लाइव टीवी

किरण शेखावत: देश की पहली शहीद महिला अफसर के नाम पर हुआ वादा अब भी अधूरा
Delhi-Ncr News in Hindi

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: January 26, 2019, 8:28 PM IST
किरण शेखावत: देश की पहली शहीद महिला अफसर के नाम पर हुआ वादा अब भी अधूरा
फाइल फोटो- किरण शेखावत.

किरण राजस्थान के उस झुंझुनूं की रहने वालीं थी जिसके बारे में कहा जाता है कि इस ज़िले ने देश को सबसे ज्यादा सैनिक दिए है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 26, 2019, 8:28 PM IST
  • Share this:
लेफ्टिनेंट किरण शेखावत को ऑन ड्यूटी शहीद होने वाली देश की पहली महिला सैन्य अफसर के रूप में जाना जाता है. किरण राजस्थान के झुंझुनूं की रहने वालीं थी जिसके बारे में कहा जाता है कि इस ज़िले ने देश को सबसे ज्यादा सैनिक दिए है. खास बात ये है कि यहां की बेटियां भी सेना में अपना परचम लहराती है.

देश में सबसे ज्यादा सैनिक भी इसी जिले से शहीद हुए हैं. इस ज़िले के लिए गर्व की बात ये भी है कि ड्यूटी शहीद होने वाली देश की पहली महिला अधिकारी भी यहींं से है. नेवी में लेफ्टिनेंट किरण शेखावत का 24 मार्च 2015 की रात को गोवा में डॉर्नियर निगरानी विमान एक्सीडेंट का शिकार हो गया था और इसी में वह शहीद हो गईं थी.

किरण की शादी हरियाणा के मेवात के कुरथला गांव के विवेक सिंह छोकर से हुई.  विवेक भी भारतीय नौसेना में लेफ्टिनेंट के पद पर कार्यरत हैं. किरण के पिता विजेन्द्र सिंह शेखावत और ससुर श्रीचंद भी नौसेना से रिटायर्ड हैं.

ये भी पढ़ें- 25 आतंकवादियों से अकेले ही भिड़ गए थे मेजर मोहित शर्मा



किरण के बारे में एक खास बात ये भी है कि वर्ष 2015 में किरण ने गणतंत्र दिवस परेड में राजपथ पर नौसेना की महिला टुकड़ी का नेतृत्व कर पूरे राजस्थान का नाम देश में रोशन किया था. किरण की सास सुनीता देवी गांव की सरपंच हैं. जानकारी के अनुसार किरण की जेठानी राजश्री भी कोस्ट गार्ड में पायलट हैं.

ये भी पढ़ें- Army Day स्पेशल: इस सीमा पर 51 साल से चीन ने नहीं चलाई एक भी गोली!

...आजतक किरण के नाम पर नहीं बन सका कॉलेज

किरण  की ससुराल के गांव कुरथला के लोगों की मानें तो उस वक्त किरण की शाहदत को देखते हुए तत्कालीन सीएम ने गांव में एक कॉलेज खोलने की घोषणा की थी. लेकिन करीब चार साल बीतने के बाद भी अभी तक गांव में कॉलेज खुलना तो दूर इस के लिए ज़मीन तक नहीं देखी गई है.

जब इस बारे में गांव के लोगों ने अधिकारियों से बात की तो उनका कहना था कि गांव में महिला कॉलेज की कोई जरूरत नहीं है. क्योंकि पास में ही दूसरा कॉलेज है. गांव वालों का आरोप है कि पूरे हरियाणा में किरण शेखावत के नाम पर कुछ भी नहीं है. सत्यमेव जंग, समाज सुधारक मेवात क्षेत्र के राजुद्दीन इस संबंध में 2015 से लगातार देश के राष्ट्रपति और पीएम को पत्र लिख चुके हैं. साथ ही हरियाणा के सीएम और राज्यपाल को पत्र लिखा है.

ये भी पढ़ें- विदेशी सिपाही ‘वाकोस’ ने नक्सलियों की नाक में किया दम, अब तक 200 हमले किए नाकाम

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 26, 2019, 12:47 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर