Kisan Andolan: कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का अनोखा प्रदर्शन, Video देख आपकी छूट जाएगी हंसी

नोएडा में किसानों का अनोखा प्रदर्शन.

नोएडा में किसानों का अनोखा प्रदर्शन.

केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों का आंदोलन (Farmers Protest) जारी है. इस बीच नोएडा में प्रदर्शनकारियों ने अनोख अंदाज में सरकार का विरोध किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 7, 2020, 4:54 PM IST
  • Share this:

नोएडा. केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों का आंदोलन (Farmers Protest) लगातार 12वें दिन जारी है. इस दौरान उत्‍तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब समेत कई राज्‍यों के किसान दिल्‍ली के आसपास डेरा डाले हुए हैं. इस बीच, राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली से सटे नोएडा में किसानों का सरकार के खिलाफ प्रदर्शन का अनोखा तरीका दिखा. कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए एक व्यक्ति ने भैंस के आगे बीन बजाई. हालांकि इस दौरान वहां मौजूद सभी किसानों के लिए अपनी हंसी रोकना मुश्किल चुनौती बन गया.

यही नहीं, किसान आंदोलन को लेकर सरकार और विपक्ष में जमकर तकरार हो रही है.  इस बीच, भाजपा के वरिष्ठ नेता रवि शंकर प्रसाद ने सोमवार को मीडिया से कहा कि अरविंद केजरीवाल की सरकार ने 23 नवंबर को नए कृषि कानून को नोटिफाई करके दिल्ली में लागू कर दिया. इधर आप विरोध कर रहे हैं और उधर आप गजट निकाल रहे हैं. इससे उनका दोहरा मानदण्ड पता चलता है.


केंद्र ने ‘भारत बंद’ के लिए देशव्यापी परामर्श जारी किया
केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि मंगलवार को किसान संगठनों और उनके समर्थन में विपक्षी दलों द्वारा आहूत ‘भारत बंद’ के दौरान सुरक्षा कड़ी की जाए और साथ ही शांति सुनिश्चित की जाए. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जारी देशव्यापी परामर्श में कहा कि राज्य सरकारों तथा केंद्र शासित प्रदेश के प्रशासकों को सुनिश्चित करना चाहिए कि कोविड-19 दिशानिर्देशों का पालन किया जाए और सामाजिक दूरी बनाए रखी जाए. राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों को बताया गया है कि ‘भारत बंद’ के दौरान शांति और धैर्य बनाए रखा जाए और एहतियाती कदम उठाए जाएं ताकि देश में कहीं भी अप्रिय घटना नहीं हो.

बहरहाल,‘भारत बंद’ का आह्वान किसान संगठनों ने किया है जो संसद के मॉनसून सत्र में लाए गए तीन कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं. आपको बता दें कि कांग्रेस, राकांपा, द्रमुक, सपा, टीआरएस और वामपंथी दलों जैसी बड़ी पार्टियों ने बंद का समर्थन किया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज