लाइव टीवी

Nirbhaya case:देश में दूसरी बार चार लोगों को दी गई है फांसी, इससे पहले इस जेल में दी गई थी
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: March 20, 2020, 9:00 AM IST
Nirbhaya case:देश में दूसरी बार चार लोगों को दी गई है फांसी, इससे पहले इस जेल में दी गई थी
वायरल वीडियो में कैदियों ने आरोप लगाया है कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए कोई इंतजाम नहीं है. (File photo-Tihar Jail)

तिहाड़ जेल (Tihar Jail) के लिए यह पहला मौका था जब एक साथ चार लोगों को फांसी (Hanging) दी गई है. इससे पहले तिहाड़ में दो लोगों रंगा-बिल्ला (Ranga Billa) को एक साथ फांसी दी गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2020, 9:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. यह कोई पहला मौका नहीं है कि जब जेल के अंदर एक साथ चार लोगों को फांसी (Hanging) दी गई हो. इससे पहले जिन चार लोगों को फांसी दी गई थी वो एक कत्ल (Murder) का केस था. जबकि यह निर्भया के गैंगरेप (Nirbhaya Gangrape Case) और मर्डर का केस था. हालांकि तिहाड़ जेल (Tihar Jail) के लिए यह पहला मौका था जब एक साथ चार लोगों को फांसी दी गई है. इससे पहले तिहाड़ में दो लोगों रंगा-बिल्ला को एक साथ फांसी दी गई थी.

यरवदा जेल में दी गई थी चार लोगों को फांसी

महाराष्ट्र में जोशी अभयंकर केस में एक साथ 10 लोगों का कत्ल हुआ था. इस केस में जिन्हें गुनहगार माना गया था वो राजेन्द्र जक्कल, दिलीप सुतार, शांताराम कान्होजी जगताप और मुनव्वर हारुन शाह थे. खास बात यह है कि यह सभी लोग एक कॉलेज के छात्र थे. 27 नवंबर 1983 को सभी चार गुनहगारों को यरवदा जेल में फांसी दी गई थी.



जबकि इन चारों की फांसी से पहले आज़ाद भारत में सिर्फ दो लोगों को 1982 में एक साथ फांसी दी गई थी. यह फांसी तिहाड़ जेल में हुई थी. यह दोनों गुनहगार रंगा-बिल्ला थे. वहीं निर्भया गैंगरेप केस के चारों आरोपियों को एक साथ फांसी देने का यह तिहाड़ जेल में पहला मौका है.



पवन जल्लाद ने राष्ट्रपति और पीएम-सीएम को लिखा लैटर

साइबर कैफे चलाने वाले दिव्यांशू बताते हैं कि जब पवन कुमार जल्लाद को कोई रास्ता नहीं सूझा तो उन्होंने प्रार्थना पत्र का सहारा लिया. कुछ दिन पहले ही उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, पीएम नरेन्द्र मोदी, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और दूसरे प्रशासनिक अधिकारियों को एक पत्र लिखा है. पत्र में ढेह छाज जाति को एससी का दर्जा और उसके लाभ देने की मांग की गई है. लेकिन अभी तक पत्र के जवाब में कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिला है.

ये भी पढ़ें-फांसी घर में यह बात कहना चाहता था पवन जल्लाद, लेकिन इसलिए रहा खामोश
Nirbhaya case: पवन जल्लाद बोला- एक ही रस्सी से कई गुनहगारों को दी जा सकती है फांसी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 20, 2020, 7:26 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading