कृषि बिल के खिलाफ प्रदर्शन के लिए दिल्ली आ रहे किसानों को रोका, नोएडा बॉर्डर पर लगा लंबा जाम

कृषि बिल 2020 के विरोध में सड़क पर उतरे किसान.
कृषि बिल 2020 के विरोध में सड़क पर उतरे किसान.

भाकियू कार्यकर्ताओं को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस (Delhi) ने सेक्टर-14 नोएडा बॉर्डर पर बैरिकेड (Barricade) लगा दिया है जिस कारण नोएडा (Noida) से दिल्ली (Delhi) की ओर जाने वाली सड़क पर काफी लंबा जाम लग गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 9:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कृषि संशोधन बिल के खिलाफ ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) से होते हुए दिल्ली की आजादपुर मंडी (Azadpur Mandi) में प्रदर्शन करने निकले भारतीय किसान यूनियन (भानु) के कार्यकर्ताओं को नोएडा-दिल्ली (Noida-Delhi) के बॉर्डर पर रोक लिया गया. नोएडा-दिल्ली बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने सेक्टर-14 नोएडा बॉर्डर पर बैरिकेड लगा दिया था. किसानों के लिए लगाए बैरिकेड की वजह से नोएडा सेक्टर-14 से दिल्ली जाने वाली रोड पर लंबा जाम लग गया. इससे आने जाने वालों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. पुलिस द्वारा रोके जाने के बाद किसान सीमा पर ही सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं.

दिल्ली: कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए 33 'हॉटस्पॉट' चिन्हित, कनॉट प्‍लेस और लाजपत नगर भी शामिल

नोएडा सेक्टर-14 से दिल्ली जाने वाली रोड पर लंबा जाम दिल्ली पुलिस के नोएडा बॉर्डर पर बैरिकेड लगाने के कारण लगा है. दरअसल केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए कृषि संशोधन बिल के खिलाफ ग्रेटर नोएडा से होते हुए दिल्ली की आजादपुर मंडी में प्रदर्शन करने निकले थे, जब वे नोएडा- दिल्ली बार्डर पर नोएडा गेट के पास पहुंचे एहतियात के तौर पर नोएडा-दिल्ली बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने दिल्ली- नोएडा बॉर्डर पर बैरिकेड लगा दिया था, जिसको लेकर भारतीय किसान यूनियन (भानु) के नेताओं के बीच झड़प भी हुई.




भारतीय किसान यूनियन (भानु) के राष्ट्रीय अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य की व्यवस्था खत्म करना चाहती है और इसी लिए यह बिल लेकर आई है, उनका ये भी आरोप है कि सरकार बड़े व्यापारियों के साथ मिलकर आढ़तियों का बजूद खत्म करना चाहती है. किसानों की दलील है कि लोकतंत्र में हर किसी को अपना विरोध जताने का हक है. पिछले कई दिनों से किसान केंद्र द्वारा लाए गए विधेयक का विरोध कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज