• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • राकेश टिकैत करेंगे 5 सितंबर को बड़ी पंचायत, चुनाव लड़ने के सवाल पर दिया ये जवाब

राकेश टिकैत करेंगे 5 सितंबर को बड़ी पंचायत, चुनाव लड़ने के सवाल पर दिया ये जवाब

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने 5 सितंबर को बड़ी पंचायत करने की बात कही. (फाइल फोटो: Shutterstock)

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने 5 सितंबर को बड़ी पंचायत करने की बात कही. (फाइल फोटो: Shutterstock)

राकेश टिकैत ने 5 सितंबर को बड़ी पंचायत करने की घोषणा की है, जिसमें किसान आंदोलन के लिए आगे की रणनीति बनाई जाएगी. उन्होंने साफ तौर पर कहा कि हम चुनाव नहीं लड़ेंगे, हम वोट की चोट देंगे.

  • Share this:
    नोएडा. केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों के नेता राकेश टिकैत ने चुनाव लड़ने की संभावनाओं को खारिज करते हुए कहा कि 5 सितंबर को हम एक बड़ी पंचायत करेंगे, जिसमें किसान आंदोलन के लिए आगे की रणनीति बनाएंगे. उन्होंने साफ तौर पर कहा कि हम चुनाव नहीं लड़ेंगे, हम वोट की चोट देंगे.

    आपको बता दें, राकेश टिकैत को लेकर अनुमान लगाया जा रहा था कि वह चुनावी मैदान में उतरेंगे. पर समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, राकेश टिकैत ने कहा कि वे चुनाव नहीं लड़ेंगे, लेकिन वोट की चोट देंगे. गौरतलब है कि महीनों से दिल्ली के बॉर्डरों पर चल रहा किसान आंदोलन अपनी मांग पर अडिग है. आंदोलनकारी किसानों की मांग है कि केंद्र सरकार ने जो तीन नए कृषि कानून बनाए हैं उन्हें रद्द किया जाए. दूसरी तरफ, केंद्र सरकार का मानना है कि ये तीन कानून किसानों के हित में हैं, इन्हें नहीं हटाया जाएगा.

    Farmer leader Rakesh Tikait, Bharatiya Kisan Union, central government, new agricultural law, farmers' movement, Delhi border, Republic Day parade, tractor parade, farmer violence
    .


    अभी बीते दिनों भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने ट्वीट कर किसान आंदोलन को तेज करने की बात कही थी. उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा था, "सरकार मानने वाली नहीं है. इलाज तो करना पड़ेगा. ट्रैक्टरों के साथ अपनी तैयारी रखो. जमीन बचाने के लिए आंदोलन तेज करना होगा." इस ट्वीट से ठीक एक दिन पहले भी राकेत टिकैत ने कहा था कि केंद्र सरकार यह गलतफहमी अपने दिमाग से निकाल दे कि किसान वापस जाएगा. उन्होंने कहा कि किसान तभी वापस जाएगा, जब मांगें पूरी हो जाएंगी. हमारी मांग है कि तीनों कृषि कानून रद्द हों और एमएमसी पर कानून बने.

    बता दें कि कोरोना संकट के बीच दिल्ली बॉर्डर पर केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन जारी है. राजधानी दिल्ली से लगी सीमा पर किसानों के प्रदर्शन को 200 से ज्यादा दिन हो गए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज