अपना शहर चुनें

States

आंदोलन को कमजोर आदमी बीच में छोड़ता है- राकेश टिकैत का वीएम सिंह पर पलटवार

राकेश टिकैत दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पद पर भी रह चुके हैं.  (फाइल फोटो)
राकेश टिकैत दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पद पर भी रह चुके हैं. (फाइल फोटो)

Farmers Protest Update : राकेश टिकैत ने न्‍यूज़18 इंडिया से बातचीत में वीएम सिंह और उनके संगठन से सवाल करते हुए कहा कि वह दो महीने तक यहां क्‍यों डटे थे? उन्‍होंने कहा कि जब पुलिस का डंडा पड़ा, तो भाग गए. जब नेतागिरी करनी थी, तो करते रहे, लेकिन जब पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर दी तो आंदोलन छोड़कर भाग गए. टिकैत ने सिंह को लेकर कहा कि आंदोलन को कमजोर आदमी बीच में छोड़ता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 5:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली : गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर निकाली गई किसान ट्रैक्टर रैली (Kisan Tractor Rally) के दौरान मचे बवाल और हिंसा के बाद राष्‍ट्रीय किसान मजदूर संगठन के नेता वीएम सिंह (VM Singh) ने भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) पर गंभीर आरोप लगाए हैं. सिंह ने टिकैत पर किसान आंदोलन (Kisan Andolan) के नाम पर नेतागिरी करने का आरोप लगाया है. इस पर राकेश टिकैत ने भी उन पर पलटवार किया है.

राकेश टिकैत ने न्‍यूज़18 इंडिया से बातचीत में सिंह को लेकर कहा कि 'मैं पहले ही गाजीपुर की तरफ से किसानों की सारी जिम्‍मेवारी ले चुका है, जिसको गाजीपुर छोड़ना है वह छोड़ दे'.





पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर दी तो आंदोलन छोड़कर भाग गए- टिकैत
उन्‍होंने वीएम सिंह और उनके संगठन से सवाल करते हुए कहा कि वह दो महीने तक यहां क्‍यों डटे थे? उन्‍होंने कहा कि जब पुलिस का डंडा पड़ा, तो भाग गए. जब नेतागिरी करनी थी, तो करते रहे, लेकिन जब पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर दी तो आंदोलन छोड़कर भाग गए. टिकैत ने सिंह को लेकर कहा कि आंदोलन को कमजोर आदमी बीच में छोड़ता है.

टिकैत पर भी दर्ज हुई है FIR
उल्‍लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस की एक एफआईआर में भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत का नाम भी है. टिकैत पर आईपीसी की धारा 307 (हत्या की कोशिश) धारा 147, धारा 353 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज