरा हो गया है. कमिश्नरी सिस्टम लागू होने से पहले 9 अक्तूबर 2019 को यह सुविधा शुरू हुई थी, जो 23 सितंबर 2020 को बंद हो गई. इससे न केवल आम लोगों को सहूलियत मिल रही थी, बल्कि ई-चालान प्रबंधन में ट्रैफिक पुलिस को भी खासी राहत थी. सालभर में इस पोर्टल की मदद से 5036 शिकायतें दूर की गईं थी. लेकिन एक साल पूरा होने से पहले इस पोर्टल की डोमेन फीस नहीं चुकाई गई.



अब नोएडा में बैंच पर बैठकर ताजमहल देखते हुए लिजिए कॉफी की चुस्कियां, जानिए कैसे

ऐसे काम करता था ईसीएमएस
ईसीएमएस पोर्टल पर शिकायत दर्ज होने के बाद एक कंप्लेट नंबर मुहैया कराया जाता था. साथ ही दर्ज शिकायत से संबंधित ई-मेल तुरंत अधिकारियों और ई-चालान शाखा में पहुंच जाती थी. शिकायतकर्ता कंप्लेट नंबर से शिकायत को ट्रेक भी कर सकता था. 72 घंटे में शिकायत दूर करने का प्रावधान था. ई-चालान प्रणाली पर इससे पुख्ता निगरानी भी हो रही थी.

पोर्टल बंद होने की नोएडा पुलिस ने बताई यह वजह
सूत्रों की मानें तो नोएडा ट्रैफिक पुलिस ईसीएमएस बंद होने के पीछे प्राइवेट कंपनी की गलती बता रही है. पुलिस के मुताबिक ईसीएमएस को एक प्राइवेट कंपनी चला रही थी. इसी कंपनी को इस पोर्टल को चलाने का अधिकार दिया गया था. लेकिन कंपनी के काम को लेकर कुछ शिकायतें आ रहीं थी. पोर्टल में भी कुछ कमी थी. इसी के चलते कंपनी के साथ किए गए करार को आगे नहीं बढ़ाया गया है. अब जल्द ही नई कंपनी के साथ करार कर ईसीएमएस को चालू कर जनता को पहले की तरह इसका फायदा पहुंचाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज