होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /गाजियाबाद में कुत्‍ता काटने के मामले में डीएम, एसएसपी और नगर आयुक्‍त को नोटिस, जानें पूरा मामला

गाजियाबाद में कुत्‍ता काटने के मामले में डीएम, एसएसपी और नगर आयुक्‍त को नोटिस, जानें पूरा मामला

जवाब देने के लिए 20 दिन का समय दिया गया है.

जवाब देने के लिए 20 दिन का समय दिया गया है.

राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग ने कुत्‍ता काटने के मामले को संज्ञान ले लिया है. आयोग ने डीएम, एसएसपी और नगर आयुक्त को नोट ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    गाजियाबाद. शहर में पिछले दिनों कुत्ता काटने के मामलों में डीएम, एसएसपी और नगर आयुक्‍त को नोटिस जारी किया गया है. तीनों अधिकारियों को 20 दिन का समय दिया गया है. इस दौरान नोटिस का जवाब देना है. दूसरी ओर कुत्ता काटने की घटनाओं को देखते हुए नंदीपार्क में कुत्‍तों की नसबंदी का अभियान भी शुरू किया जा रहा है.

    राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग ने कुत्‍ता काटने के मामले को संज्ञान ले लिया है. आयोग ने डीएम, एसएसपी और नगर आयुक्त को नोटिस जारी कर 20 दिन के अंदर अब तक की गई कार्रवाई का विवरण देने का कहा है.

    मानवाधिकार कार्यकर्ता विष्णु गुप्ता की याचिका को स्वीकार कर चार बिंदुओं पर तीनों विभागाध्यक्षों से ब्यौरा मांगा है. पहला अभिभावकों की ओर से थाने में दर्ज कराए गए मामलों में पुलिस की कार्रवाई, बच्चों के इलाज की व्यवस्था और आवश्यक वित्तीय सहायता के संबंध में की गई कार्रवाई की रिपोर्ट तलब की गई है. इसके अलावा प्रकरण में संबंधित सुझावों पर पारित रिपोर्ट और अब तक की गई कार्रवाई की विस्तृत रिपोर्ट भी प्रस्तुत करने को कहा गया है.

    आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

    दिल्ली-एनसीआर
    दिल्ली-एनसीआर

    याचिका में मानवाधिकार कार्यकर्ता ने कहा है कि पालतू कुत्ते के काटने से जहां च बच्चों को गहरे जख्म हुए हैं. वहीं उसके की इलाज में अभिभावकों को रुपये खर्च करने पड़े हैं. साथ ही याचिका में पालतू कुत्तों का पंजीकरण, की वैक्सीनेशन टीकाकरण के साथ घर से बाहर कुत्तों को निकालने पर उनके मुंह पर जालीदार मास्क लगाने, निराश्रित कुत्तों का बधियाकरण कराने, उनको शेल्टर होम में रखने के संबंध में नगर निगम द्वारा प्रभावी नीति बनाने, पीड़ित बच्चों का बेहतर इलाज कराने तथा उनको आर्थिक सहायता प्रदान करने की भी मांग की गयी है.

    Tags: Dogs, Ghaziabad News

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें