लाइव टीवी

दिल्ली चुनाव: QR कोड वाली वोटर पर्ची खो जाने पर ऐसे डाल सकेंगे वोट
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 6, 2020, 12:01 PM IST
दिल्ली चुनाव: QR कोड वाली वोटर पर्ची खो जाने पर ऐसे डाल सकेंगे वोट
फाइल फोटो.

चुनाव आयोग (Election Commission) ने इस तरह की पर्ची गुम हो जाने पर भी वोट (Vote) डालने का मौका दिया जाएगा. इसके लिए बस वोटर (Voter) को मतदान केन्द्र (Polling Centar) पर मोबाइल फोन (Mobile Phone) लेकर जाना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2020, 12:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा (Delhi Assembly) की करीब 11 से ज्यादा विधानसभाओं में इस बार क्यूआर कोड (QR Code) वाली पर्चियों से वोट डाले जाएंगे. हालांकि चुनाव आयोग (Election Commission) की मंशा दिल्ली की सभी 70 विधानसभा सीट पर क्यूआ कोड वाली पर्ची से वोट डलवाने की थी. लेकिन कुछ तकनीकी कारणों के चलते ऐसा संभव नहीं हो पाया. वोटरों (Voter) को यह पर्ची बीएलओ (BLO) से मिलेगी. हालांकि आयोग ने इस तरह की पर्ची गुम हो जाने पर भी वोट डालने का मौका दिया जाएगा. इसके लिए बस वोटर को मतदान केन्द्र पर मोबाइल फोन (Mobile Phone) लेकर जाना होगा.

बिन क्यूआर कोड वाली पर्ची के ऐसे डाल सकेंगे वोट

सभी मतदाताओं की पर्ची पर क्यूआर कोड का प्रावधान किया गया है, ताकि मतदाता केंद्र पर चुनावी ड्यूटी में जुटे अधिकारी बूथ एप के माध्यम से क्यूआर कोड स्कैन कर मतदाताओं की पहचान कर सकें. हालांकि अब सिर्फ 11 विधानसभा क्षेत्रों में ही इसका इस्तेमाल करने की इजाजत है.

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) डॉ. रणबीर सिंह की ओर से बताया गया है कि किसी वजह से यह पर्ची खो जाने पर मतदाता मोबाइल फोन लेकर मतदान केंद्र पर जा सकेंगे, जिससे कि क्यूआर कोड स्कैन करने के लिए डिजिटल पर्ची का इस्तेमाल हो सके. हालांकि इस तरीके पर कई लोगों ने सवाल उठाए. कहा गया है कि चुनाव में गोपनीयता सबसे अहम होती है. इसे ध्यान में रखते हुए बूथ में मोबाइल ले जाने की अनुमति नहीं होनी चाहिए.

ऐसे मिली पिक एंड ड्रॉप की सुविधा

80 वर्ष से अधिक उम्र वाले जिन बुजुर्गों व दिव्यांग मतदाताओं ने घर बैठे मतदान के लिए आवेदन किया है उन्हें पिक एंड ड्रॉप की सुविधा दी जाएगी. इसके लिए 25 जनवरी से 31 जनवरी तक सीईओ कार्यालय को अनुरोध भेजे गए थे. वोटर हेल्पलाइन नंबर (1950) पर कॉल कर या मैसेज (7738299899) भेजकर सुविधा की मांग की गई थी. इस सुविधा का लाभ लेने के लिए ऐसे वोटरों ने मैसेज बॉक्स में वोटर कार्ड नंबर और स्पेस देकर पिक लिखा और उसे दिए गए नंबर पर मैसेज कर दिया.

ये भी पढ़ें- संकट में पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन! उद्धव ठाकरे ने लगाई रोक, अब तक खर्च हुए इतने हजार करोड़Exclusive:आसमान में जाम हो गए थे बंगाल की खाड़ी में गिरे AN-32 एयरक्राफ्ट के कंट्रोल सिस्टम!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 12:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर