Home /News /delhi-ncr /

Exclusive: 'किसी से नाराज होने की हैसियत में नहीं हूं', चाचा, सियासत की बात पर भावुक हुए चिराग पासवान

Exclusive: 'किसी से नाराज होने की हैसियत में नहीं हूं', चाचा, सियासत की बात पर भावुक हुए चिराग पासवान

न्यूज़18 क्रिएटिव

न्यूज़18 क्रिएटिव

News18 Exclusive : आगामी पांच जुलाई को नये सिरे से अपनी राजनीतिक शुरुआत करने के लिए बिहार पहुंच रहे चिराग पासवान ने न्यूज़ 18 के साथ खास इंटरव्यू में अपने निजी और राजनीतिक जीवन को लेकर खुले और भारी दिल से बातचीत की.

    नीरज कुमार

    नई दिल्ली. 'मेरे चाचा को पता है कि उनका पक्ष कमज़ोर है इसलिए चुनाव आयोग में उन्होंने दावा नहीं किया. न तो पार्टी पर और न ही चुनाव चिह्न पर. मेरे चाचा को पार्टी के संविधान की पूरी जानकारी नहीं है.' पार्टी के संविधान खुद को अब भी पार्टी अध्यक्ष बताने वाले लोक जनशक्ति पार्टी के चर्चित चेहरे चिराग पासवान ने ​खास तौर पर न्यूज़18 के साथ बातचीत की. यह इंटरव्यू चिराग ने तब दिया, जबकि वह अपने पिता रामविलास पासवान के क्षेत्र रहे हाजीपुर से आशीर्वाद यात्रा शुरू करने जा रहे हैं. वह अपने पिता को याद करते हुए रोते दिखे चुके पारस ने चाचा पशुपति कुमार पारस, अपनी मां, अपनी पार्टी और अन्य पार्टियों व नेताओं के साथ रिश्तों को लेकर न्यूज़ 18 से खुलकर बातचीत की.

    इस इंटरव्यू से पहले आपको जानना चाहिए कि पारस और चिराग के बीच मतभेदों के बाद स्थिति यह है कि लोक जनशक्ति पार्टी के विधायकों समेत ज़्यादातर लोग पारस खेमे में जा चुके हैं. चिराग पार्टी पर कब्ज़े की लड़ाई लड़ने के दौर में हैं. एक तरफ सियासी लड़ाई और दूसरी तरफ परिवार की कलह के दौर में चिराग कभी भावुक तो कभी एक राजनीतिक युवा के तौर पर दिखाई दिए. न्यूज़ 18 के साथ एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में चिराग ने किस पहलू पर क्या कहा, बिंदुवार जानिए.

    पीएम मोदी और बीजेपी को लेकर आप क्या कहेंगे?
    चिराग पासवान : देखिए एक दौर था, जब परिस्थितियां मेरे सामने आईं, तो अपेक्षाएं थीं. लेकिन आज की तारीख में मेरी अपेक्षाएं किसी से नहीं हैं. हां, प्रधानमंत्री से उम्मीद है, प्रधानमंत्री पर मेरा विश्वास रहा है. मुझे उम्मीद है कि प्रधानमंत्री का साथ मिलेगा, संरक्षण मिलेगा.

    नीतीश कुमार जी से आपकी नाराज़गी की बातें होती हैं!
    चिराग पासवान : नीतीश जी से मैं नाराज नहीं हूं. अब मैं इस हैसियत में नहीं हूं कि किसी से नाराज हो सकूं. अगर मेरा परिवार साथ होता तो मैं किसी पर उंगली उठा सकता था, लेकिन परिवार ही साथ नहीं तो मैं क्या किसी पर उंगली उठा सकता हूं.

    bihar news, chirag paswan interview, chirag paswan video, chirag paswan speech, बिहार न्यूज़, चिराग पासवान इंटरव्यू, चिराग पासवान बयान, चिराग पासवान वीडियो
    न्यूज़18 क्रिएटिव


    तेजस्वी यादव के साथ आपकी क्या प्राथमिकता है?
    चिराग पासवान : मेरी प्राथमिकता गठबंधन के बारे में सोचना नहीं है. मुझे पार्टी को मज़बूत करना है. ज़ीरो से शुरुआत करनी है और पापा के विचारों को मज़बूत करना है. मेरी प्राथमिकता यही है. गठबंधन क्या होगा, ना होगा, यह सब चुनाव के समय तय होता है.

    आपके चाचा और आपके बीच जो कुछ हुआ, उसे कैसे देखते हैं?
    चिराग पासवान : दुख होता है. पिछले सात-आठ महीने मेरी जिंदगी में कैसे गए, आप समझ सकते हैं. मां ने पूरा जीवन परिवार को एक साथ रखने में लगा दिया लेकिन आज जब सबसे ज्यादा मुझे और मेरी मां को परिवार की ज़रूरत है, तो परिवार के लोग साथ नहीं है. अगर चाचा को मंत्री बनना था, तो वह खुलकर बात रख सकते थे, मैं खुद प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर उनके लिए मंत्री पद की अनुशंसा करता. और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए भी मैं खुद कहता.

    परिवार के मुखिया मेरे चाचा थे. परिवार को एकजुट रखने की ज़िम्मेदारी उन पर थी और ऐसे वक्त में उन्होंने परिवार को अकेला छोड़ दिया. मुझ पर आरोप लगाया जाता कि मैं बात नहीं करता था. कई तरह के आरोप लगते हैं, लेकिन मेरे चाचा मुझे डांटते, फटकारते और बताते कि यह करने की ज़रूरत है, और यह नहीं. आज मेरे पापा जहां भी होंगे, परिवार की यह स्थिति देखकर खुश कैसे होंगे. चाचा खुद तो अलग हुए ही, मेरे भाई को भी अलग ले गए.

    पार्टी और परिवार के दोबारा एक साथ जुड़ने की संभावना क्या लगती है?
    चिराग पासवान : साथ रहने का फैसला उनका था और बाहर जाने का फैसला भी उन्हीं का था. वापस आएंगे कि नहीं यह भी फैसला उनका ही होगा. मैं तो किसी फैसले में था ही नहीं. मुझे अगर किसी फैसले में जोड़ा जाता, तब ना मैं कुछ कहता.

    Tags: Bihar News, Chirag Paswan, Lok Janshakti Party, Politics, Politics of Bihar

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर