Delhi News: LNJP मोर्चरी के बाहर शव लेने के लिए परिजनों की जुट रही भीड़, कब्रिस्तान-श्‍मशान में चल रही वेटिंग

 एलएनजेपी दिल्‍ली का सबसे बड़ा कोविड अस्पताल है.

एलएनजेपी दिल्‍ली का सबसे बड़ा कोविड अस्पताल है.

दिल्ली में सबसे बड़े कोविड अस्पताल एलएनजेपी (Covid Hospital LNJP) की मोर्चरी के बाहर शव लेने के लिए परिजनों की भीड़ जुटी रहती है. जबकि इस समय कब्रिस्‍तान और श्‍मशान में कोरोना से जान गंवाने वालों के शवों को ठिकाने लगाने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 15, 2021, 6:30 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में कोरोना विकराल रूप ले चुका है. आज देश में कोई भी राज्य कोरोना के कहर से नहीं बचा है. राजधानी दिल्ली (Delhi) में भी कोरोना हर दिन नए रिकॉर्ड बना रहा है. पिछले 24 घंटे में 17 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए, तो वहीं 104 लोगों ने अपनी जान गंवाई है. दिल्ली में लगातार बढ़ रहे मौत के आंकड़ो के बाद अस्पतालों की मोर्चरी (Morchari) के बाहर परिजनों की भी भीड़ जुटने लगी है. इसके अलावा कब्रिस्तान और श्‍मशान में भी वेटिंग चल रही है.

दिल्ली में सबसे बड़े कोविड अस्पताल एलएनजेपी (Covid Hospital LNJP) की मोर्चरी दुख, आंसू, चीख-पुकार और रोते बिलखते परिजनों की गवाह बन रही है. लगातार मौत के आंकड़ों में बढ़ोतरी के कारण रोजाना हर सुबह बड़ी संख्या में उनके परिजन पंहुचते हैं जिन्होंने कोरोना से अपनी जान गंवाई. मोर्चरी के बाहर हालात को अगर बयां किया जाये तो यहां हर तरफ रोते-बिलखते लोग दिखते हैं. हर 10-15 मिनट बाद गाड़ियां रुकती हैं और आंखों में आंसू लिए परिजन उतरते हैं. कोरोना से मौत के बाद अस्पताल स्टाफ कुछ लोगों को एहतियात बरतते हुए आखिरी दर्शन की इजाजत देता है.

शव लेने के लिए करना पड़ रहा इंतजार

कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़ने की वजह से शव के लिए के लिए परिजनों को यहां काफी इंतजार करना पड़ रहा है. सीलमपुर के रहने वाले मोहम्मद दानिश ने बताया कि उनकी ताई की मौत कोरोना से हुई है. शव को मोर्चरी से आईटीओ स्थित कब्रिस्तान दफनाने के लिए ले जाना है, लेकिन कब्रिस्तान में इतने शव पंहुच रहे हैं कि एक-एक घंटे की वेटिंग चल रही है. दानिश जैसे कई परिजन यहां दिखाई देते हैं जो शव लेने का इंतजार कर रहे हैं.
दिल्ली में पिछले 24 घंटो में 17282 नए कोरोना मामले सामने आए हैं और 104 मरीज़ों की कोरोना से मौत हुई। दिल्ली का संक्रमण दर भी करीब 16 फीसदी तक पंहुच चुकी है. इस बीच दिल्ली में सक्रिय मरीज़ों की संख्या भी 50 हजार पार कर चुकी है. दिल्ली में अब तक 767438 कोरोना मामले सामने आ चुके हैं, तो वहीं 11,540 मरीजों की कोरोना से मौत हो चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज