दिल्ली हिंसा मामले में फेसबुक ने दिल्ली विधानसभा की कमेटी को पत्र लिखकर दिया कुछ यूं जवाब...
Delhi-Ncr News in Hindi

दिल्ली हिंसा मामले में फेसबुक ने दिल्ली विधानसभा की कमेटी को पत्र लिखकर दिया कुछ यूं जवाब...
दिल्ली हिंसा की तस्वीर (फाइल फोटो)

दिल्ली हिंसा (Delhi violence) मामले में विधानसभा की शांति और सद्भाव कमेटी के सामने फेसबुक(Facebook) के अधिकारी आज उपस्थित नहीं हुए. फेसबुक इंडिया के डायरेक्टर (ट्रस्ट एंड सेफ्टी) विक्रम लांगा ने समिति क पत्र (Latter) लिखा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 15, 2020, 4:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा (Delhi Legislative Assembly) की शांति और सद्भाव कमेटी ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा (North East Delhi Violence) मामले में फेसबुक (Facebook) की भूमिका को लेकर फेसबुक को एक नोटिस भेजा था. इस पर फेसबुक ने ऐतराज जताते हुए दिल्ली विधानसभा कमेटी को एक चिट्ठी लिखी है. फेसबुक के डायरेक्टर विक्रम लांगा (ट्रस्ट एंड सेफ्टी) की तरफ से यह चिट्ठी लिखी गई है. उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा मामले में फेसबुक की भूमिका को लेकर फेसबुक अधिकारी आज दिल्ली विधानसभा की सदभावना कमेटी के सामने उपस्थित नहीं हुये. उन्होंने कमेटी को एक चिट्ठी लिखी है.

फेसबुक की तरफ से दिल्ली विधानसभा समिति को चिट्ठी लिखकर नोटिस पर एतराज जताया गया है और नोटिस वापस लेने की बात कही गई है. बता दें कि आज शांति और सद्धभाव पर गठित दिल्ली विधानसभा की कमेटी की तरफ से फेसबुक को नोटिस भेजा गया था. इस नोटिस में फेसबुक इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट और प्रबंध निदेशक अजीत मोहन को 15 सितंबर को 12 बजे तक कमेटी के सामने पेश होने के लिए कहा गया था.

फेसबुक की पूर्व स्टाफ का दावा- एक पार्टी के इशारे पर 2020 में दिल्ली चुनाव को प्रभावित करने की हुई थी कोशिश



लॉ एंड आर्डर का मामला केंद्र सरकार के अधिकार में
फेसबुक इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट और डायरेक्टर अजीत मोहन ने चिट्ठी के जरिए यह भी कहा कि लॉ एंड आर्डर का मामला केंद्र सरकार के अधिकार में है. दूसरी तरफ संसद की एक समिति बनी हुई है, जिसको फेसबुक ने जवाब दिया है.

दिल्ली हिंसा को भड़काने में फेसबुक का भी हाथ
दिल्ली विधानसभा की सद्भावना एवं शांति कमेटी के अध्यक्ष राघव चड्ढा का कहना है कि कमेटी के पास फेसबुक पर नफरत भरी पोस्ट होने और फेसबुक द्वारा उसकी अनदेखी करने की शिकायतें मिली थीं. जिसमें पाया है कि दिल्ली हिंसा को भड़काने में फेसबुक का भी हाथ था, जिस पर फेसबुक के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए. राघव चड्ढा का कहना है कि फेसबुक का यह तरीका दिल्ली के लोगों का अपमान है. विधानसभा की यह कमेटी दिल्ली हिंसा में फेसबुक की भूमिका पर बात कर रही है. समझ नहीं आता कि फेसबुक क्यों भाग रहा है. दिल्ली विधानसभा की कमेटी चाहे तो इस रुख पर कार्रवाई भी कर सकती है. हम फेसबुक को अंतिम मौका दे रहे हैं, उनके एमडी कमेटी के सामने पेश हों और अपनी बात रखें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज