लापरवाही से हुई बेटे की मौत पर बोला पिता, अब कभी नहीं जाऊंगा सरकारी अस्‍पताल

दिल्‍ली में अस्‍पताल की लापरवाही से बच्‍चे की मौत.
दिल्‍ली में अस्‍पताल की लापरवाही से बच्‍चे की मौत.

दिल्‍ली के लेडी हार्डिंग अस्‍पताल (Lady harding hospital) स्थित कलावती सरन बाल चिकित्‍सालय (Kalawati saran children's hospital) में लापरवाही के चलते छह महीने के बच्‍चे की मौत हो गई. पिता का आरोप है कि अस्‍पताल में तीन दिन से रैफर करने की गुहार लगाने के बाद भी बच्‍चे को बड़े अस्‍पताल में रैफर नहीं किया और बच्‍चे ने दम तोड़ दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 7:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. दिल्‍ली के लेडी हार्डिंग स्थित कलावती सरन चिल्‍ड्रंस हॉस्पिटल (Kalawati saran children's hospital) में लापरवाही के चलते छ‍ह महीने के बच्‍चे की जान चली गई. इससे गुस्‍साए परिजनों ने अस्‍पताल परिसर में हंगामा भी किया. हालांकि बच्‍चे की मौत से टूटे माता-पिता रोते हुए अपने बच्‍चे का शव अपने साथ ले गए लेकिन पिता ने जाते-जाते इतना ही कहा कि चाहे घर पर मर जाएंगे लेकिन अब जीवन में कभी सरकारी अस्‍पताल नहीं आएंगे.

छह महीने के नवजात को खोने का दर्द झेल रहे दिल्‍ली के करावल नगर निवासी पिता ने आरोप लगाया कि तीन दिन तक घुमाने के बाद भी इलाज न देने से बच्‍चे की मौत हुई. उन्‍होंने कहा कि उनके बच्‍चे को जन्‍म के बाद से ही बीच बीच में बुखार आने की समस्‍या थी. इसे लेकर वे उसके जन्‍म के अस्‍पताल जगप्रवेशचंद्र अस्‍पताल भी गए लेकिन वहां से कलावती ले जाने के लिए कहा गया. इसी सोमवार को कलावती लाने के बाद बच्‍चे को अस्‍पताल में कई जांचों के लिए भेजा गया. कोरोना की भी जांच कराई. करीब तीन दिन तक घुमाने के बाद कहा गया कि बच्‍चे के दिल में परेशानी हो सकती है लेकिन अस्‍पताल के पास इसके लिए पर्याप्‍त मशीनें नहीं हैं. ऐसे में बच्‍चे को ले जाओ. जब बच्‍चे के पिता ने रैफर करने की मांग की तो अस्‍पताल की ओर से कहा गया कि गंभीर हालत है और वे रैफर नहीं कर सकते. अपनी मर्जी से ले जाना चाहें तो ले जा सकते हैं.

दो दिन तक रैफर करने की मांग करने के बाद किसी तरह अस्‍पताल प्रशासन ने हां कर दी लेकिन रैफर का पर्चा नहीं दिया. इस दौरान ही 48 घंटे से दूध न पिलाने के कारण बच्‍चे की हालत बिगड़ने लगी. तभी बच्‍चे को एक इंजेक्‍शन दिया गया और कहा गया कि बेहोशी का इंजेक्‍शन दिया है. इसी दौरान यूरिन की नली लगाते ही बच्‍चे ने दम तोड़ दिया.



इस घटना के संबंध में जब लेडी हार्डिंग के डायरेक्‍टर डॉ. एनएन माथुर से बात की गई तो उन्‍होंने कहा कि वे क्‍वेरेंटीन हैं. इस घटना की जांच कराने के बाद ही वे इसपर कुछ बोल पाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज