Assembly Banner 2021

Kisan andolan – गाजीपुर बार्डर पर 7 को महापंचायत, जानें कैसे अलग होगी यह महापंचायत ?

गाजीपुर बार्डर पर चौथी बार होगी महापंचायत त. (File)

गाजीपुर बार्डर पर चौथी बार होगी महापंचायत त. (File)

गाजीपुर बार्डर पर 7 मार्च को भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) ने महापंचायत बुलाई है. इसमें खाप पंचायत और उनके चौधरी भी शामिल होंगे, जो तीनों नए किसान कानूनों का विरोध और एमएसपी अनिवार्य करने की मांग करेंगे.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. गाजीपुर बार्डर पर 7 मार्च को भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) ने महापंचायत बुलाई है. यह महापंचायत पहले तीन बार हो चुकी महापंचायत से अगल होगी, क्‍योंकि इस बार इसमें केवल किसान (farmers) नहीं शामिल होंगे, बल्कि खाप पंचायत और उनके चौधरी भी शामिल होंगे, जो तीनों नए किसान कानूनों का विरोध और एमएसपी (MSP) अनिवार्य करने की मांग करेंगे. गाजीपुर बार्डर (Ghazipur border) पर किसानों के आंदोलन का आज 94वां दिन है.

गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन के दौरान अब तक तीन बार महापंचायत हो चुकी है. जिसमें पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश के हजारों की संख्या में किसान जुटे थे. एक बार फिर गाजीपुर बॉर्डर पर महापंचायत की तैयारी की गई है. 7 मार्च को होने वाली महापंचायत को भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत संबोधित करेंगे। इसमें भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत भी शामिल होंगे. महापंचायत में पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश मुजफ्फरनगर, शामली, मेरठ, बागपत, अलीगढ़, समेत उत्तराखंड और हरियाणा के हजारों की संख्‍या में किसनों को जुटने की संभावना है. इसके साथ ही कई खाप पंचायतें और उनके चौधरी भी महापंचायत में पहुंचकर तीनों कृषि कानून का विरोध करेंगे. किसानों से महापंचायत में पहुंचने की अपील की जा रही है. बीकेयू के अनुसार महापंचायत से एक-दो दिन पहले किसान बॉर्डर पर जुटने शुरू हो जाएंगे. एक बार फिर गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों की संख्या बढ़ेगी. इस वजह से आसपास के इलाकों में जाम लगने की आशंका है. गाजियाबाद पुलिस यहां पर डायवर्जन भी कर सकती है.

यूपी गेट पर किसानों की संख्या कम होती देख भाकियू की तरफ से हर दिन एक गांव से किसानों को पहुंचने की अपील की गई है। इसके तहत रोजाना एक गांव से किसान बॉडर पहुंच रहे हैं. किसान अपने साथ राशन और खाना बनाने के लिए हलवाई भी ला रहे हैं. इन किसानों ने ट्रैक्टर-ट्रॉली में ही सोने की व्यवस्था कर रखी है. जब तक यह किसान यहां पर रहेंगे अपना खाना खुद बनाएंगे और अन्य किसान को भी खाना खिलाएंगे. किसान आंदोलन में बने मंच पर लगाई गई स्क्रीन पर प्रवक्‍ता राकेश टिकैट द्वारा जगह जगह की जा रही महापंचायतों की वीडियो को दिखाया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज