मास्क पहनने की सलाह देने पर कर्मचारी ने दिव्यांग महिला को पीटा, स्वाती मालीवाल ने की कार्रवाई की मांग
Delhi-Ncr News in Hindi

मास्क पहनने की सलाह देने पर कर्मचारी ने दिव्यांग महिला को पीटा, स्वाती मालीवाल ने की कार्रवाई की मांग
साथ ही उन्होंने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री से अनुरोध करते हुए कहा कि इसके खिलाफ तुंरत ऐक्शन लें

मारपीट के इस वीडियो को दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल (Swati Maliwal) ने ट्वीट किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पूरे देश में कोरोना वायरस (Corona virus) का मामला तेजी से बढ़ रहा है. रोज हजारों मरीज इस वायरस से संक्रमित हो रहे हैं. देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या पांच लाख से ज्यादा हो गई है. हालांकि, इस वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार और कोरोना वॉरियर्स (Corona warriors) दिन- रात काम कर रहे हैं. इसके बावजूद भी संक्रमण के फैलाव पर लगाम नहीं लग रहा है. जबकि, लोगों को मास्क और सैनिटाइजर उपयोग करने के लिए सरकार की तरफ से गाइडलाइन जारी की गई है. साथ ही घर से बाहर निकलने पर सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का भी पालन करने को कहा गया है. इसके बावजूद भी कई लोग इन गाइडलाइन्स की धज्जियां उड़ा रहे हैं. बिना मास्क पहने ही कुछ लोग घर से बाहर निकल रहे हैं. ऐसे में वे अपनी जिन्दगी के साथ- साथ अन्य के जीवन को भी खतरे में डाल रहे हैं.

कुछ इसी तरह का मामला आंध्र प्रदेश (Andra Pradesh) में सामने आया है, जहां मास्क पहनने की सलाह देने पर एक व्यकित ने महिला पर हमला कर दिया. मारपीट के इस वीडियो को दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल (Swati Maliwal) ने ट्वीट किया है. उन्होंने वीडियो ट्वीट करते हुए मीडिया के हवाले से कहा है कि सिर्फ मास्क पहनने के लिए अनुरोध करने पर आंध्र प्रदेश टूरिज़्म डिपार्टमेंट के एक कर्मचारी ने दिव्यांग महिला पर इतनी बुरी तरह से हमला कर दिया. बेहद शर्मनाक घटना है ये. साथ ही उन्होंने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री से अनुरोध करते हुए कहा कि इसके खिलाफ तुंरत ऐक्शन लें और इस अधिकारी पर कड़ी कार्यवाई करें.





 स्क्रीनिंग और परीक्षण करने का निर्देश दिया था
बता दें कि बीते हफ्ते  मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी (CM YS Jagan Mohan Reddy) ने कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के लिए अधिकारियों को 90 दिनों के भीतर सभी घरों को कवर कर वहां रहने वाले लोगों की व्यापक स्क्रीनिंग और परीक्षण करने का निर्देश दिया था और इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए 104 एम्बुलेंस सेवा का इस्तेमाल करने के लिए कहा था. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि 90 दिनों में राज्य में हर परिवार की स्क्रीनिंग सुनिश्चित करें और जहां भी आवश्यक हो, नमूने लें. जिन लोगों को मधुमेह, बीपी, और अन्य बीमारियां हैं, उनका भी ख्याल रखा जाना चाहिए. रेड्डी ने यह भी कहा है कि104 एम्बुलेंस में पर्याप्त उपकरण और दवाइयां होनी चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading