होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /दिवाली से पहले ही दिल्ली में हवा हुई जहरीली, AQI गिरकर 'खराब' श्रेणी में पहुंचा

दिवाली से पहले ही दिल्ली में हवा हुई जहरीली, AQI गिरकर 'खराब' श्रेणी में पहुंचा

शनिवार को दिल्ली का एक्यूआई 262 पर 'खराब' श्रेणी में पहुंच गया.  (ANI)

शनिवार को दिल्ली का एक्यूआई 262 पर 'खराब' श्रेणी में पहुंच गया. (ANI)

शनिवार को दिल्ली की वायु गुणवत्ता काफी बिगड़ गई और एक्यूआई (वायु गुणवत्ता सूचकांक) 262 पर 'खराब' श्रेणी में पहुंच गया.

हाइलाइट्स

शनिवार को दिल्ली की वायु गुणवत्ता काफी बिगड़ गई.
पंजाब में पराली जलाने की घटनाओं पर असरदार रोक नहीं लगने से पहले ही इसकी आशंका थी.
दिल्ली में सबसे खराब एक्यूआई विश्वविद्यालय इलाके में 327 में दर्ज किया गया जो 'बहुत खराब' श्रेणी में है.

नई दिल्ली. दिवाली से पहले ही दिल्ली की हवा जहरीली हो गई है. पंजाब में पराली जलाने की घटनाओं पर असरदार रोक नहीं लगने से पहले ही इस बात की आशंका जाहिर की जा रही थी कि आनेवाले दिनों में दिल्ली गैस चैंबर में बदल सकती है. शनिवार को दिल्ली की वायु गुणवत्ता काफी बिगड़ गई और एक्यूआई (वायु गुणवत्ता सूचकांक) 262 पर ‘खराब’ श्रेणी में पहुंच गया.

न्यूज एजेंसी एएनआई की एक खबर के मुताबिक सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) के अनुसार दिल्ली में सबसे खराब एक्यूआई विश्वविद्यालय इलाके में 327 में दर्ज किया गया जो ‘बहुत खराब’ श्रेणी में है. हर साल दिल्ली में अक्टूबर से वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ जाता है. पराली जलाना, स्मॉग आदि कई कारणों से ये साल के अंत तक कायम रहता है. शुक्रवार को भी दिल्ली का एक्यूआई खराब श्रेणी में रहा था.

अब दिल्ली में प्रदूषण के स्तर को नियंत्रित करने के लिए दिल्ली सरकार ने 28 अक्टूबर से ‘रेड लाइट ऑन गाड़ी ऑफ’ अभियान शुरू करने की घोषणा की है. दिल्ली में वाहनों के प्रदूषण को कम करने के लिए पहली बार 16 अक्टूबर, 2020 को शुरू किए गए इस अभियान के तहत ड्राइवरों को ट्रैफिक लाइट के हरे होने का इंतजार करते समय अपने वाहनों को बंद करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है. पेट्रोलियम कंजर्वेशन रिसर्च एसोसिएशन (पीसीआरए) के आंकड़ों से पता चलता है कि अगर लोग ट्रैफिक सिग्नल पर इंजन बंद कर देते हैं, तो प्रदूषण में 13-20% की कटौती की जा सकती है.

मां ने जमीन पर कपड़ा बिछाकर सुलाया 7 महीने के बच्‍चे को, तभी स्‍ट्रीट डॉग ने क‍िया हमला और ले ली जान

सरकारी अनुमानों के अनुसार दिल्ली में PM2.5 उत्सर्जन में परिवहन क्षेत्र का हिस्सा 28% है. वाहनों से दिल्ली की हवा में 80% नाइट्रोजन ऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड बनता है. जबकि सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (सीएसई) के एक रिसर्च में कहा गया कि जुलाई-सितंबर के दौरान दिल्ली का पीएम 2.5 प्रदूषण 5 साल में सबसे कम रहा. गौरतलब है कि शून्य से 50 के बीच एक्यूआई अच्छा, 51 और 100 संतोषजनक, 101 और 200 मध्यम, 201 और 300 खराब, 301 और 400 बहुत खराब, और 401 और 500 गंभीर माना जाता है.

Tags: Air Quality, AQI, Delhi, Diwali

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें