कोरोना पॉजिटिव मां कोविड नेगेटिव नवजात को स्‍तनपान करा सकती है या नहीं, बता रहे हैं विशेषज्ञ

कोरोना संक्रमित मां के दूध में एंटीबॉडी पाई जाती हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना संक्रमित मां के दूध में एंटीबॉडी पाई जाती हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना संक्रमित मां के दूध में भी कोरोना वायरस के प्रति एंटीबॉडिज पाई जाती हैं जो बच्‍चे को कोरोना संक्रमण से बचाने में सहायक होती हैं. लिहाजा कोरोना से पीड़‍ित मां को बच्‍चे को अपना दूध पिलाना चाहिए.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस (Corona Virus) की पहली लहर के बाद अब दूसरी लहर ने ज्‍यादा तबाही मचाई है. इसमें न केवल कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्‍या बढ़ी है बल्कि मौतों का आंकड़ा भी तेजी से ऊपर पहुंचा है. इतना ही नहीं छोटे बच्‍चों और नवजातों को भी इस लहर ने अपनी चपेट में लिया है. वहीं अब तीसरी लहर (Third Wave) में बच्‍चों के प्रभावित होने की संभावना के बाद कई सवाल लोगों के मन में उठ रहे हैं.

कोरोना (Corona) के इस दौर में नवजात बच्‍चों की सुरक्षा को लेकर भी लोग चिंतित हैं. वहीं कोरोना से संक्रमित मां के बाद कोविड नेगेटिव (Covid Negative) बच्‍चे को कैसे सुरक्षित रखा जाए इसे लेकर भी लोगों में डर बैठा हुआ है. हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि बच्‍चों में संक्रमण हो सकता है लेकिन खतरे की संभावना कम रहती है. वहीं नवजातों (Infant) की सुरक्षा को लेकर भी सावधानी बरती जाए तो खतरे से मुक्‍त रहा जा सकता है.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च में नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर कोविड 19 के हेड डॉ. एनके अरोड़ा कहते हैं कि अगर नवजात बच्‍चे की मां को कोरोना है लेकिन नवजात को कोरोना का संक्रमण नहीं है तो ऐसी स्थिति में बच्‍चे की देखभाल घर के ऐसे सदस्‍य को करनी चाहिए जो कोरोना पॉजिटिव नहीं है.

जहां तक बच्‍चे को स्‍तनपान यानी फीड कराने की बात है तो स्तनपान (Feeding) कराने वाली महिला को नवजात को स्तनपान अवश्य कराना चाहिए. यदि बच्चे की देखभाल करने के लिए अन्य कोई सदस्य उपलब्ध नहीं है तब भी मां डबल मास्क पहन कर नवजात को स्तनपान करा सकती है.
इसके लिए मां पहले खुद को सेनेटाइज करे और बच्‍चे के पास जाए. इसके बाद स्तनपान कराने के बाद भी अच्छी तरह अपने हाथ धोए और आसपास की जगह को सेनेटाइज करे. वहीं हो सके तो बच्‍चे के कपड़े भी बदल दे. मां का दूध नवजात के बढ़ने और विकास के लिए बहुत जरूरी होता है.

वहीं एक और खास बात है कि कोरोना संक्रमित मां के दूध में भी कोरोना वायरस के प्रति एंटीबॉडिज (Antibodies) पाई जाती हैं जो बच्‍चे को कोरोना संक्रमण से बचाने में सहायक होती हैं. लिहाजा कोरोना से पीड़‍ित मां को बच्‍चे को अपना दूध पिलाना चाहिए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज