पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल ने कहा-एलजी DDA के चेयरमैन, फिर फैसले लेने में इतनी देरी क्यों?

डीडीए कोविड केयर, आइसोलेशन सेंटर या अस्थाई अस्पताल बनाने के लिए खाली जमीन नि:शुल्क मुहैया कराए. (Vijay Goel /File Photo)

कोरोना महामारी में डिस्ट्रिक डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट लागू है. ऐसे में उप-राज्यपाल जो DDA के चेयरमैन हैं, और DDMA के भी अध्यक्ष हैं, फिर फैसलों में देरी क्यों की जा रही है? आज जब कोविड केयर सेंटर, ऑक्सीजन प्लांट, ओ.पी.ड़ी. की बेहद जरुरत है तब डी.डी.ए. को इसके लिए मोटे पैसे नहीं वसूलने चाहिए.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) में कोरोना (Corona) संक्रमित मरीजों की संख्या भले ही कम होने लगी हो, लेकिन अभी चिकित्सा संसाधनों की भारी कमी महसूस की जा रही है.

    पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल (Vijay Goel) ने अब डीडीए (DDA) से गुहार लगाई है कि वह खाली जमीन कोविड केयर सेंटर (COVID Care Centre), आइसोलेशन सेंटर (Isolation Centre) या अस्थाई अस्पताल (Temporary Hospital) बनाने के लिए नि:शुल्क मुहैया कराए. इसके साथ-साथ डीडीए कोई लाइसेंस फीस भी नहीं वसूले और अपने नियमों में भी ढील बरते.

    गोयल ने कहा कि आज जब कोविड केयर सेंटर, ऑक्सीजन प्लांट, ओ.पी.ड़ी. की बेहद जरुरत है तब डी.डी.ए. को इसके लिए मोटे पैसे नहीं वसूलने चाहिए.

    गोयल ने कहा कि डिस्ट्रिक डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट (DDMA) लागू है, ऐसे में उप-राज्यपाल जो डी.डी.ए. के चेयरमैन है और डी.डी.एम.ए के भी अध्यक्ष हैं, फिर फैसलों में देरी क्यों की जा रही है?

    गोयल ने कहा पिछले दिनों जब ऑक्सीजन की कमी थी तब एक निजी अस्पताल ने पास में खाली पड़ी डी.डी.ए की जमीन पर अस्थाई रूप से ऑक्सीजन प्लांट लगाने की मंजूरी मांगी थी. पहले तो उसको मंजूरी नहीं मिली और जब मिली तो पता चला कि डी.डी.ए. उस जमीन को अस्थाई तौर से देने के लिए भी काफी ज्यादा शुल्क मांग रही है.

    गोयल ने कहा कि डी.डी.ए. को ऐसे कोविड में आपात के समय में खुद भी अपने सेंटर खोलने चाहिये और अलग-अलग स्टेडियमों में कोविड के लिए सेंटर बनाने के लिए भी अनुमति देनी चाहिये.

    गोयल ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर के लिए अभी से तैयारियां शुरू करनी चाहिये. डी.डी.ए. अपने बहुत सारे नियमों में ढ़ील दे और अगर जमीन का प्रयोग कोविड से लड़ने के लिए है तो लाईसेंस फीस बिल्कुल खत्म करनी चाहिए.

    इन जगहों पर यदि कोविड केयर सेंटर, कोविड अस्पताल, आइसोलेशन केन्द्र, दवा और ऑक्सीजन भंडार गृह, वैक्सीनेशन सेंटर, एंबुलेंस शव वाहन आदि की पार्किंग, मरीजों की गाड़ियों के लिए पार्किंग, तीमारदारों के लिए वेटिंग रूम आदि बने तो इसके लिए डी.डी.ए. को बढ़ चढ़ कर मदद करनी चाहिये.