• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Corona Third Wave: कोरोना वेरिएंट का पता लगाने में मददगार होंगी Genome Labs, जानिए कैसे काम करेंगी ये?

Corona Third Wave: कोरोना वेरिएंट का पता लगाने में मददगार होंगी Genome Labs, जानिए कैसे काम करेंगी ये?

अब कोरोना के डेल्टा वेरिएंट जैसे नए-नए प्रकारों का पता लगाने के लिए भी कोविड-19 जिनोम सीक्वेंसिंग लैब्स स्थापित की गई हैं.(File Photo)

अब कोरोना के डेल्टा वेरिएंट जैसे नए-नए प्रकारों का पता लगाने के लिए भी कोविड-19 जिनोम सीक्वेंसिंग लैब्स स्थापित की गई हैं.(File Photo)

Corona Third wave: दिल्ली सरकार ने LNJP और ILBS अस्पताल में जीनोम सीक्वेंसिंग लैब स्थापित की हैं. यह लगभग 4-5 दिनों के टर्नअराउंड समय के साथ एक दिन में 5-7 नमूनों का सीक्वेंस (अनुक्रम) करने में सक्षम होंगी. हर सप्ताह 300 से ज्यादा सैंपल को सीक्वेंस करने की क्षमता इन लैब्स में है. इनका परिणाम 5 से 7 दिनों के भीतर आएगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना की तीसरी लहर (Third wave of Corona) से निपटने के लिए दिल्ली सरकार (Delhi Government) हर संभव कोशिश में जुटी हुई हैं. सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किये जा रहे हैं.

    वहीं, अब कोरोना के डेल्टा वेरिएंट जैसे नए-नए प्रकारों का पता लगाने के लिए भी कोविड-19 जिनोम सीक्वेंसिंग लैब्स (Genome Sequencing Labs) स्थापित की गई हैं. उत्तर भारत (Northern India) में इस तरह की यह तीसरी सुविधा मानी जा रही है.

    दिल्ली सरकार ने लोक नायक अस्पताल और मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज के संयुक्त जेनेटिक लेबोरेटरी में सार्स सीओवी-2 जीनोम सिक्वेंसिंग (अनुक्रमण) सुविधा की शुरुआत की है. साथ ही आईएलबीएस अस्पताल में भी एक अन्य जिनोम सीक्वेंसिंग लैब स्थापित की गई है. उत्तर भारत में इस तरह की यह तीसरी सुविधा मानी जा रही है.

    ये भी पढ़ें : COVID-19 in India: कोरोना से मौत का आंकड़ा बढ़ा, 24 घंटे में 42766 नए केस, 1206 लोगों की मौत

    केंद्र सरकार के NCDC लैब में जांच को जाते थे सैंपल
    इस बीच देखा जाए तो अभी तक दिल्ली सरकार सभी सैंपल केंद्र सरकार के अधीनस्थ एनसीडीसी लैब (NCDC Lab) को भेजती आई है. लेकिन अब दिल्ली सरकार की अपनी लैब में इन सभी सैंपल की जांच की जा सकेगी.  जेनेटिक एनाॅलाइजर मशीन से विश्लेषण कर नए वेरिएंट का पता लगाया जा सकेगा और जब वेरिएंट का पता चल जाएगा, तो उससे सरकार को निपटने के लिए रणनीति बनाने में मदद मिलेगी.

    बताते चलें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) की ओर से हाल ही में इन दोनों लैब्स का उद्घाटन किया गया. सीएम केजरीवाल का इन दोनों लैब्स के बारे में कहना है कि यह मशीन संभावित तीसरी लहर में बहुत मददगार साबित होगी. और कोरोना खत्म होने के बाद भी इससे दूसरी बीमारियों का विश्लेषण किया जा सकेगा.

    ये भी पढ़ें : डबल म्यूटेंट डेल्टा वेरिएंट से कई गुना ज्यादा घातक हो सकता है लैम्ब्डा, ये 5 बातें बढ़ाती हैं चिंता

    वायरस के बदलते स्वरूप का पता लगाने में मदद करती है जीनोम सीक्वेंसिंग
    इस बीच देखा जाए तो जब पूरी दुनिया कोरोना महामारी का सामना कर रही है और यह वैश्विक स्तर पर सामाजिक व आर्थिक व्यवधान पैदा कर रही है. ऐसे में जीनोमिक सीक्वेंसिंग यह समझने के लिए मूलभूत उपकरण बन गया है कि वायरस कैसे विकसित हो रहा है और इससे बचाव के लिए हमें खुद को कैसे अनुकूलित करने की जरूरत है. यह एक ऐसी तकनीक है, जो आम लोगों में वायरस के बदलते स्वरूप को समझने और पहचानने में मदद करती है.

    सार्स सीओवी-2 के जीनोम सीक्वेंसिंग से उन स्ट्रेंस (उपभेदों) की पहचान करने में मदद मिलेगी, जो संक्रामकता की बढ़ी हुई दर और नैदानिक परिणामों की गंभीरता के साथ जीवन के लिए अधिक खतरनाक हैं.

    ये भी पढ़ें : दिल्ली में कोरोना की तीसरी लहर से बचने को कलर-प्लान, येलो पर जिम-थियेटर बंद तो ऑरेंज होते ही लॉकडाउन

    सार्स सीओवी-2 के जीनोम सिक्वेंसिंग द्वारा निरंतर वायरोलॉजिकल निगरानी से सर्कुलेटिंग वायरल स्ट्रेन पर नियंत्रण रखने में मदद मिलेगी और साथ ही शहर में किसी भी नए वेरिएंट (संस्करण) की समय पर पहचान व पता लगाने में मदद मिलेगी और दिल्ली को बेहतर तरीके से कोविड-19 संक्रमण की किसी भी लहर से निपटने के लिए तैयार किया जा सकेगा.

    इसी उद्देश्य से दिल्ली सरकार ने लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल और आईएलबीएस में सार्स सीओवी-2 के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग शुरू की गई है.

    आसानी से उपलब्ध हो सकेंगे जीनोम सीक्वेंस डेटा 
    इससे दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) और आसपास के एरिया में क्लीनिकल महत्व के साथ नए स्ट्रेंस और वेरिएंट की पहचान और स्क्रीनिंग के लिए सार्स सीओवी-2 वायरस की अच्छी गुणवत्ता वाले संपूर्ण जीनोम सीक्वेंस डेटा प्राप्त करने में मदद मिलेगी.

    ये भी पढ़ें : UP Population Control Bill: एक बच्चे वालों को फायदा, दो से अधिक पर सजा! यूपी में जनसंख्या कानून का मसौदा तैयार

    साथ ही, यह डेटा, जीनोमिक डेटा के आधार पर नए स्ट्रेंस या वेरिएंट के वर्गीकरण में भी मदद करेगा. संक्रमण की क्षेत्र या जिलावार निगरानी को लक्षित कर भविष्य में संक्रमण में होने वाली वृद्धि को नियंत्रित करने के लिए लक्षित जीनोमिक निगरानी को बढ़ाया जा सकता है.

    हर सप्ताह 300 से ज्यादा सैंपल को सीक्वेंस करने की क्षमता
    अब दिल्ली सरकार लगभग 4-5 दिनों के टर्नअराउंड समय के साथ एक दिन में 5-7 नमूनों का सिक्वेंस (अनुक्रम) करने में सक्षम होगी. यह सुविधा मुख्य रूप से निगरानी और सार्वजनिक स्वास्थ्य उद्देश्य के लिए होगी. हर सप्ताह 300 से ज्यादा सैंपल को सीक्वेंस करने की क्षमता इन लैब्स में है. इनका परिणाम 5 से 7 दिनों के भीतर आएगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज