आठ साल के बच्चे ने दिखाई दरियादिली, गुल्लक तोड़कर बच्चों को फीस भरने के लिए दिए 25 हजार रुपये

आठ साल के बच्चे अधिराज ने अपना गुल्लक तोड़कर 25 हजार रुपये फीस के लिए दिया है.
आठ साल के बच्चे अधिराज ने अपना गुल्लक तोड़कर 25 हजार रुपये फीस के लिए दिया है.

दिल्ली (Delhi) के आठ साल के एक बच्चे ने अपना गुल्लक तोड़कर 25 हजार रुपये दूसरे बच्चों की स्कूल फीस (School fees) भरने के लिए दिया है. बच्चे के पास ये पैसे उसके जन्मदिन (Birthday) पर रिश्तेदारों ने दिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 2:50 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सेवा सबसे बड़ा धर्म है. इस बात को दिल्ली (Delhi) के एक आठ साल के बच्चे ने चरितार्थ करके दिखा दिया है. इस बच्चे की दरियादिली और मदद की भानवा को देखकर सब लोग हैरान हैं. दिल्ली के साकेत में रहने वाले 8 साल के अधिराज ने कोरोना महामारी (Corona Epidemic) के समय में अपने से बड़े उम्रे के बच्चों की मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है. अधिराज ने अपनी गुल्लक तोड़कर 25, 000 रुपये बच्चों की फीस भरने के लिए दिए हैं.

अधिराज ने बताया कि उसने एक दिन अपनी मम्मी को फोन पर बात करते सुना कि कुछ बच्चे फीस ना भरने के कारण अपना पेपर नहीं दे पाएंगे, तब मैंने सोचा क्यों ना मैं अपनी गुल्लक तोड़कर उन बच्चों की मदद के लिए पैसे दूं. मैंने अपनी दादी से सीखा था कि हमें दूसरों की मदद करनी चाहिए. अधिराज ने बताया कि उसने ₹25000 रुपये पांच बच्चों की फीस भरने के लिए दिए और मम्मी-पापा ने भी इस काम में उसका सहयोग किया.

परिजन के साथ अधिराज.
परिजन के साथ अधिराज.




Delhi Air Pollution: प्रदूषण रोकने के लिए सीएम केजरीवाल की मुहिम- रेड लाइट ऑन, व्‍हीकल ऑफ
अधिराज ने बताया कि अप्रैल में उसका जन्मदिन था और तोहफे में उसे यह पैसे घर परिवार के लोगों ने दिए थे, क्योंकि तब लॉकडाउन चल रहा था तो जन्मदिन मनाया नहीं गया. सब ने कहा कि बाद में इन पैसों से तुम अपना जन्मदिन मनाना, लेकिन अधिराज ने इन सारे पैसों को दूसरों की मदद के लिए दे दिया.

अधिराज की मम्मी मीनाक्षी और पापा अभिषेक ने बताया कि हमें अपने बेटे से बहुत कुछ सीखने को मिला है. जो बड़े नहीं कर पाए वह हमारे छोटे से बच्चे ने कर दिखाया हमारा बेटा अमेठी स्कूल में तीसरी क्लास में पढ़ता है, लेकिन उसकी स्पीक ने हमें आगे कुछ करने का हौसला दिया. हमने अपने व्हाट्सएप ग्रुप के जरिए अब 100 बच्चों के लिए करीबन 2 लाख रुपये इकट्ठे किए हैं, जिससे उनकी फीस भरी जा सके.
अधिराज ने कहा कि मुझे दूसरों की मदद करना अच्छा लगता है आगे आगे भी मैं लोगों की मदद करूंगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज