अच्छी खबर: दिल्ली वालों ने सोमवार को सबसे साफ हवा में ली सांस, 5 वर्षों में सबसे कम रहा प्रदूषण
Delhi-Ncr News in Hindi

अच्छी खबर: दिल्ली वालों ने सोमवार को सबसे साफ हवा में ली सांस, 5 वर्षों में सबसे कम रहा प्रदूषण
दिल्ली में बारिश के कारण हवा शुद्ध हुई है. (सांकेतिक तस्वीर)

दिल्ली (Delhi) में वायु प्रदूषण की समस्या अधिक है. सर्दी के दिनों में दिल्ली में शुद्ध हवा के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen cylinder) तक का उपयोग लोगों को करना पड़ता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 1, 2020, 9:01 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पर्यावरण (Environment) के लिहाज से देश की राजधानी दिल्ली में 31 अगस्त यानी बीते सोमवार का दिन काफी खास रहा. सोमवार को दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 41 दर्ज किया गया. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) द्वारा अप्रैल 2015 में AQI को मापना शुरू करने के बाद से यह अब तक का सबसे न्यूनतम स्तर है. बीते अगस्त महीने में यह चौथा दिन था, जब दिल्ली में एक्यूआई 50 या उससे नीचे रहा. इससे पहले जुलाई 2017 में दिल्ली का एक्यूआई सबसे कम 41 दर्ज किया गया था.

बता दें कि साल 2015 में (जब एयर क्वालिटी इंडेक्स लॉन्च किया गया था) दिल्ली में वायु प्रदूषण की स्थिति काफी खराब थी. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, प्रदूषण के खराब हालात का सिलसिला 2016 में भी पूरे साल जारी रहा. इसके बाद 2017 में 30 व 31 जुलाई को एक्यूआई क्रमश: 43 और 47 दर्ज किया गया था. इसके बाद 2018 में फिर हालात बेकाबू रहे और एक्यूआई का स्तर 50 से ज्यादा ही रहा. हालांकि, साल 2019 में 18 व 19 अगस्त को एक्यूआई 49 दर्ज किया गया.

ये भी पढ़ें: CM शिवराज बोले- रोऊंगा नहीं कि पैसा नहीं है, कहीं से भी लाऊं, लेकिन हर बाढ़ प्रभावित को दूंगा मुआवजा



अगस्त सबसे साफ महीना
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सीपीसीबी के अधिकारियों ने कहा है कि बारिश के कारण सितंबर में और अच्छे दिन आने की उम्मीद है. बीते 13 अगस्त और 20 अगस्त को एक्यूआई 50 था, लेकिन 24 अगस्त को यह गिरकर 45 हो गया. बारिश और हवा की गति के कारण एक्यूआई स्तर गिरा है. इस साल 28 मार्च को लॉकडाउन के बाद दिल्ली का एक्यूआई स्तर कम हुआ था. 28 मार्च को एक्यूआई 45 दर्ज किया गया था'. सेंटर फॉर साइंस एंड एन्वायरमेंट में कार्यकारी निदेशक अनुमिता रॉय चौधरी ने कहा कि अच्छे मानसून ने दिल्ली की हवा को शुद्ध करने में मदद की, लेकिन कम रीडिंग भी लॉकडाउन के बाद हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज