Home /News /delhi-ncr /

दिल्ली में फेक कॉल सेंटर का पर्दाफाश, 9 लड़कियों समेत 15 आरोपी गिरफ्तार, ये 9 राज्य थे टारगेट पर

दिल्ली में फेक कॉल सेंटर का पर्दाफाश, 9 लड़कियों समेत 15 आरोपी गिरफ्तार, ये 9 राज्य थे टारगेट पर

 ऑनलाइन और बैकिंग फ्रॉड   तेजी से बढ़े हैं.

ऑनलाइन और बैकिंग फ्रॉड तेजी से बढ़े हैं.

Delhi Crime: साउथ वेस्ट पुलिस ने उस मकान मालिक के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है. और उसके खिलाफ भी कानूनी करवाई की जा रही है, जहां पर ये लोग कॉल सेंटर चलाकर लाखों की ठगी करते थे.

    नवीन निश्चल,

    नई दिल्ली. दिल्ली की साउथ वेस्ट पुलिस ने एक फेक कॉल सेंटर का पर्दाफाश करते हुये 09 लड़कियों सहित 15 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इसमें गिरोह का मास्टरमाइंड भी शामिल है. यह गैंग 10 राज्यों के लोगों से लाखों की धोखाधड़ी को अंजाम दे चुका है. ये लोगों को 2 लाख से 50 लाख तक के ईजी लोन दिलाने का झांसा देकर उनसे सिक्योरिटी के नाम पर पैसे लेकर फिर उस नंबर को बंद कर दिया करते थे. इनसे 15 मोबाइल, नोट पैड, कम्यूटर, फर्जी लोन एग्रीमेंट पेपर आदि बरामद हुये हैं.

    गिरोह साउथ वेस्ट दिल्ली के सागरपुर इलाके से कॉल सेंटर चलाते थे. इन्होंने 10 से ज्यादा स्टॉफ रखा था, जिसे हर महीने सैलरी देते थे. इसमें लडकियां भी शामिल थीं. ये लोग देश के कई राज्यों के लोगों को सीरीज में टारगेट करते थे. जिनमें दिल्ली, बिहार, मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, असम, बंगाल, झारखंड और महाराष्ट्र आदि राज्यों के लोग शामिल हैं.

    ऐसे फंसाते थे जाल में 

    साउथ वेस्ट DCP गौरव शर्मा के अनुसार इनको लेकर 20 कम्प्लेन अभी तक मिल चुकी हैं, जो कई राज्यों से आई हैं. बाकी पुलिस को उम्मीद है कि इस गैंग के सदस्यों से पूछताछ में और बड़े-बड़े खुलासे हो सकते हैं. ये लोग मात्र 7 परसेंट रेट का लालच देते थे. फिर टेलिकाॅलर से आगे मास्टरमाइंड को कॉल ट्रांसफर कर देता थे. जिसके बाद गैंग के मास्टरमाइंड प्रिंस राय के साथी नदीम, अंजली और खुशी अपनी बातों के जाल में फंसाकर लोगों से डॉक्युमेंट्स लेते और उनमें विश्वास जगाकर फिर बाद में सिक्योरिटी मनी लेकर चिटिंग करते थे.

    इस मामले में पुलिस ने उस मकान मालिक के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है और उसके खिलाफ भी लीगल करवाई कर रही है, जहां पर ये लोग कॉल सेंटर चलाकर लाखों की ठगी करते थे.

    Tags: Delhi Crime, Delhi news, Delhi police

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर