Home /News /delhi-ncr /

fraud call center duping foreign nationals busted in gurugram nodnc

दिल्ली के डीएलएफ फेज 2 में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 5 महिलाओं समेत 9 गिरफ्तार

गुरुग्राम के डीएलएफ फेज-2 में चल रहा था फर्जी कॉल सेंटर.

गुरुग्राम के डीएलएफ फेज-2 में चल रहा था फर्जी कॉल सेंटर.

Delhi Fraud Call Center: पुलिस के मुताबिक साइबर क्राइम पुलिस टीम को गुप्त सूचना मिली थी कि फर्जी कॉल सेंटर डीएलएफ फेज-2 स्थित किराए के मकान से हो रहा था कॉल सेंटर संचालित किया जा रहा. पुलिस ने कॉल सेंटर के मालिकों के पास से 13.40 लाख रुपये बरामद किए.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

कॉल सेंटर के मालिकों के पास से 13.40 लाख रुपये बरामद.
किराए के मकान से हो रहा था कॉल सेंटर संचालित.

नई दिल्ली. दिल्ली एनसीआर के गुरुग्राम में फर्जी कॉल सेंटर संचालित करने के आरोप में पांच महिलाओं समेत नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने शनिवार को इसकी जानकारी दी और बताया कि पुलिस ने कॉल सेंटर के मालिकों के पास से 13.40 लाख रुपये बरामद किए. पुलिस के मुताबिक साइबर क्राइम पुलिस टीम को गुप्त सूचना मिली थी कि फर्जी कॉल सेंटर डीएलएफ फेज-2 स्थित किराए के मकान से हो रहा था कॉल सेंटर संचालित किया जा रहा.

डीएलएफ और साइबर क्राइम के सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) संजीव बल्हारा ने बताया, हमने कॉल सेंटर मालिकों और उनके एक साथी को गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार आरोपियों की पहचान कॉल सेंटर के मालिक आशु अरोड़ा, प्रतीक कुमार और मृत्युंजय के रूप में हुई है. आरोपियों ने स्वीकार किया कि पिछले एक महीने से कॉल सेंटर चलाया जा रहा था.

तीनों मालिक पहुंचे जेल
बल्हारा ने कहा कि आरोपियों के पास से 13.40 लाख रुपये भी बरामद किए गए हैं और तीनों को जेल भेज दिया गया है. मामले में तीनों आरोपियों को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. गिरफ्तार किए गए अन्य आरोपियों की पहचान चंची किचन, हिका असुमी, एटो वेरो और मुकेश शर्मा के रूप में हुई है.

डरा धमकाकर कैश खातों में जमा करा लेते थे
कॉल सेंटर मालिक फरीदाबाद निवासी डेविड वीआईसीआई डायलर पर विदेशी ग्राहकों की जानकारी अपलोड करता था. इस जानकारी के जरिए कॉल सेंटर वाले विदेशी नागरिकों को कॉल करके खुद को फेडरल पुलिस डिपार्टमेंट का सदस्य बताते थे और उनका नेशनल आईडेंटिटी नंबर सस्पेंड करने का डर दिखाकर विभिन्न कंपनियों के गिफ्ट कार्ड खरीदने के लिए मजबूर करते थे. इसके बाद इनसे गिफ्ट कार्ड का नंबर लेकर एक अन्य व्हाट्सएप ग्रुप पर भेज देते थे, जो आईटी और कार्ड के नाम से बनाए गए थे. गिफ्ट कार्ड को कैश करवाकर राशि अलग-अलग खातों में डलवा लेते थे.

Tags: Delhi news, Gurugram news, Haryana news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर