पर्यावरणविद् डॉ. सुनीता नारायण ने कहा-ठोस कचरा प्रबंधन और प्रदूषण से निपटने को योजना तैयार करे रेलवे!

डॉ. सुनीता नारायण ने पर्यावरण के क्षेत्र में भारतीय रेल की ओर से किये जा रहे प्रयासों की सराहना की.

डॉ. सुनीता नारायण ने पर्यावरण के क्षेत्र में भारतीय रेल की ओर से किये जा रहे प्रयासों की सराहना की.

भारतीय पर्यावरणविद् डॉ. सुनीता नारायण ने पर्यावरण के क्षेत्र में भारतीय रेल की ओर से किये जा रहे प्रयासों की सराहना की. साथ ही आग्रह किया कि ठोस कचरा प्रबंधन, उपयोग में लाये जल के संशोधन और प्रदूषण जैसे मुद्दों से निपटने के लिए योजना बनाने की आवश्‍यकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 12:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय पर्यावरणविद् और पद्मश्री पुरस्‍कार से सम्‍मानित डॉ. सुनीता नारायण (Dr. Sunita Narain) ने पर्यावरण के क्षेत्र में भारतीय रेल की ओर से किये जा रहे प्रयासों की सराहना की. साथ ही आग्रह किया कि ठोस कचरा प्रबंधन, उपयोग में लाये जल के संशोधन और प्रदूषण जैसे मुद्दों से निपटने के लिए योजना बनाने की आवश्‍यकता है.




उन्होंने भविष्‍य में रेलवे द्वारा हरित, किफायती और समावेशी विकास मॉडल में एक परिवहन प्रणाली के रूप में रेलवे की महत्‍वपूर्ण भूमिका को भी रेखांकित  किया.



उन्‍होंने पर्यावरण से जुड़े मुद्दों के लिए पश्‍चिम की अंधा-धुंध नकल करने की बजाय स्‍थानीय अवधारणाओं का लाभ उठाने और रचनात्‍मक व किफायती समाधानों के महत्‍व पर प्रकाश डाला.




डॉ. सुनीता नारायण ने उत्‍तर रेलवे की ओर से नई दिल्‍ली में इंडियन रेलवे इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेकेनिकल एण्‍ड इलैक्‍ट्रिकल इंजीनियरिंग, जमालपुर के साथ भागीदारी में ‘सतत विकास : आज के समय की जरूरत’ विषय पर आयोजित वार्ता कार्यक्रम में शिरकत की. इस अवसर उत्‍तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल के अलावा प्रधान कार्यालय, मंडलों और कारखानों के अधिकारियों की टीम ने भी भाग लिया.






इस मौके पर भारतीय रेल (Indian Rail) की क्षेत्रीय रेलों और उत्‍पादन इकाईयों के वरिष्‍ठ अधिकारी और इंडियन रेलवे इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेकेनिकल एण्‍ड इलैक्‍ट्रिकल इंजीनियरिंग, जमालपुर के संकाय सदस्‍यों ने भी हिस्सा लिया.




इस अवसर पर महाप्रबंधक उत्‍तर रेलवे (Northern Railway) ने पर्यावरण के मोर्चे पर रेलवे द्वारा उठाए जा रहे कदमों, विशेष रूप से ठोस कचरा प्रबंधन (Solid Waste Management) तथा जल एवं ऊर्जा संरक्षण को रेखांकित किया. उन्‍होंने आश्‍वासन दिया कि विभिन्‍न उपायों से पर्यावरण को बेहतर बनाने के प्रयास किये जाते रहेंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज