Home /News /delhi-ncr /

Air Pollution: घरों में प्रदूषण की मार झेल रहे लोग, EPIC India की र‍िसर्च स्‍टडी में हुआ ये बड़ा खुलासा

Air Pollution: घरों में प्रदूषण की मार झेल रहे लोग, EPIC India की र‍िसर्च स्‍टडी में हुआ ये बड़ा खुलासा

एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट एट यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो (EPIC India) की स्टडी में दावा किया गया है कि राजधानी के घरों के अंदर भी प्रदूषण बहुत अधिक है. (File photo)

एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट एट यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो (EPIC India) की स्टडी में दावा किया गया है कि राजधानी के घरों के अंदर भी प्रदूषण बहुत अधिक है. (File photo)

Delhi NCR Air Pollution: EPIC India की स्टडी में दावा किया गया है कि राजधानी दि‍ल्‍ली में सर्दियों के दौरान कम आय वाले और अधिक आय वाले घरों के अंदर भी पीएम 2.5 का स्तर डब्ल्यूएचओ (WHO) की सेफ लिमिट से 23 और 29 गुना तक अधिक रहता है. इसके साथ ही यह भी दावा किया गया है कि अधिक आय वाले लोग अपने घरों में साफ हवा बनाए रखने के लिए कम आय वालों की तुलना में 13 गुना अधिक खर्च कर रहे हैं. इसके बावजूद उनके घरों में प्रदूषण के स्तर में महज 10 फीसदी की कमी आ रही है.

अधिक पढ़ें ...

    नई द‍िल्‍ली. राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र द‍िल्‍ली की आबोहवा में सुधार नहीं हो पा रहा है. वायु प्रदूषण (Delhi Air Pollution) लेवल में कोई खास बड़ा सुधार देखने को नहीं म‍िल रहा है ज‍िसके वजह से अभी द‍िल्‍ली के स्‍कूल, कॉलेज और श‍िक्षण संस्‍थान सभी अगले आदेशों तक बंद हैं. और एयर क्‍वाल‍िटी कमीशन (Air Quality Commission) द‍िल्‍ली एनसीआर (Delhi -NCR) की डीजल संचालि‍त इंडस्‍ट्रियल यून‍िट्स पर 12 द‍िसंबर तक रोक भी लगा चुका है. ऐसे में एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट एट यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो (EPIC India) की एक स्टडी सामने आई है. इसमें दावा किया गया है कि राजधानी के घरों के अंदर भी प्रदूषण बहुत अधिक है.

    स्टडी में दावा किया गया है कि राजधानी दि‍ल्‍ली में सर्दियों के दौरान कम आय वाले और अधिक आय वाले घरों के अंदर भी पीएम 2.5 का स्तर डब्ल्यूएचओ (WHO) की सेफ लिमिट से 23 और 29 गुना तक अधिक रहता है. इसके साथ ही यह भी दावा किया गया है कि अधिक आय वाले लोग अपने घरों में साफ हवा बनाए रखने के लिए कम आय वालों की तुलना में 13 गुना अधिक खर्च कर रहे हैं. इसके बावजूद उनके घरों में प्रदूषण के स्तर में महज 10 फीसदी की कमी आ रही है. डब्ल्यूएचओ (WHO) की सेफ लिमिट 10 एमजीसीएम है.

    ये भी पढ़ें: Air Pollution: दिल्ली-एनसीआर में कम हुई प्रदूषण की मार, रेड जोन में है राजधानी का सिर्फ एक इलाका 

    स्‍टडी में यह भी स्‍पष्‍ट क‍िया गया है क‍ि लोगों को पता ही नहीं है कि उनके घरों की हवा साफ नहीं है और वह बिना किसी चिंता के घरों में खुद को सुरक्षित महसूस करते हैं और इनडोर प्रदूषण को कम करने के लिए कोई कदम नहीं उठाते. इसके लिए जागरुक करने की जरूरत महसूस की जा रही है.

    द‍िल्‍ली-NCR के AQI में र‍िकार्ड क‍िया जा रहा ये सुधार
    इस बीच देखा जाए तो गुरुवार को दिल्‍ली-एनसीआर में राजधानी के आनंद विहार ( AQI 308) को छोड़कर सभी इलाकों की हवा में सुधार र‍िकार्ड क‍िया गया है. दिल्‍ली में आज आया नगर में एक्‍यूआई 171 दर्ज किया गया, जो सबसे कम था. हालांकि अन्‍य इलाके भी अब 283 से नीचे आ गए हैं. वहीं, यूपी के गाजियाबाद के लोनी में AQI 269 और संजय नगर में 194 दर्ज किया गया. जबकि नोएडा के सेक्‍टर 116 में 252 तो सेक्‍टर 125 में 180 है.

    वहीं, ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क 4 में यह 230 बना हुआ है. वहीं, इस बार प्रदूषण की जबरदस्‍त मार झेलने वाले हरियाणा के फरीदाबाद में एक्‍यआई 200 से नीचे पहुंच गया है. इस समय सेक्‍टर 30 में 174 और सेक्‍टर 16A में यह 194 दर्ज किया गया है. इससे पहले यहां AQI 999 दर्ज किया गया था.

    Tags: Air pollution, Delhi air pollution, Delhi news, Delhi-NCR Pollution, Pollution Research

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर